पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सासाराम पहुंचे रेल डीआईजी ने कहा- दर्ज मामलों का त्वरित निष्पादन करें

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने बुधवार को सासाराम रेलवे स्टेशन पहुंचे रेल डीआईजी उमाशंकर प्रसाद ने जीआरपी इंस्पेक्टर कार्यालय का निरीक्षण किया। कांडों की समीक्षा के दौरान उन्होंने जीआरपी के पदाधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि थाने में दर्ज मामलों का त्वरित निष्पादन करें, नहीं तो कार्रवाई के लिए तैयार रहे। कार्य में लापरवाही का कोई स्थान नहीं है। कहा कि जीआरपी अपराध नियंत्रण के लिए वैज्ञानिक अनुसंधान (मोबाइल ट्रैकिंग,) को भी अपनाती है। जल्द ही रेल अंचल निरीक्षक के द्वारा रेल साइबर सेनानी के नाम से वाट्सएप समूह का निर्माण किया जाएगा। इसके लिए रेल पुलिस निरीक्षक को तत्काल निर्देश भी दिया गया है कि इस अंचल में पड़ने वाले सभी रेल थानाध्यक्ष से वैसे व्यक्तियों के व्हाट्सएप नंबर उपलब्ध कराए, जो रेल पुलिस को अपराध नियंत्रण में सहयोग करते है। ताकि उनके माध्यम से भी रेलवे परिसर में अपराधियों की गतिविधि की जानकारी तत्काल मिल सके और अपराधी को पकड़ा जा सके। समूह में स्थानीय लोग एवं जनप्रतिनिधि को शामिल करने का निर्देश दिया। कहा कि वैसे तो जीआरपी और आरपीएफ अपना कार्य कुशलता पूर्वक कर रही है, किंतु समूह के गठन होने से इनके कार्यों में सहयोग मिलेगा। ग्रामीण और जनप्रतिनिधियों के स्तर पर भी अपराध की सूचना समय पर उपलब्ध हो सकेगी। सासाराम स्टेशन पहुंचे डीआईजी को जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर से सम्मानित किया। मौके पर डीएसपी सुनील कुमार के अलावा जीआरपी निरीक्षक राम प्रबोध यादव, थानध्यक्ष ज्योति प्रकाश मौजूद थे।

गॉर्ड ऑफ ऑनर लेते रेलवे डीआईजी।

डेहरी में अपराध नियंत्रण पर मंत्रणा

डीआईजी ने डेहरी रेलवे स्टेशन परिसर में भी सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। रेलवे अतिथि गृह में पुलिस अधिकारियों से स्टेशन परिसर में अपराध नियंत्रण पर मंत्रणा की। साथ ही थानाध्यक्ष अली अकबर खान एवं आरपीएफ निरीक्षक मोहम्मद शाहिद खान से आपराधिक गतिविधियों पर नियंत्रण के बारे में जानकारी ली। जीआरपी एवं आरपीएफ अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिया। राजकीय रेल पुलिस थाना का भवन का निर्माण राज्य सरकार द्वारा रेलवे की जमीन में ही डेहरी ऑन सोन स्टेशन के पास कराया जा रहा है। निर्माण कार्य की गति तीव्र करने का भी निर्देश दिया गया है, ताकि थाना आवश्यक सुविधाओं से सुसज्जित हो सके।

सिटी रिपोर्टर | सासाराम

सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने बुधवार को सासाराम रेलवे स्टेशन पहुंचे रेल डीआईजी उमाशंकर प्रसाद ने जीआरपी इंस्पेक्टर कार्यालय का निरीक्षण किया। कांडों की समीक्षा के दौरान उन्होंने जीआरपी के पदाधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि थाने में दर्ज मामलों का त्वरित निष्पादन करें, नहीं तो कार्रवाई के लिए तैयार रहे। कार्य में लापरवाही का कोई स्थान नहीं है। कहा कि जीआरपी अपराध नियंत्रण के लिए वैज्ञानिक अनुसंधान (मोबाइल ट्रैकिंग,) को भी अपनाती है। जल्द ही रेल अंचल निरीक्षक के द्वारा रेल साइबर सेनानी के नाम से वाट्सएप समूह का निर्माण किया जाएगा। इसके लिए रेल पुलिस निरीक्षक को तत्काल निर्देश भी दिया गया है कि इस अंचल में पड़ने वाले सभी रेल थानाध्यक्ष से वैसे व्यक्तियों के व्हाट्सएप नंबर उपलब्ध कराए, जो रेल पुलिस को अपराध नियंत्रण में सहयोग करते है। ताकि उनके माध्यम से भी रेलवे परिसर में अपराधियों की गतिविधि की जानकारी तत्काल मिल सके और अपराधी को पकड़ा जा सके। समूह में स्थानीय लोग एवं जनप्रतिनिधि को शामिल करने का निर्देश दिया। कहा कि वैसे तो जीआरपी और आरपीएफ अपना कार्य कुशलता पूर्वक कर रही है, किंतु समूह के गठन होने से इनके कार्यों में सहयोग मिलेगा। ग्रामीण और जनप्रतिनिधियों के स्तर पर भी अपराध की सूचना समय पर उपलब्ध हो सकेगी। सासाराम स्टेशन पहुंचे डीआईजी को जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर से सम्मानित किया। मौके पर डीएसपी सुनील कुमार के अलावा जीआरपी निरीक्षक राम प्रबोध यादव, थानध्यक्ष ज्योति प्रकाश मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...