Hindi News »Bihar »Siwan» संदिग्ध स्थिति में युवक की मौत, पुलिस ने बिना पोस्टमार्टम कराए ही शव परिजनों को दे दिया

संदिग्ध स्थिति में युवक की मौत, पुलिस ने बिना पोस्टमार्टम कराए ही शव परिजनों को दे दिया

संदिग्ध स्थिति में युवक की मौत होने और बिना पोस्टमार्टम के ही परिजनों को सदर अस्पताल से शव ले जाने की अनुमति पुलिस...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 13, 2018, 05:26 AM IST

  • संदिग्ध स्थिति में युवक की मौत, पुलिस ने बिना पोस्टमार्टम कराए ही शव परिजनों को दे दिया
    +1और स्लाइड देखें
    संदिग्ध स्थिति में युवक की मौत होने और बिना पोस्टमार्टम के ही परिजनों को सदर अस्पताल से शव ले जाने की अनुमति पुलिस द्वारा दे दिए जाने के मामले में रविवार की सुबह 9 बजे से सैकड़ों ग्रामीणों ने 3 घंटे तक जाम लगाकर जमकर बवाल काटा। ग्रामीण गांव से शव लेकर आंदर ढाला पहुंचे और सुबह में 9 बजे सीवान आंदर मुख्य पथ पर शव रखकर रोड जाम कर दिया। ग्रामीण शव का पोस्टमार्टम कराने व मृतक के परिजनों को हर संभव आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने की मांग कर रहे थे। नेतृत्व कर रहे भाजपा जिलाध्यक्ष मनोज कुमार सिंह ने नगर थाना पुलिस और ड्यूटी में तैनात डाक्टर पर आरोप लगाते हुए कहा कि ये दोनों बिजली कंपनी के मालिक से मिले हुए हैं। इसलिए शव को पोस्टमार्टम के बिना परिजनों को सौंप दिया। मृत युवक हुसैनगंंज थाना क्षेत्र के छाता गांव निवासी विश्वकर्मा साह का 20 वर्षीय पुत्र ब्रजेश कुमार रामनगर स्थित बिजली का सामान बेचने वाली प्राइवेट कंपनी विंध्या टेलीलिंक लिमिटेड में काम करता था।

    रात आठ बजे ब्रजेश के अचानक चिल्लाने पर उसे ले गए सदर अस्पताल

    ग्रामीणों का आरोप- पोस्टमार्टम नहीं कराने के लिए रिश्वत

    रामनगर स्थित बिजली का सामान बेचने वाली निजी कंपनी विंध्या टेलीलिंक लिमिटेड में काम करता था

    क्या है मामला

    युवक की शनिवार की रात रहस्यमय तरीके से मौत हो गई। उसके साथ काम कर रहे दो अन्य मजदूर युवक को सदर अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया, जिसके बाद हंगामा शुरू हो गया। आरोप है कि सदर अस्पताल पहुंची नगर थाना की पुलिस ने मृत युवक का शव बिना पोस्टमार्टम कराए ही परिजनों को सौंप दिया। शनिवार को दाे मजदूर ब्रजेश के साथ काम कर रहे थे। इसी दौरान रात 8 बजे ब्रजेश अचानक चीखने चिल्लाने लगा। उसे सदर अस्पताल ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

    भाइयों में सबसे छोटा था

    ब्रजेश कुमार साह तीन भाइयों में सबसे छोटा था। एक छोटी बहन है। दोनों भाई और पिता मजदूरी का काम करते हैं। कबीर अंत्येष्टि योजना के तहत अंतिम संस्कार के लिए 3500 रुपये की सहायता राशि प्रदान की गई। इसके साथ ही कंपनी में काम करनेवाले एक ठेकेदार अमरीश ने दाह संस्कार के लिए 10 हजार की सहायता राशि परिजनों को दी।

    घटना के बाद रोते-बिलखते परिजन।

    लोगों ने विरोध में सड़क जाम कर किया हंगामा।

    युवक की सांप के डसने से मौत

    मौत का कारण चिकित्सक सर्पदंश बता रहे थे और उसे झाड़फूंक कराने के लिए परिजन गांव ले जाना चाह रहे थे। इसलिए शव बिना पोस्टमार्टम के ही ग्रामीणों के दबाव में परिजनों को सौंप दिया गया। सुबोध कुमार सिंह, टाउन इंस्पेक्टर, नगर थाना

    सिर्फ वही नकारात्मक खबरें, जो अापको जानना जरूरी है।

    सीवान-आंदर पथ पर शव रखकर लोगों ने किया हंगामा

    दो मजदूर युवक को सदर अस्पताल लेकर पहुंचे थे

    न शनिवार की रात चैन से रहे परिजन न रविवार बीता चैन से

    सदर अस्पताल में युवक की मौत की चिकित्सकों द्वारा पुष्टि कर दिए जाने के बाद से मृत युवक के परिजन शव लेकर मारे मारे फिर रहे थे, वहीं दूसरे ओर इस घटना के जिम्मेदार मामले को सलटाने के लिए पुलिस की चिरौरी में लगे थे। चर्चा है कि जिम्मेदारों के प्रभाव में आयी पुलिस जैसे-तैसे परिजनों को समझाने में कामयाब रही और बिना पोस्टमार्टम सदर अस्पताल से शव परिजनों को ले जाने के आदेश कर दिए। उधर आधी रात में जैसे ही गांव में शव पहुंचा गांव में कोहराम मच गया। गांव के लोग पुलिस को भला बुरा कहने लगे। सुबह होते ही गांव के सैकड़ों लोग वापस शव लेकर सीवान पहुंच और आंदर ढाला के करीब सीवान-आंदर पथ पर शव रख दिया और सड़क का आवागमन पूरी तरह से ठप कर दिया। परिजनों का कहना था कि पुलिस की इस लापरवाही से वे शनिवार की रात में बेचैन तो रहे ही रविवार को भी पूरा दिन बेचैनी में कटा।

  • संदिग्ध स्थिति में युवक की मौत, पुलिस ने बिना पोस्टमार्टम कराए ही शव परिजनों को दे दिया
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Siwan

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×