पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पुराने मकान को भूकंपरोधी बनाने के लिए दिया प्रशिक्षण

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अगर आपके पास पुराना मकान है तो भूंकप जैसे प्राकृतिक आपदा से डरने की कोई जरूरत नहीं है। अब नये के साथ-साथ-साथ पुराने मकान भी भूकंपरोधी होंगे। इसे ले स्थानीय आपदा प्रबंधन विभाग के तत्वाधान में डीआरडीए सभागार में बुधवार से कनीय अभियंताओं का चार दिवसीय प्रशिक्षण प्रारंभ हुआ। जिसमें इंजीनियरिंग कॉलेज सहरसा के सहायक प्राध्यापक सह प्रशिक्षक मिथिलेश कुमार समेत अन्य प्रशिक्षकों ने अभियंताओं को भूकंपरोधी मकान निर्माण कराने की दिशा में आवश्यक जानकारी दी। जिला आपदा के प्रभारी पदाधिकारी अनिल कुमार पांडेय ने बताया अभियंताओं को प्रशिक्षित करने के लिए पटना से चार सदस्यीय प्रशिक्षकों के दल को बुलाया गया है, जो चार दिन तक प्रशिक्षण दे भूकंपरोधी मकान बनाने को ले परिपक्व करेंगे। उल्लेखनीय है कि आपदा प्रबंधन विभाग के द्वारा जिले के सभी प्रखंडों में नए मकान को भूकंपरोधी बनाने का प्रशिक्षण राज मिस्त्रियों को दिया जा रहा है।

प्रशिक्षकों ने बताया कि बिहार नेपाल से सटे राज्य है, इसलिये भूकंप जोन में आता है। पूरे सूबे को चार जोन में बांटते हुए रोहतास को तीसरे जोन में रखा गया है। इसलिये सुरक्षा के लिए मकान का भूकंपरोधी होना अनिवार्य है। मकान भूकंपरोधी कैसे बने इसकी जानकारी अभियंताओं को विस्तार से दी जा रही है। प्रायोगिक तौर पर भी बताए जाएंगे।

खबरें और भी हैं...