आपदा से निपटने के लिए छात्र होंगे ट्रेंड

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
एक जुलाई से जिले के सभी प्राइवेट एवं सरकारी स्कूलों में विद्यालय सुरक्षा पखवाड़ा का आयोजन किया जाएगा। स्कूलों में आपदा से बचाव के संबंध में छात्रों को प्रशिक्षित किया जाएगा। पखवारा मनाने के लिए डीईओ कार्यालय द्वारा प्रधानाध्यापकों को निर्देशित किया गया है। निजी एवं सरकारी स्कूलों में मुख्यमंत्री विद्यालय सुरक्षा कार्यक्रम के अन्तर्गत सभी बच्चे को सुरक्षा की जानकारी के लिए प्रत्येक शनिवार को सुरक्षित शनिवार मनाया जा रहा है। प्रत्येक वर्ष एक जुलाई से 15 जुलाई तक विद्यालय सुरक्षा पखवारा तथा 4 को सुरक्षा जागरुकता दिवस मनता है।

आपदा से बचाव के लिए प्रशिक्षण लेते बच्चे का फाइल फोटो।

सिटी रिपोर्टर|सासाराम

एक जुलाई से जिले के सभी प्राइवेट एवं सरकारी स्कूलों में विद्यालय सुरक्षा पखवाड़ा का आयोजन किया जाएगा। स्कूलों में आपदा से बचाव के संबंध में छात्रों को प्रशिक्षित किया जाएगा। पखवारा मनाने के लिए डीईओ कार्यालय द्वारा प्रधानाध्यापकों को निर्देशित किया गया है। निजी एवं सरकारी स्कूलों में मुख्यमंत्री विद्यालय सुरक्षा कार्यक्रम के अन्तर्गत सभी बच्चे को सुरक्षा की जानकारी के लिए प्रत्येक शनिवार को सुरक्षित शनिवार मनाया जा रहा है। प्रत्येक वर्ष एक जुलाई से 15 जुलाई तक विद्यालय सुरक्षा पखवारा तथा 4 को सुरक्षा जागरुकता दिवस मनता है।

एक से तीन जुलाई के बीच बाल संसद गठन

डीपीओ प्राथमिक शिक्षा एवं समग्र शिक्षा अभियान ने बताया कि एक से पंद्रह जुलाई के बीच विद्यालय सुरक्षा पखवाड़ा के दरमियान कई तरह की गतिविधियां और कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। एक से तीन जुलाई के बीच बाल संसद का पुनर्गठन एवं बाल प्रेरकों का आवश्यकतानुसार चयन किया जाएगा। साथ ही सुरक्षित शनिवार के वार्षिक सारणी के क्रियान्वयन हेतु सभी का प्रशिक्षण होना है।

स्वच्छता के बारे में भी किया जाएगा जागरुक

10 से 12 जुलाई को हाथ धुलाई व्यक्तिगत स्वच्छता की जानकारी बच्चों को दी जाएगी। 13 जुलाई को भूकंप के संदर्भ में कौशल विकास मॉकड्रिल तथा अभ्यास बच्चों को कराया जाएगा। 15 जुलाई को विद्यालय के प्राचार्य सभी शिक्षक, विद्यालय के शिक्षा समिति के सदस्यों, बाल प्रेरकों एवं बाल संसद तथा मीना मंच के सदस्यों को कार्यक्रम के उद्देश्य व रूपरेखा के संबंध में जानकारी देंगे।

खबरें और भी हैं...