• Hindi News
  • Bihar
  • Sitamarhi
  • Sonbarsha News infatuation does not allow a person to move forward on the path of religion it leads to disorientation so renounce attachment ramsharan

मोह व्यक्ति को धर्म के रास्ते पर आगे बढ़ने नहीं देता है भटकाव लाता है, इसलिए मोह का करें त्याग : रामशरण

Sitamarhi News - प्रखंड क्षेत्र की सोनबरसा पंचायत में 25 फरवरी से शुरू हो रहे महारुद्र यज्ञ की तैयारी एवं यज्ञ की सफलता को लेकर...

Feb 19, 2020, 10:00 AM IST
Sonbarsha News - infatuation does not allow a person to move forward on the path of religion it leads to disorientation so renounce attachment ramsharan

प्रखंड क्षेत्र की सोनबरसा पंचायत में 25 फरवरी से शुरू हो रहे महारुद्र यज्ञ की तैयारी एवं यज्ञ की सफलता को लेकर यज्ञ स्थल पर मंगलवार को संत मनीष दास की अध्यक्षता में बैठक हुई। बैठक में यज्ञ स्थल पर बने मंडप एवं संतों और भक्तों के रहने के लिए बनाये जा रहे अस्थायी ठहराव स्थल की जानकारी ली गई। संत मनीष दास ने कहा कि यज्ञ मंडप और ठहराव स्थल के निर्माण का कार्य दो दिनों में पूरा हो जायेगा। इसके लिए सभी भक्त लोग सहयोग कर रहे है।

वहीं बैठक में 25 फरवरी को बागमती नदी से जल बोझी करने की जानकारी दी गयी। इसके लिए 551 कन्याओं द्वारा कलश शोभायात्रा निकाली जायेगी। इसमें शामिल करने के लिए कन्याओं के माता-पिता से संपर्क करने की बात कही गई। तरियानी छपरा से सोनबरसा तक निकलने वाली शोभायात्रा के दौरान शांति और सुरक्षा के लिए स्वयंसेवकों व यज्ञ समिति के सदस्यों को मुस्तैद रहने का निर्देश दिया गया। उन्होंने कहा कि यज्ञ की शुरुआत यज्ञ से होगा। जबकि इसका समापन पंडित सुनैना तिवारी व्याकरणाचार्य द्वारा किया जाना है। यज्ञ की सूचना प्रशासन और पुलिस प्रशासन को दे दी गयी है। पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था रहेगी। पूरे यज्ञ क्षेत्र की निगरानी सीसीटीवी से की जायेगी। मौके पर महेश्वर उपाध्याय, कामेश्वर सिंह, श्याम नंदन राय, नंदकिशोर सिंह, रामप्रीत सिंह, लक्ष्मणदेव सिंह, उपेन्द्र मिस्त्री, श्रीभगवान सिंह, रमेन्द्र सिंह, ठाकुर बच्चा सिंह सहित दर्जनों लोग उपस्थित थे।

रामपुर परोड़ी गांव में आज निकलेगी कलश यात्रा

सीतामढ़ी| डुमरा प्रखंड के रामपुर परोड़ी पूर्वी में स्थित शिव मंदिर में शिव परिवार एवं राम दरबार की प्रतिमा स्थापना समारोह की तैयारी पूरी कर ली गयी है। इस संबंध में पूजा समिति के अध्यक्ष सह वर्तमान मुखिया रामशंकर दास ने कहा कि प्रतिमा स्थापना समारोह को लेकर 19 फरवरी को कलश स्थापना, 20 फरवरी को प्राण प्रतिष्ठा एवं 21 फरवरी को जलाभिषेक किया जायेगा। उन्होंने कहा कि इस गांव में यह पहला यज्ञ है। इससे पहले इतना बड़ा यज्ञ नहीं हुआ था। आगामी 19 फरवरी को कलश शोभा यात्रा निकाली जायेगी। इसमें 251 कुंवारी कन्याएं भाग लेंगी। कलश यात्रा शिव मंदिर के सभागार से पूरे रामपुर परोड़ी गांव होते हुए फूलमत माई स्थान पर कलश भरण किया जायेगा। इसके बाद मंदिर में कलश की स्थापना की जाएगी।

रूपम जी महाराज ने श्रद्धालुअाें काे धर्म के कई रहस्यों को समझाया, हनुमान चालीसा का पाठ पढ़ाया

25 को 551 कन्याएं निकालेंगी कलश शोभायात्रा

भास्कर न्यूज|बाजपट्टी

प्रखंड के रुदौली गांव स्थित ब्रह्म स्थान के प्रांगण में सात दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा जारी है। आयोजन के दूसरे दिन मंगलवार को वृंदावन से आये कथावाचक संत रामशरण दास उर्फ रूपम जी महाराज ने धर्म के कई रहस्यों को समझाया। उन्होंने मोक्ष का अर्थ बताते हुए कहा कि यदि व्यक्ति मोह का त्याग कर देता है, तो उसे मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है। मोह मोक्ष के मार्ग में सबसे बड़ा बाधा है। यह धर्म के रास्ते पर आगे बढ़ने नहीं देता है। भटकाव ला देता है। मोहग्रस्त व्यक्ति जानते हुए भी गलत कर बैठता है। इसलिए ईश्वर का आशीष प्राप्त करने के लिए सबसे पहले मोह को त्यागना होगा। उन्होंने कथा को समझाते हुए कहा कि दण्डकारण्य वन में भगवान राम लक्ष्मण के साथ सीता की खोज में निकले। माता सती सीता माता का रूप धारण कर भगवान राम की परीक्षा लेती हैं। भगवान राम ने उन्हें माता सीता कह कर संबोधित किया। तब भगवान शिव ने सती से पूछा कि आप मेरे प्रभु की परीक्षा लेने गईं थीं। तब सती ने कहा कि मैं परीक्षा लेने नहीं, बल्कि प्रणाम करने गई थी। संत महाराज ने कहा कि व्यक्ति एक झूठ को छिपाने के लिए सौ झूठ बोलता है।

मनुष्य गलती करने पर उसे स्वीकार कर प्रायश्चित कर लें | मनुष्य गलती करने पर उसे स्वीकार कर प्रायश्चित कर लंे, तो उसकी गलती का दोष दूर हो जाता है। उन्होंने कहा कि संत सेवा करने से भगवत, भक्ति और ज्ञान की प्राप्ति हो जाती है। महाराज दक्ष प्रजापति द्वारा आयोजित यज्ञ में भगवान शिव को निमंत्रण नहीं दिया गया। भगवान शिव की इच्छा के विपरीत सती अपने पिता दक्ष के यज्ञ में भाग ली। अपने शिव का यज्ञ में स्थान नहीं होने पर कुपित होकर माता सती ने योग अग्नि में खुद को समर्पित कर दिया। कहा कि यहां भी मोह बड़ा कारण के रूप में विध्यमान है। वही उन्होंने हनुमान चालीसा पाठ से सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। आयोजन को लेकर कामेश्वर मिश्र, दयानाथ मिश्र, ललित मिश्र, शालिग्राम मिश्र, संजय मिश्रा, रामचंद्र मिश्र, संपत साह, मनीष राम, दिनेश साह, फूलबाबू साह, विजय साह, रामसागर सहनी, नागेन्द्र पासवान, तृप्ति पासवान, आनंद मिश्र सहित अन्य लोग सक्रिय थे।

तरियानी के सोनबरसा गांव में महारुद्र यज्ञ को लेकर बैठक में उपस्थित संत व भक्त लोग।

बाजपट्‌टी के रुदौली गांव में कथा प्रवचन करते संत रामशरण दास।

बाजपट्‌टी के रुदौली गांव में कथा प्रवचन के दौरान उपस्थित महिलाएं।

Sonbarsha News - infatuation does not allow a person to move forward on the path of religion it leads to disorientation so renounce attachment ramsharan
Sonbarsha News - infatuation does not allow a person to move forward on the path of religion it leads to disorientation so renounce attachment ramsharan
X
Sonbarsha News - infatuation does not allow a person to move forward on the path of religion it leads to disorientation so renounce attachment ramsharan
Sonbarsha News - infatuation does not allow a person to move forward on the path of religion it leads to disorientation so renounce attachment ramsharan
Sonbarsha News - infatuation does not allow a person to move forward on the path of religion it leads to disorientation so renounce attachment ramsharan

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना