Hindi News »Bihar »Siwan» बिना एनओसी के 500 से अधिक हरे पेड़ों की कटाई, सप्लाई व प्रोजेक्ट के ईई को नोटिस

बिना एनओसी के 500 से अधिक हरे पेड़ों की कटाई, सप्लाई व प्रोजेक्ट के ईई को नोटिस

पर्यावरण सुधार एवं नदी बचाओ अभियान के तहत एक तरफ जहां सरकार पौधरोपण का महाअभियान चलाकर पर्यावरण बचाने के लिए कदम...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 09, 2018, 05:35 AM IST

बिना एनओसी के 500 से अधिक हरे पेड़ों की कटाई, सप्लाई व प्रोजेक्ट के ईई को नोटिस
पर्यावरण सुधार एवं नदी बचाओ अभियान के तहत एक तरफ जहां सरकार पौधरोपण का महाअभियान चलाकर पर्यावरण बचाने के लिए कदम बढ़ा रही है और इसके प्रचार प्रसार में करोड़ों रुपए पानी की तरह बहा रही है वहीं ठीक इसके विपरीत बिजली विभाग बिना एनओसी विद्युत पोलों को लगाने के लिए शहरी क्षेत्र में जहां-तहां हरे पेड़ों की कटाई छटाई में लगा है। यह मामला तब प्रकाश में आया जब बुधवार को विभाग के कर्मचारी बबुनिया रोड में हरे पेड़ों की कटाई कर रहे थे। इस मामले की सूचना जैसे हर वन क्षेत्र पदाधिकारी दिलीप कुमार को हुई, वह घटनास्थल का जायजा लेने के लिए बुधवार को बबुनिया रोड पहुंच गए। जांच के दौरान पाया गया कि कई हरे-भरे पेड़ की कटाई की गई है। इस पर भड़के वन क्षेत्र पदाधिकारी ने बिजली सप्लाई के कार्यपालक अभियंता व प्रोजेक्ट के कार्यपालक अभियंता से शो कॉज कर दिया। उन्‍होंने कहा कि आखिर बिना परमिशन किस कारण से हरे पेड़ की कटाई की गई है। वनों के रेंज पदाधिकारी ने कहा कि बिना परमिशन पेड़ काटने के मामले में एफआईआर दर्ज कराई जाएगी। बबुनिया रोड से स्टेशन तक बिजली कम्पनी के प्रोजेक्ट द्वारा लोहे का नया पोल लगाया जा रहा है। नए पोल पर नए फीडर के लिए तार लगाने का भी काम चल रहा है। सड़क के किनारे हरियाली रहे और पर्यावरण संतुलन रहे। इसके लिए पेड़ लगाए गए हैं।

वनक्षेत्र पदाधिकारी ने कहा कि उचित जवाब नहीं मिला हो देंगे प्राथमिकी दर्ज करने के आदेश

शहर के बबुनिया रोड में सड़क के किनारे की गई पेड़ की कटाई।

बीच सड़क में ही लगा दिया गया 33 हजार वोल्ट का तार | बिजली कम्पनी ने बीच सड़क में भी 33 वोल्ट का तार लगा दिया। मैरवा सब स्टेशन को सीवान ग्रिड से अब सीधे बिजली दी जाती है। इसके लिए भी पहले से लगे पोल पर तार नहीं लगाया गया। इसके लिए बबुनिया मोड़ से लेकर जेपी चौक तक बीच सड़क में ही पोल गाड़ दिया गया। उसी पर बिजली का तार लगाकर सप्लाई भी शुरु कर दी गई। लेकिन सुरक्षा मानक कभी ख्याल नहीं रखा गया। बिजली के तार के नीचे सेपरेटर भी नहीं लगाया गया है। प्रोजेक्ट ने इस बात का भी ख्याल नहीं रखा कि अगर 33 हजार वोल्ट का तार टूटकर गिरता है तो वह सीधे जमीन पर आ जाएगा। इससे बड़ा हादसा हो सकता है।

ज्यादा पेड़ की कटाई पर परमिशन

शहर में नए फीडर के लिए पोल लगाना आवश्यक है। एक ही पोल के सहारे कई तरह की तार से बिजली सप्लाई नहीं की जाती है। इसके लिए पोल व तार लगाया जा रहा है। ज्यादा पेड़ की कटाई करने के लिए वन विभाग से परमिशन लिया जाता है। कम के लिए बिना परमिशन के ही छंटाई कर दी जाती है। अजय कुमार साहा, कार्यपालक अभियंता, प्रोजेक्ट, सीवान

परमिशन लेने की जिम्मेवारी प्रोजेक्ट की है

तार लगाने के लिए प्रोजेक्ट द्वारा काम कराया जा रहा है। परमिशन लेने की जिम्मेवारी प्रोजेक्ट की ही है। इसलिए प्रोजेक्ट के कार्यपालक अभियंता विशेष जानकारी देंगे। अंकित कुमार, कार्यपालक अभियंता, बिजली कम्पनी, सीवान

जब जहां पर मन किया, वहीं पर लगा दिया पोल

सीवान शहर इन दिनों बिजली के खम्भों का शहर हो गया है। बिजली कम्पनी को जब मन में आया। वहीं पर पोल लगा दे रहा है। इसके लिए पहले से प्रोजेक्ट तैयार नहीं किया जा रहा है कि कहां पर पोल लगाना है और कहां पर नहीं लगाना है। कहां पर पोल लगाने से क्या परेशानी होगी। वह भी पोल लगाने काम रात में की जा रही है। ताकि सुबह होने से पहले पोल पूरी तरह लग जाएं और वहां पर पोल लगाने का विरोध भी कोई नहीं कर सके। छपरा रोड़ व बबुनिया रोड का हालत यह है कि हर 5 से 10 मीटर पर एक बिजली का पोल लगा हुआ है। यानि इस सड़क पर पोल की गिनती करना भी मुश्किल है। वह भी बेतरतीब ढंग से पोल लगा दी गई है।

पोल लगने से सड़क हो गई बाधित

शहर में पोल लगाने से सड़क भी बाधित हो गई है। छपरा रोड में तो सड़क के किनारे तीन लेयर में पोल लगाया गया है। वह तीनों पोल एक ही समानांतर में नहीं लगाया गया है। अगल व बगल में लगाए गए जाने से सड़क पूरी तरह संकीर्ण हो गई है। इसी तरह पोल लगाने का काम सड़क के दोनों किनारे भी हुआ है। अब बबुनिया रोड में भी इसी तरह पोल लगाया जा रहा है। इस वजह से सड़क संकीर्ण हो गई है। नतीजतन शहर में जाम लगने का एक कारण बिजली का पोल भी है। इस वजह से भी शहर में जाम लग रहा है।

पेड़ की छंटाई बिना परमिशन के ही की गई

पेड़ की कटाई की सूचना पर जांच की गई है। बुधवार को जांच में पाया गया है कि पेड़ की छंटाई बिना परमिशन के की गई है। इसलिए सप्लाई व प्रोजेक्ट के कार्यपालक अभियंता से शो कॉज किया जा रहा है। इसके बाद आगे की कार्रवाई होगी। दिलीप कुमार, रेंज पदाधिकारी, सीवान

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Siwan

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×