मात्र 30 दिनों में भारी वाहन चलाने का मिलेगा नि:शुल्क प्रशिक्षण

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अब व्यावसायिक वाहन चलाने के लिए मात्र 30 दिनों में प्रशिक्षण प्राप्त कर सकेंगे। राज्य परिवहन विभाग ने जिले के परिवहन कार्यालय को पत्र के माध्यम से अवगत कराया है। विभाग द्वारा भारी वाहन चालकों के लिए नि:शुल्क ट्रेनिंग की व्यवस्था औरंगाबाद स्थित चालक प्रशिक्षण सह यातायात शोध संस्थान में आयोजित होगा। ट्रेनिंग के दौरान प्रशिक्षुओं को मुफ्त भोजन व रहने के लिए आवास की व्यवस्था सरकार द्वारा की जाएगी। प्रशिक्षण योजना पर होनेवाले खर्च का वहन बिहार सड़क सुरक्षा परिषद द्वारा किया जाएगा। जिले में भारी वाहन चालक प्रशिक्षण योजना के अंतर्गत अब व्यावसायिक वाहन चलाने के लिए नि:शुल्क ट्रेनिंग दिए जाने का आदेश राज्य परिवहन आयुक्त ने जारी करते हुए जिला परिवहन को व्यावसायिक वाहन चालक ट्रेनिंग के लिए आवेदकों की सूची तैयार करने के लिए पत्र लिखा है, जिसमें प्रशिक्षण की अवधी मात्र 30 दिनों की होगी। प्रशिक्षक द्वारा वाहन चलाने के पहले प्रशिक्षु चालकों को ट्रैफिक रूल के साथ-साथ कुछ आवश्यक तकनीकी ज्ञान का होना आवश्यक है। प्रशिक्षण प्राप्त चालक कहीं निकल रहे हैं, अगर वाहन में कोई गड़बड़ी आ जाती है तो उन्हें पूरी तरह मैकेनिक पर निर्भर रहने की जरूरत नहीं होगी।

परिवहन कार्यालय।

निजी वाहन चालक भी ले सकते हैं प्रशिक्षण : डीटीओ

जिला परिवहन पदाधिकारी मोहम्मद जिआउल्लाह ने बताया अब निजी वाहनों के चालक भी व्यावसायिक वाहन चलाने का प्रशिक्षण ले सकते हैं। निजी वाहन चलानेवाले चालक प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद भारी वाहनों के लाइसेंस का आवेदन कर सकेंगे। भारी परिवहन वाहनों के लिए युवाओं को नि:शुल्क प्रशिक्षण का लाभ मिलेगा। भारी वाहन चालकों का प्रशिक्षण मात्र 30 दिनों तक की अवधी में पूरा होगा, जो चालक प्रशिक्षण व यातायात शोध संस्थान औरंगाबाद में कराया जाएगा। भारी परिवहन वाहनों का लाइसेंस प्राप्त करने के लिए फर्जी तौर-तरीकों पर भी रोक लगेगी। इससे जिले में व्यावसायिक वाहनों के लिए कुशल ड्राइवराें की कमी नहीं होगी।

खबरें और भी हैं...