पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Sasaram News Goswami Tulsidas Was A Poet Philosopher And Saint In The True Sense

सच्चे अर्थ में कवि, दार्शनिक व संत थे गोस्वामी तुलसीदास

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सासाराम| स्थानीय आवासीय केंद्रीय विद्यालय में बुधवार को गोस्वामी तुलसीदास की जयंती श्रद्धा एवं भक्ति के मनाई गई। कार्यक्रम का उद्घाटन डॉ. सत्य नारायण उपाध्याय ने की। उपस्थित लोगों ने तुलसी दास की चित्र पर माल्यार्पण कर नमन किया। कार्यक्रम का नेतृत्व विद्यालय के संयोजक सह वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के पूर्व हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ. नंदकिशोर तिवारी ने किया। उन्होंने ने कहा कि गोस्वामी जी से बड़ा प्रासंगिक और पढ़ा जाने वाला न कोई संत है और न कवि। वे सच्चे अर्थ में कवि, दार्शनिक तथा संत है, जिनके शब्दों में मानवता और मनुष्यता के प्रति प्रेम उजागर होता है। उनका रामचरितमानस समाज के लोगों को प्रेम की प्रेरणा देता है। वह आज भी उतना ही प्रासंगिक है।

खबरें और भी हैं...