सीवान

--Advertisement--

हस्तकरघा से होगा देश का विकास

सीवान | मानव जाति के लिए कहा जाता है कि रोटी के बाद कपड़ा दूसरी आवश्यकता होती है। लघु एवं कुटीर उद्योग विशेष मो. तौहीद...

Dainik Bhaskar

Aug 08, 2018, 05:20 AM IST
सीवान | मानव जाति के लिए कहा जाता है कि रोटी के बाद कपड़ा दूसरी आवश्यकता होती है। लघु एवं कुटीर उद्योग विशेष मो. तौहीद अंसारी ने बताया कि वर्षों से भारत का हस्तकरघा वस्त्र के उत्पादन में एकाधिकार रहा है। अग्रेजों के खिलाफ लड़ाई में हस्तकरघा और चरखा का उपयोग भी किया था। लेकिन कुछ वर्षों तक केन्द्र सरकार और राज्य सरकार की नीतियों के कारण हस्तकरघा को नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि वर्तमान केन्द्र और राज्य सरकार का वस्त्र उद्योग की ओर ध्यान गया है।

X
Click to listen..