दर्जनों जगहों पर रेनकट व सुराग होने से बांध टूटने का भय, लिया ऊंची जगहों पर शरण

Sitamarhi News - भास्कर न्यूज| शिवहर/पिपराही/तरियानी नेपाल सहित जिले में लगातार सात दिनों से हो रही भारी बारिश से बागमती नदी उफान...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 08:05 AM IST
Mejargang News - due to raincoat and clues in dozens of places fear of breaking the dam taken shelter in high places
भास्कर न्यूज| शिवहर/पिपराही/तरियानी

नेपाल सहित जिले में लगातार सात दिनों से हो रही भारी बारिश से बागमती नदी उफान पर है। जिसके कारण जिला बाढ़ की चपेट में आ गया है। बागमती नदी के जलस्तर में लगातार भारी वृद्धि हो रही है। वहीं, कई गांव बाढ़ की चपेट में आ गया है। बागमती नदी के दोनों तटबंध पर दर्जनों जगहों पर रेनकट एवं सुराग होने के कारण लोगों को बांध टूटने का भय सता रहा है। हालांकि जिला प्रशासन बांध सुरक्षित होने का दावा कर रही है। अचानक जलस्तर में भारी वृद्धि के कारण जिले के दो दर्जन गांव में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। वही बेलवा, नरकटिया, अम्बाकोठी, अम्बा शेख टोली सहित आधा दर्जन गांव बाढ़ से पूरी तरह घिर गया है। शिवहर- पिपराही राज्य उच्च पथ संख्या 54 पर लचका पुल, कोठियां सरसौला खुर्द के बीच, चमनपुर व मेसौढ़ा के बीच दोस्तिया और बेलवा के बीच जगह जगह पानी का तेज बहाव जारी है। बेलवा व देवापुर के बीच सड़क पर करीब 8 फीट पानी का तेज बहाव होने के कारण शिवहर- मोतिहारी व शिवहर- सीतामढ़ी का सड़क सम्पर्क भंग हो गया है। शिवहर- सीतामढ़ी एनएच 104 पर डुब्बा से आगे कोला पुल के समीप डायवर्सन में चार फीट पानी का तेज बहाव होने के कारण यातायात ठप है। कई जगहों पर कटाव जारी है। जबकि अम्बा- जिहुली पथ में अम्बा शेख टोली के पास करीब 40 फीट में सड़क टूट जाने के कारण गांव के लोगों का जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है। बाढ़ को देखते हुए कैंप अंबा हाईस्कूल में कैंप बनाया गया है। बेलवा नदी के डैम के पास दोनों तरफ से बांध का कटाव कल शाम से ही तेजी से हो रहा है। जिस कारण नरकटिया गांव, बेलवा, सिंगराही, अंबा कोठी पूरी तरीके से जलमग्न हो गया है तथा आवागमन गांव का बाधित हो चुका है। वही दोस्तीया बांध में भी रिसाव जारी है। बसहिया मुखिया मो. शमशाद की देख रेख में बोड़ा में मिट्टी भरकर रिसाव रोकने का प्रयास किया जा रहा है।

बाढ़ प्रभावित इलाकों में लगाई जाए एनडीआरएफ की टीम : सीतामढ़ी| जिला कांग्रेस अध्यक्ष विमल शुक्ला ने जिलाधिकारी डॉ. रणजीत कुमार सिंह से मिलकर बाढ़ प्रभावित इलाकों में बागमती विभाग के इंजीनियर को भेजकर खतरे से बचाव का उपाय करने का आग्रह किया है। जिलाध्यक्ष श्री शुक्ला ने कहा कि जिस गांव में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है, वहां एनडीआरएफ की टीम को भेजा जाए ताकि बाढ़ पीड़ितों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा जा सके। उन्होंने कहा कि सुरसंड, बथनाहा, सोनबरसा, रीगा, सुप्पी व मेजरगंज के दर्जनों गांव में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। उन्होंने कहा कि नेपाल द्वारा पानी छोड़े जाने के कारण बागमती, अधवारा, झीम, लखनदेई में उफान आ गया है। सबसे अधिक परेशानी भिट्‌ठामोड़ की है। भिट्‌ठामोड़ में पानी प्रवेश कर जाने से एसएसबी कैंप, चेकपोस्ट, बस स्टैंड, ओपी में चार फीट पानी बह रहा है।

शिवहर- सीतामढ़ी एनएच-104 और अम्बा शेख टोली की सड़क टूट जाने के कारण आवागमन बाधित

बाढ़ के बाद परिहार के सोनापट्टी गांव में घुसा पानी, व आवागमन करते लोग। सोनबरसा के सिंहवाहिनी में कटी सड़क।

डीएम समेत अन्य अधिकारी कर रहे कैंप, घाट पर नजर

जिला पदाधिकारी अरशद अजीज, पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी मोहम्मद अफाक अहमद, थानाध्यक्ष अवधेश कुमार, प्रखंड विकास पदाधिकारी संजीत कुमार, अंचलाधिकारी, बागमती परियोजना के कार्यपालक अभियंता विमल कुमार बेलवा घाट में कैंप कर रहे है। डीएम ने तटबंधों की निगरानी करने, तटबंधों की मरम्मत करने तथा गांव में फंसे हुए लोगों को नाव की सुविधा उपलब्ध कराने, खाद्य पदार्थ की सुविधा उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है।

बांध के अन्दर बसे सैकड़ों लोग बाढ़ से घिरे, बेलसंड-सीतामढ़ी व बेलसंड-तरियानी का सड़क संपर्क भंग, मुश्किल में ग्रामीण

लगातार बारिश के कारण तरियानी प्रखंड क्षेत्र के सैकड़ों गांव में कई जगहों पर सड़क संपर्क भंग हो गया है। तरियानी के मुंशी चौक से बेलसंड- सीतामढ़ी मुख्य पथ में बनाए गए डायवर्सन बागमती नदी में तेज बाढ़ के कारण बह गया है। जिसके कारण तरियानी से बेलसंड का संपर्क टूट गया है। वहीं, तरियानी प्रखंड के विशंभरपुर पंचायत के कांटा बाजार से विशंभरपुर पंचायत में भारी बारिश के कारण सड़क से सम्पर्क टूट गया है। खोठा पंचायत के खुरपट्टी वार्ड-13 में भारी बाढ़ के कारण बांध के अंदर बसे एक हजार की आबादी बाढ़ से घिर चुके हैं। जिसे वहां से निकलने के लिए कोई साधन अभी तक नहीं मिल पाया है।

सुरसंड में बाढ़ की पानी से गुजरते लोग।

सुरसंड में बाढ़ की पानी से गुजरते लोग।

तरियानी प्रखंड में बाढ़ से घिरे हुए लोगों की सुधि नहीं ले रहा प्रशासन

स्थानीय रामजन्म ठाकुर, अवधेश ठाकुर, कृष्णा राय, कलेवर राय, मनोज राय, नंदू राय, नंद किशोर राय, कलपु राय एवं सुनील राय आदि दर्जनो लोगों का कहना है कि तरियानी प्रखंड मुख्यालय से अभी तक कोई पदाधिकारी बांध के अंदर घिरे हुए लोगों से कोई सुधी लेने नहीं पहुंच पाया है। सीओ रामकुमार पासवान ने बताया कि बाढ़ को देखते हुए पहले से बांध के अंदर बसे हुए सभी लोगों को अलर्ट कर दिया गया था। वैसे बांध की सुरक्षा एवं लोगो की सुरक्षा के लिए टीम गठित कर मौके पर भेज दिया गया है। जहां टीम लोगों को बाहर निकाल रही है।

रेलवे ट्रैक पर शरण लेने को विवश हुए लोग

भास्कर न्यूज| सीतामढ़ी

जिले के ग्रामीण इलाकों के बाद शहरी क्षेत्र में भी बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। शहर के बीचो-बीच स्थित लखनदेई नदी के जलस्तर में तेजी से वृद्धि जारी है। शनिवार की रात तक यही स्थिति जारी रहा तो शहर के कई मुहल्लों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर जायेगा। वहीं लोग उंचे स्थानों पर शरण लेना शुरु कर दिया है। स्थानीय रेलवे लाइन के दोनों ओर लोगों ने दर्जनों घर बनाकर अपना आशियाना बना लिया है। साथ ही छत के घर वाले लोग छतों पर रहने की व्यवस्था शुरु कर दी है। शहर के भवदेपुर, श्रीकृष्णनगर, कोरिया टोल, मोहनपुर, लक्ष्मीनगर, लक्ष्मणानगर, बसवरिया, नया टोला आदि के लोग दहशत में है। रेलवे लाइन पर शरण लेने बाले रामनाथ मल्लिक ने बताया कि बाढ़ के पानी के साथ-साथ घरों में विषैले जीव भी प्रवेश कर जाते है। इस कारण जान पर आफत बनी रहती है। बाढ़ व विषैले जीव से बचने के लिये रेलवे ट्रैक पर शरण लेने को विवश है। यहां भी खतरा कम नहीं है। लेकिन, एक खतरा से बचने के लिये दूसरे खतरा से खेलना मजबूरी बन गया है।

सोनबरसा में सभी नदियों में जलस्तर में तेजी से वृद्धि जारी

सोनबरसा | प्रखंड में स्थित अधवारा समूह की चारो नदियो में जलस्तर में तेज वृद्धि जारी है। बाढ़ के पानी के कारण पूरा प्रखंड जलमग्न हो गया है। बिजली व मोबाइल नेटवर्क सेवा पूरी तरह ठप हो गयी है। कई गांवो के लोग अपना घर बार छोड़ उंचे स्थानों पर शरण लेने को विवश हो गये है। लोग चौकी व मचान पर रहकर रात गुजारने को मजबूर है। रमनगरा, परसा खुर्द, भलुआहा, कन्हौली, खाप, खोपराहा, दुलारपुर आदि गांवों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। इलाके के सड़को पर ढाई से तीन फीट ऊपर पानी का बहाव जारी है। मुख्यालय, लालबन्दी, जहदी, म्यूरवा, राजवाड़ा दलकावा आदि दर्जनों गांव में बाढ़ का पानी प्रवेश करने लगा है। कुछ जगहों पर सड़को का टूटना शुरु हो गया है।

प्रखंड व थाना परिसर में घुसा पानी

थाना व प्रखंड कार्यालय परिसर में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। दोनों कार्यालय पानी से जलमग्न हो गया है। मढ़िया, खुसनगरी, सिंहवाहिनी, भुतही, बिशनपुर व गोनाही आदि गांवों के क्षेत्र जलमग्न हो गये है। यही स्थिति गोनाही, जयनगर, दलकावा, रंगर कन्हौली, जहदी, बिश्रामपुर, भासर, मुहचट्टी, मड़पा, कचोर, सर्वरपुर व तिलंगहि आदि गांव की है।

Mejargang News - due to raincoat and clues in dozens of places fear of breaking the dam taken shelter in high places
Mejargang News - due to raincoat and clues in dozens of places fear of breaking the dam taken shelter in high places
Mejargang News - due to raincoat and clues in dozens of places fear of breaking the dam taken shelter in high places
X
Mejargang News - due to raincoat and clues in dozens of places fear of breaking the dam taken shelter in high places
Mejargang News - due to raincoat and clues in dozens of places fear of breaking the dam taken shelter in high places
Mejargang News - due to raincoat and clues in dozens of places fear of breaking the dam taken shelter in high places
Mejargang News - due to raincoat and clues in dozens of places fear of breaking the dam taken shelter in high places
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना