• Hindi News
  • Bihar News
  • Siwan
  • हिन्दू बहन की जान बचाने के लिए मुस्लिम युवक ने दिया खून
--Advertisement--

हिन्दू बहन की जान बचाने के लिए मुस्लिम युवक ने दिया खून

कहते हैं कि इंसानियत से बढ़कर न कोई धर्म होता है, न ही कोई मजहब। इसकी मिसाल पेश की है सीवान जिलांतर्गत नगर थाना...

Dainik Bhaskar

Jul 31, 2018, 05:15 AM IST
हिन्दू बहन की जान बचाने के लिए मुस्लिम युवक ने दिया खून
कहते हैं कि इंसानियत से बढ़कर न कोई धर्म होता है, न ही कोई मजहब। इसकी मिसाल पेश की है सीवान जिलांतर्गत नगर थाना क्षेत्र के नयाबाजार पोखरा के रहने वाले एक शख्स शाहिल मकसूद ने। जिसने एक हिन्दू बहन बसंतपुर प्रखंड के सरेयां श्रीकांत पंचायत के शामपुर निवासी अरविंद कुमार सिंह की प|ी जूही सिंह के लिए अपनी मजहबी दीवार तोड़ दी और आधी रात में सदर अस्पताल में पहुंचकर जूही सिंह की जान बचाने के लिए रक्तदान कर दिया। शाहिल मकसूद डिस्ट्रिक्ट ब्लड डोनर टीम के सक्रिय सदस्य भी हैं। जूही सिंह का कहना है कि शाहिल मकसूद भाई उनके लिए किसी फरिश्ते से कम नहीं हैं।

मिसाल

जूही सिंह ने कहा-मकसूद भाई मेरे लिए किसी फरिश्ते से कम नहीं, अस्पताल पहुंचकर दिया अपना खून

जूही के लिए रक्तदान करने वाले मकसूद भाई।

40 दिनों में 400 यूनिट रक्तदान का है लक्ष्य | सुबोध सिंह ने बताया कि डिस्ट्रिक्ट ब्लड डोनर टीम द्वारा 40 दिनों में 400 यूनिट रक्तदान का लक्ष्य रखा गया है। इसे लेकर ग्रुप के सदस्य अपने स्तर से प्रयासरत हैं। लक्ष्य पूरा करने के लिए सोशल साइट्स का भी सहारा लिया जा रहा है। लोगों को भी सदस्य रक्तदान के लिए प्रेरित कर रहे हैं।

लोगों को दिया संदेश

शाहिल मकसूद रविवार की रात 12 बजे जब सभी सो रहे थे। जूही का जीवन बचाने के लिए रक्तदान कर एक मिसाल कायम की। लोगों की मानें तो मकसूद के इस कदम ने छोटी-छोटी बातों पर मजहबी दीवार खड़ी करने वालों के लिए एक बड़ा संदेश दिया है। मकसूद के इस प्रयास को दिल से लोगों ने सैल्यूट किया। डिस्ट्रिक्ट ब्लड डोनर टीम के सदस्य सुबोध सिंह ने बताया कि जूही सिंह जिला मुख्यालय के एक निजी क्लीनिक में भर्ती है। जहां उनका सिजेरियन होना है। अत्यधिक रक्तस्राव के कारण रात में ही खून की जरूरत पड़ी। जूही को बी पॉजिटिव ग्रुप के खून की जरूरत थी। ब्लड बैंक में खून नहीं रहने पर मकसूद भाई से संपर्क किया गया। वे तुरंत ही इस नेक काम के लिए खून देने को राजी हो गए। उनके इस जीवटता से ग्रुप के सदस्य जहां खासे उत्साहित हैं वहीं जूही के भी परिजनों ने कृतज्ञता व्यक्त की।

X
हिन्दू बहन की जान बचाने के लिए मुस्लिम युवक ने दिया खून
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..