Hindi News »Bihar »Siwan» प्रसव के लिए डॉ. संगीता चौधरी ने भेजा था डॉ. रीता सिन्हा के क्लिनिक

प्रसव के लिए डॉ. संगीता चौधरी ने भेजा था डॉ. रीता सिन्हा के क्लिनिक

क्लिनिक के पास जुटी भीड़ व मौजूद पुलिसकर्मी। मारपीट के दौरान पकड़ी मोड़ पर मची भगदड़ इस दौरान पकड़ी मोड़ के समीप...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 04, 2018, 05:35 AM IST

प्रसव के लिए डॉ. संगीता चौधरी ने भेजा था डॉ. रीता सिन्हा के क्लिनिक
क्लिनिक के पास जुटी भीड़ व मौजूद पुलिसकर्मी।

मारपीट के दौरान पकड़ी मोड़ पर मची भगदड़

इस दौरान पकड़ी मोड़ के समीप भगदड़ की स्थिति हो गई थी। मामले को बढ़ता देख आसपास के लोगों ने घटना की सूचना स्थानीय पुलिस को दी। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि नर्सिंग होम के कर्मी मरीज के परिजनों को दौड़ा-दौड़ा कर पीट रहे थे। सूचना के बाद नगर थाना, मुफस्सिल थाना और महादेवा ओपी की पुलिस के अतिरिक्त एएसपी कांतेश कुमार मिश्रा भी मौके पर पहुंच गए। परिजनों का आरोप है कि पुलिस मौके पर पहुंची तो डाॅक्टरों ने मरीज के घरवालों पर ही मारपीट का आरोप लगा दिया।

मारपीट दोनों पक्षों से हुई है

मारपीट की पूरी वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद है, मारपीट दोनों पक्षों से हुई है। दोनों पक्षों के लोग मारपीट में घायल हैं। इस मामले में दोनों पक्षों से प्राप्त तहरीर के आधार पर प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। प्राथमिकी दर्ज किए जाने के बाद से इस केस की जांच गंभीरता से की जाएगी। कांतेश कुमार मिश्र, एएसपी, सीवान

क्या है मामला

बेल्सार हमीद टोला निवासी मो. इस्माइल अपनी प|ी रुबी खातून को लेकर बच्चे की डिलीवरी कराने के लिए गुरुवार को विजयहाता स्थित महिला चिकित्सक डॉ. रीता सिन्हा के यहां भर्ती कराया था। पीड़िता के परिजनों का आरोप है कि नार्मल डिलिवरी होनी थी। डिलीवरी डॉक्टर ने खुद न कर के नर्सों द्वारा करवाया। डिलीवरी के दौरान भयंकर ब्लीडिंग की समस्या होने लगी। ब्लीडिंग होने पर महिला को चार यूनिट खून भी चढ़ाया गया। स्थिति गंभीर देख पटना रेफर किया जाने लगा। जिसके बाद महिला के पति मो. इस्माइल ने इसका विरोध किया। इसी दौरान परिजन और कंपाउंडरों में विवाद बढ़ता गया और मामला मारपीट तक पहुंच गया। दोनों तरफ से जमकर मारपीट और हंगामा हुआ।

पैसे को लेकर हुआ था विवाद

दौड़ा-दौड़ा कर पीटने का आरोप बेबुनियाद है। मरीज की हालत गंभीर होने पर बेहतर इलाज के लिए रेफर किया जाता है। इस दौरान पैसे को लेकर कुछ विवाद हुआ और मरीज के घरवालों द्वारा क्लिनिक के लोगों को पीटा गया, जिसमें 4 लोग घायल हुए हैं। पुलिस को लिखित शिकायत की गई है। डाॅ शशिभूषण सिन्हा, पति डाॅ. रीता सिन्हा

आरोपी को पकड़कर ले जाती पुलिस।

रेफर का विरोध करने पर परिजनों को पीटने लगे कंपाउंडर

मो. इस्माइल की भगिनी तब्बू खातून पेशे से नर्स हैं। वह पहले डॉ. संगीता चौधरी के यहां नर्स के रूप में कार्य करती थी और अभी जिला के एक निजी अस्पताल में काम करती हैं। तब्बू खातून ने बताया कि डाॅक्टर के नर्साें द्वारा डिलीवरी की गई। जिसमें नर्सों की लापरवाही से ब्लीडिंग की समस्या होने लगी। गंभीर स्थिति में पटना रेफर किया जाने लगा। इसका विरोध करने पर कंपाउंडरों ने पहले मेरा हाथ पकड़ कर खींचा और मारपीट करने लगे। मारपीट के दौरान तब्बू का सिर फट गया। बीच-बचाव करने आए परिजनों को इस दौरान दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Siwan

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×