• Home
  • Bihar News
  • Siwan
  • मारपीट मामले में सात को 3 वर्ष की सजा
--Advertisement--

मारपीट मामले में सात को 3 वर्ष की सजा

सार्वजनिक रास्ते पर कब्जा करने को लेकर हुई मारपीट में सात आरोपियों को तीन-तीन वर्ष की सजा सुनाई गई है। वर्ष 2002 में...

Danik Bhaskar | Aug 03, 2018, 05:25 AM IST
सार्वजनिक रास्ते पर कब्जा करने को लेकर हुई मारपीट में सात आरोपियों को तीन-तीन वर्ष की सजा सुनाई गई है। वर्ष 2002 में तत्कालीन डीएम द्वारा पचरुखी थाना के पपउउर गांव में आम रास्ते को लेकर चल रहे विवाद में हस्तक्षेप के बाद भी दो पक्षों के बीच हुई मारपीट हाे गई थी। इस मामले में नामजद 7 अभियुक्तों को अदालत ने दोषी पाकर तीन-तीन वर्ष कारावास की सजा दी है। अदालत ने गुरुवार को सजा की बिंदु पर सुनवाई करते हुए 7 अभियुक्तों को मामले का दोषी पाया। अदालत ने नामजद सात अभियुक्तों परशुराम पांडेय ,धनंजय पांडेय, संजय पांडेय ,रंजय पांडेय, अंजय पांडेय, पुरुषोत्तम पांडेय एवं कौशल किशोर पांडेय को तीन-तीन वर्ष की सजा सुनाई। साथ ही प्रत्येक पर पांच हजार का अर्थदंड दिया है । अदालत ने इसी कांड में नामजद अभियुक्त नरोत्तम पांडेय एवं जनार्दन पांडेय को साक्ष्य के अभाव में संदेह का लाभ देते हुए बरी करने का भी आदेश दिया। बचाव पक्ष द्वारा अपील में जाने के लिए निवेदन करने पर अदालत ने अभियुक्तों को प्रोविजनल बेल भी प्रदान कर दिया। पचरुखी थाना के पपउर गांव में रास्ते को लेकर विवाद चल रहा था। इस विवाद को लेकर संजीव कुमार पांडेय ने तत्कालीन जिलाधिकारी से हस्तक्षेप का भी अनुरोध किया था। जिलाधिकारी ने स्थल पर पहुंच कर बातचीत द्वारा सार्वजनिक रास्ते को अतिक्रमण नहीं करने का निर्देश दिया था। बावजूद इसके 11 नवम्बर 2002 को कौशल किशोर पांडेय एवं अन्य द्वारा रास्ते का अतिक्रमण किया गया। विरोध करने पर कौशल किशोर पांडेय एवं अन्य ने संजीव कुमार पांडेय पर जानलेवा हमला कर दिया। घायल संजीव कुमार पांडेय के बयान पर उपरोक्त अभियुक्तों के विरुद्ध नामजद प्राथमिकी पचरुखी थाने में दर्ज की गई थी।