Home | Bihar | Siwan | जिले के 20 डाकघरों में काेर बैंकिंग की सुविधा नहीं

जिले के 20 डाकघरों में काेर बैंकिंग की सुविधा नहीं

जिले के 20 डाकघरों में कोर बैंकिंग की सुविधा नहीं मिल रही है। जबकि सभी उप डाकघरों में बैंकिंग सुविधा की शुरुआत कई...

Bhaskar News Network| Last Modified - Aug 03, 2018, 05:25 AM IST

जिले के 20 डाकघरों में काेर बैंकिंग की सुविधा नहीं
जिले के 20 डाकघरों में काेर बैंकिंग की सुविधा नहीं
जिले के 20 डाकघरों में कोर बैंकिंग की सुविधा नहीं मिल रही है। जबकि सभी उप डाकघरों में बैंकिंग सुविधा की शुरुआत कई साल पहले कर दी गई। इसमें से अधिकतर को कोर बैंकिंग कर दिया गया है। लेकिन जहां पर कोर बैंकिंग की सुविधा नहीं दी गई है। वहां के उपभोक्ता परेशान हो रहे हैं। कारण कि जिस ब्रांच में वे रुपए जमा करते हैं। उसी ब्रांच से रुपए की निकासी करना मजबूरी हो गई है। जबकि कोर बैंकिंग होने से दूसरे ब्रांच से भी रुपए की निकासी करना संभव हो पाता है। जिले में उपडाकघरों की संख्या 55 है। 35 उप डाकघर हैं, जहां पर बैंकिंग की सुविधा दी गई है। लेकिन इसमें से 20 उपडाक घरों को काेर बैंकिंग की सुविधा अभी भी नहीं मिल पाई है।

परेशानी

जिस डाकघर में जमा करते हैं, वहीं से निकासी करना मजबूरी, इंटरनेट सेवा नहीं होने का विभागीय अफसर दे रहे हवाला

सूद इंट्री कराने में करना पड़ता इंतजार

जहां पर भी उप डाकघरों में बैंकिंग सेवा को कंप्यूटरीकृत नहीं किया गया है। वहां के उपभोक्ताओं को वार्षिक ब्याज जुड़वाने के लिए भी इंतजार करना पड़ता है। इसके लिए भी कई तरह की परेशानी झेलनी पड़ती है। जहां पर मैनुअल से बैंकिंग सेवा है। वहां पर ब्याज जोड़ने की सुविधा नहीं है।

जिले में 20 उपडाकघरों में इंटरनेट की समस्या की वजह से इस तरह की सुविधा नहीं मिल पा रही है। जिस दिन बीएसएनएल की इंटरनेट सेवा ठीक हो जाएगी। इसके बाद वहां पर भी सुविधाएं मिलने लगेगी। मो. जैनुद्दीन, डाक अधीक्षक, सीवान

जहां पर कंप्यूटरीकृत बैंकिंग सेवा नहीं, वहां चेकबुक भी जारी नहीं होता

जबकि अन्य डाकघरों को तीन साल पहले ही कंप्यूटरीकृत कर दिया गया है। जहां पर बैंकिंग उपभोक्ताओं काे चेकबुक भी जारी किया जाता है। लेकिन जहां पर कंप्यूटरीकृत बैंकिंग सेवा नहीं है। वहां पर चेकबुक भी जारी नहीं होता है। वहां पर जमा व निकासी का लेखा-जोखा रजिस्टर पर ही होता है। जबकि कंप्यूटरीकृत वाले ब्रांच में लेखा-जोखा कम्प्यूटर में होता है। सीवान सेंट्रल क्षेत्र में ही 15 उप डाकघर हैं। लेकिन इसमें से 5 उप डाकघरों को कंप्यूटरीकृत नहीं किया गया है। इसमें चैनपुर, बगौरा, महुअल महाल, गंगपुर सिसवन व भागर शामिल हैं। यहां के भी उपभोक्ता कई साल से कंप्यूटरीकृत करने की मांग कर रहे हैं।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now