फसल लगाने से पूर्व खेतों की उर्वरा क्षमता और मिट्टी जांच अवश्य कराएं

Sitamarhi News - प्रखंड क्षेत्र के सोनवर्षा पंचायत भवन परिसर में मंगलवार को किसान चौपाल प्रखंड उद्यान पदाधिकारी पंकज कुमार सिंह...

Dec 04, 2019, 09:32 AM IST
प्रखंड क्षेत्र के सोनवर्षा पंचायत भवन परिसर में मंगलवार को किसान चौपाल प्रखंड उद्यान पदाधिकारी पंकज कुमार सिंह की अध्यक्षता में आयोजित की गयी। इस अवसर पर पंकज कुमार ने कहा कि रबी फसल की बुआई नवंबर माह तक ही उचित समय है। विशेष परिस्थिति में किसान 10 दिसम्बर तक गेहूं व अन्य रबी फसल खेतों में लगा सकते है। इस अवधि तक रबी फसल लगाने से पैदावार अच्छी होगी। वहीं इस तिथि के बाद रबी फसल लगाने पर पैदावार अच्छे होने का अनुमान लगाना सही साबित नहीं होता है। फसल लगाने से पूर्व खेतों की उर्वरक क्षमता एवं मिट्टी जांच अवश्य करायें। खेतों की उर्वरक क्षमता बढ़ाने के लिए वर्मी कंपोस्ट खाद का ही प्रयोग करें। अपने खेतों की उर्वरक क्षमता बनाए रखने के लिए खेतों में पराली नहीं जलाएं। पराली जलाने से उर्वरक क्षमता में कमी आ जाती है। जिस कारण पैदावार घट जाता है। पराली जलाने वाले किसानों को कोई भी सरकारी बीज और अन्य बीमा तथा अनुदान का लाभ नहीं मिलता है। किसान चौपाल में किसान संजय कुमार सिंह एवं भरत ठाकुर ने नील गाय द्वारा फसल नुकसान की बात रखी गई। जिस पर उद्यान पदाधिकारी ने कहा कि नील गाय से फसल नुकसान के बचाव के लिए फसलों पर गंधक नाशक दवा का छिड़काव करें। जिसके बदबू से नील गाय फसल से दूर हो जायेगा। मौके पर शिव कुमार गुप्ता, रवि कुमार, जनक यादव सहित दर्जनों लोग उपस्थित थे।

सोनबरसा पंचायत भवन में किसान चौपाल का हुआ आयोजन।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना