हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारों के साथ ईद-ए-मिलाद-उन-नबी पर निकाला गया भव्य जुलूस

Shekhapura News - इस्लाम धर्म के संस्थापक पैगंबर मोहम्मद के सौम-ए-पैदाइश पर ईद-ए-मिलाद-उन-नबी धूमधाम से मनाया गया। शहर में ईद-ए-मिलाद...

Nov 11, 2019, 06:21 AM IST
इस्लाम धर्म के संस्थापक पैगंबर मोहम्मद के सौम-ए-पैदाइश पर ईद-ए-मिलाद-उन-नबी धूमधाम से मनाया गया। शहर में ईद-ए-मिलाद के मौके पर इस्लाम धर्म को मानने वाले बड़ी संख्या में लोगों ने शिरकत की। इस मौके पर शहर में एक विशाल जुलूस निकाला गया। जिसमें राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे के साथ इस्लामिक झंडा लहराते हुए लोग इस जुलूस में शामिल हुए। इसमें हज़ारों की संख्या में बड़े, बूढ़े एवं बच्चे अपने हाथों में इस्लाम धर्म का झंडा लेकर चल रहे थे, वहीं कई लोग हाथों में तिरंगा लेकर चल रहे थे। इसके साथ इस्लाम जिंदाबाद, हिन्दुस्तान जिंदाबाद का नारा लगते हुए चल रहे थे। शहर के बड़ी दरगाह स्थित जामा मस्जिद से निकले इस जुलूस में लालबाग, अहियापुर, बंगाली पर मुहल्ले के लोगों ने शिरकत की। जामा मस्जिद के ईमाम मो० मिनतुल्लाह हबीब के नेतृत्व में निकाले गए इस जुलूस में लोग बड़े ही जोश व खरोश के साथ शामिल हुए। घोड़े, गाजे-बाजे के साथ निकला यह जुलूस शहर के विभिन्न क्षेत्रों का भ्रमण किया। शहर के कटरा बाजार, होते हुए जमालपुर स्थित मस्जिद के समीप से यह जुलूस शहर के चांदनी चौक, कोतवाली मस्जिद होते हुए पुनः बड़ी दरगाह स्थित जामा मस्जिद पर समाप्त हुई। इसको लेकर पूरा इलाका आस्था के सैलाब में डूबा हुआ था। इसमें युवाओं में गजब का उत्साह देखने को मिल रहा था। युवाओं की टोली सर पर हरा साफा बांधे हाथों में झंडा लिए नारे लगा रहे थे।

जन्मदिन के मौके पर निकाला जुलूस

पूर्व वार्ड पार्षद शाहबाज खान ने बताया कि इसी दिन 570 ई. में हजरत मो.सल्लल्लाहे अलैहे वसल्लम की पैदाईस मक्का में हुआ था। इस्लामिक कैलेंडर के तीसरे महीने रबी उल अव्वल की 12 वीं तारीख को पैगम्बर साहब का जन्म माना जाता है। यह दिन पैगम्बर मोहम्मद और उनके उपदेशों के लिए पूरी तरह समर्पित रहता है। मुस्लिम धर्मावलंबी इस दिन फातेहा व दरूद करवाते हैं और जुलूस निकालते हैं। कई स्थानों पर इस दिन मेला भी लगाया जाता है। बड़ी दरगाह से लगभग 20 वर्षों से भव्य जुलूस निकाली जा रही है।

इस्लामिक झंडे के साथ हाथों में तिरंगा लेकर शामिल लोगों ने दिखाया देशभक्ति का जज्बा

जुलूस में शामिल लोग।

जगह-जगह पर जूलूस का किया गया भव्य स्वागत

इस दौरान लोगों ने सड़क से गुजरते हुए जुलूस का भव्य स्वागत किया। जुलूस में शामिल लोगों पर फूलों की वर्षा कर लोगों लोगों को स्वागत करते ह ए देखा गया। वहीं कहीं स्थानों पर जुलूस में शामिल लोगों के स्वागत में शर्बत और पानी की व्यवस्था भी की गई थी। शहर के तरछा मुहल्ले में शर्बत का इंतजाम किया गया था। जबकि शहर के चांदनी चौक के समीप भी जुलूस में शामिल लोगों के लिये पानी और शर्बत की व्यवस्था की गई थी।

तिरंगा के साथ लोग।

जुलूस की निगरानी में पुलिस।

31 स्थानों पर मजिस्ट्रेट व पुलिस बल तैनात| पैगम्बर साहेब का जन्म दिन धूमधाम मनाए जाने को लेकर सुरक्षा का पूरा इंतजाम किया गया था। जुलूस में सुरक्षा के मद्देनज़र मजिस्ट्रेट एवं पुलिस के अधिकारी और जवान स्कॉट कर रहे थे। इस बाबत एसपी दयाशंकर ने कहा कि सुरक्षा को लेकर 31 स्थानों पर मजिस्ट्रेट एवं पुलिस बालों को तैनात किया गया है। जबकि विभिन्न थानों के अलावे 6 गश्ती दल क्षेत्रों का मॉनेटरिंग कर रही है। इसके साथ ही सोशल मीडिया पर टेक्निकल सेल के द्वारा पैनी नजर रखी जा रही है। सोशल मीडिया के जरिए अफवाह फैलाने और माहौल खराब करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर इंटरनेट सेवा को भी बाधित की जाएगी। साथ ही सभी थाने में अराजक तत्वों की सूची बनाई गई है।

प्रखंडों में भी निकाले जुलूस

इस्लाम धर्म के प्रवर्तक हजरत मोहम्मद साहब के जन्मदिन पर मनाये जाने वाले बारावफात सह मिलादुन्नबी के मौके पर प्रखंड के मस्जिदों में कुरानखानी सह मिलादुन्नबी का आयोजन किया गया। इस दौरान अरियरी, बरबीघा, चेवाड़ा, शेखोपुरसराय एवं घाटकुसुम्भा के मस्जिदों में धार्मिक प्रवचन के दौरान कहा गया कि मोहम्मद साहब द्वारा बताये रास्ते पर चलकर ही आज की विषम परिस्थिति में समाज का कल्याण संभव है। इस दौरान आपसी एकता और सद्भाव बनाये रखे जाने पर बल दिया गया। जिसमें बड़ी ही संख्या में लोगों ने शिरकत की।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना