• Hindi News
  • Bihar News
  • Siwan
  • युवक इंटरमीडिएट का था छात्र, काम सीखने इस्मत ईएनटी हाॅस्पिटल में छह महीने पूर्व आया था
--Advertisement--

युवक इंटरमीडिएट का था छात्र, काम सीखने इस्मत ईएनटी हाॅस्पिटल में छह महीने पूर्व आया था

शहर में बुधवार की देर रात करीब 11.30 बजे नगर थाना क्षेत्र के एमएम कॉलोनी में पल्सर बाइक सवार दो अपराधियों ने शहर के...

Dainik Bhaskar

Aug 10, 2018, 05:25 AM IST
युवक इंटरमीडिएट का था छात्र, काम सीखने इस्मत ईएनटी हाॅस्पिटल में छह महीने पूर्व आया था
शहर में बुधवार की देर रात करीब 11.30 बजे नगर थाना क्षेत्र के एमएम कॉलोनी में पल्सर बाइक सवार दो अपराधियों ने शहर के चर्चित डाॅ. एमडी शादाब के कम्पाउंडर को गोलियों से भून दिया। घटना इस्मत ईएनटी हास्पिटल के सामने की है। मृतक हुसैनगंज थाना क्षेत्र के कुतुब छपरा निवासी मो. फारुक का 20 वर्षीय पुत्र मो. फेराज़, एमएम कॉलोनी निवासी ईएनटी चिकित्सक डॉ एमडी शादाब के यहां छह माह पूर्व काम सीखने आया था। घटना के वक्त वह स्टेशन रोड के किसी होटल से खाना खाकर लौट रहा था। अभी वह नर्सिंग होम के गेट पर भी नहीं पहुंचा था कि कि हमलावरों ने उसे टार्गेट कर लिया और फायरिंग शुरू कर दी। डाक्टरों के अनुसार उसे दो गोली लगी, एक पैर में व दूसरा पेट में। पुलिस के अनुसार फेराज की गांव के कुछ लोगों के साथ जमीन के मामले को लेकर विवाद चल रहा था। एसपी नवीनचन्द्र झा ने कहा कि पुलिस हत्या की गंभीरता से जांच कर रही है।

हत्या के इस मामले में मृतक के चाचा मो. नाजिर ने गांव के ही यमानी, नामी और गुड्‌डू नाम के तीन लोगों को आरोपी बनाते हुए नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई है। एसपी ने कहा कि इस मामले में पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए यमानी और नामी को गिरफ्तार कर लिया है।

आधी रात ईएनटी डॉ. शादाब के कंपाउंडर को गोलियों से भूना, मौत

चाचा ने दर्ज कराई तीन के खिलाफ हत्या की नामजद प्राथमिकी

हत्या के पूर्व हमलावरों ने डॉ. मो. इशरत हुसैन से की लूटपाट

कम्पाउंडर की हत्या के पूर्व हमलावरों ने वहीं से गुजर रहे एमएम कॉलोनी निवासी डॉ. मो. इशरत हुसैन काे निशाना बनाया और उनका बैग लूट लिया। वह घर से अपने क्लीनिक में आ रहे थे। बुधवार की रात 10 बजे डॉ. इशरत एमएम कॉलोनी स्थित अपने पुराने आवास से पैदल ही क्लिनिक की तरफ आ रहे थे। इसी दौरान एक बाइक पर सवार 3 अपराधियों ने आगे से उनका रास्ता रोक लिया और उनके हाथ में रखा बैग छीन लिया। डाॅ. इशरत ने बताया कि बैग में मेरा मोबाइल फोन था जिसे अपराधी लेकर फरार हो गए। इस मामले में नगर थाना में लिखित आवेदन दिया गया हैं। पुलिस ने बताया कि डॉक्टर का आवेदन प्राप्त हुआ हैं और मामले की जांच की जा रही है।

भाई बहनों में था सबसे बड़ा | मृतक फेराज 3 भाइयों में सबसे बड़ा था। उसकी तीन बहनें भी हैं, जिसमें एक बहन की शादी की भी तैयारियां की जा रही थी। वह इसी वर्ष इंटरमीडिएट की परीक्षा पूरी कर डॉ. शादाब के यहां काम सीखने आया था। पिता मो. फारूक एक पैर से दिव्यांग हैं और गांव में शिक्षक हैं।

हत्या के बाद में उमड़ी शहर भर के डाक्टरों की भीड़

हत्या के इस वारदात की सूचना जैसे ही आम हुई, शहर भर के सभी नामी-गिरामी डाॅक्टरों की टीम सदर अस्‍पताल के इमरजेंसी वार्ड में पहुंच गई। उसे बचाने की सबने भरपूर कोशिश की लेकिन कम्पाउंडर को नहीं बचाया जा सका। सूचना के बाद एएसपी कार्तिकेय कुमार शर्मा, नगर थानाप्रभारी सुबोध कुमार सिंह सहित कई पुलिस पदाधिकारी भी अस्‍पताल में पहुंच गए।

आधी रात को गोलियों की आवाज से सहम से गए लोग

आधी रात को अंजाम दी गई इस वारदात से पूरे इलाके में दहशत है। बुधवार की रात करीब सवा 11 बजे गोलियां चलने की आवाज से रहवासियों व नर्सिंग होम में मौजूद कर्मचारियों व डाक्टरों के होश उड़ गए और सारे लोग डरे हुए बाहर आए। डाॅ. एमडी शादाब का कहना था कि बाहर आकर देखा तो मंजर की कुछ और था। खून से लतपथ कम्पाउंडर अपनी जान बचाने की गुहार कर रहा था। आधी रात को हुई इस वारदात से पूरे इलाके में भय का माहौल व्याप्त है।

रात 11 बजे गया था खाना खाने

डाॅ. एमडी शादाब का कहना है खाना खाने का पैसा नर्सिंग होम में रात में ठहरने वालों को शाम में सात बजे ही दे दिया जाता है। लेकिन वह रात में 11 बजे खाना खाने स्टेशन गया था। आशंका व्यक्त की जा रही है कि स्टेशन पर ही उसका किसी के साथ खाना खान के दौरान विवाद हाे गया, जिसके बाद हमलावरों ने उसका पीछा कर हत्या की घटना को अंजाम दे दिया।

दो को पकड़ा गया है


युवक इंटरमीडिएट का था छात्र, काम सीखने इस्मत ईएनटी हाॅस्पिटल में छह महीने पूर्व आया था
X
युवक इंटरमीडिएट का था छात्र, काम सीखने इस्मत ईएनटी हाॅस्पिटल में छह महीने पूर्व आया था
युवक इंटरमीडिएट का था छात्र, काम सीखने इस्मत ईएनटी हाॅस्पिटल में छह महीने पूर्व आया था
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..