• Hindi News
  • National
  • Sitamarhi News Large Vehicles Are Often Jammed By Entry Into The City With Administration Unaware

बड़े वाहनों के शहर में प्रवेश से अक्सर लगता है जाम, इससे प्रशासन बेखबर

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नगर परिषद के अंदर बड़े वाहनों के कारण रोजाना जाम लग रहा है। लेकिन नगर परिषद के अंदर न तो बड़े वाहनों के प्रवेश की कोई समय सारणी है और न ही सड़क पर दौड़ रहे वाहनों के लिए कोई नियम। नतीजतन किसी भी समय ओवरलोड व अंदर लोड शहर के भीड़-भाड़ वाले इलाकों से होकर गुजर रहे है। लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों की नजर ही नहीं जाती। जनप्रतिनिधि भी इससे अनजान है। वहीं नगर परिषद के अंदर भारी वाहनों के लिए नो एंट्री की व्यवस्था की गई है। किंतु चालक इसका पालन नहीं कर रहे है। इस वजह से कभी भी सीतामढ़ी शहर में कहीं भी सड़क जाम लग जाता है। जिसका खामियाजा नगर वासियों के साथ- साथ बच्चों को भुगतना पड़ता है, जो विद्यालयों में पढ़ कर समय से घर नहीं पहुंच पाते। भीड़- भाड़ वाले इलाकों में वाहनों के आवागमन पर किसी तरह का नियम कानून नहीं है।

डुमरा रोड स्थित राजोपट्‌टी में जाम में फंसे राहगीर।

रोज जाम में फंसते हैं स्कूल के वाहन, बच्चों को होती है परेशानी
जाम को हटाने के लिए पुलिस बल के साथ- साथ आम लोगों को भी मशक्कत करनी पड़ती है। लेकिन आखिर किन कारणों से प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा नो इंट्री रहने के बावजूद भी शहर में गाड़ी कैसे प्रवेश कर जाता है। यह आम लोगों को समझ में नहीं आ रहा है। युवा कांग्रेस जिलाध्यक्ष मो. शम्स शाहनवाज ने प्रशासनिक अधिकारियों से शहर में भारी वाहनों के प्रवेश पर रोक लगाने की मांग की है। हर रोज जाम में फंसते हैं स्कूल के वाहन, बच्चों को होती है भारी परेशानी ऐसा कोई दिन नहीं, जिस दिन जाम में शहर नहीं फंसता है। जिसकी वजह से हर रोज आम लोगों के साथ-साथ स्कूली छात्रों को भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। छात्रा पूनम कुमारी, बबीता कुमारी व मौसमी सिंह ने बताया कि ऐसा कोई दिन नहीं है, जिस दिन हम लोगों के बच्चों को स्कूल से आने में विलंब नहीं होता।

नो इंट्री के बावजूद चोरी-छिपे गाड़ियां प्रवेश करती हैं
कहां कहां लगता है जाम शहर के मेहसौल चौक, कारगिल चौक, पुराना प्राइवेट बस स्टैंड, आजाद चौक मेहसौल रेलवे फाटक, मारवाड़ी बाजार समेत अन्य जगहों पर प्रतिदिन जाम का नजारा देखने को मिलता है। इस जाम में आम आदमी ही नहीं जनप्रतिनिधियों एवं पदाधिकारियों की गाड़ी भी फंसी रहती है। कभी- कभी एंबुलेंस पर सवार मरीजों की मौत भी हो जाती है। शहर में भारी वाहनों के प्रवेश को लेकर बनेगा नियम अब शहर को बहुत जल्द जाम से निजात मिलेगा। इसके लिए तैयारियां शुरू कर दी गई है। जिला प्रशासन के द्वारा नो इंट्री के बावजूद भी चोरी छिपे गाड़ियां प्रवेश कर जाती है। जिस कारण शहर में यत्र-तत्र जाम का नजारा देखने को मिलता है। नगर परिषद में चोरी-छिपे गाड़ियों के प्रवेश को रोकने के लिए कड़े कदम उठाए जा रहे है। -दीपक मस्करा, नगर परिषद उपाध्यक्ष, सीतामढ़ी।

खबरें और भी हैं...