Hindi News »Bihar »Siwan» आज्ञा मंदिर से चोरी गई मूर्तियों की बरामदगी नहीं होने से पुलिस की कार्यशैली पर उठ रहे

आज्ञा मंदिर से चोरी गई मूर्तियों की बरामदगी नहीं होने से पुलिस की कार्यशैली पर उठ रहे

गोरेयाकोठी के आज्ञा गांव से इस साल जनवरी माह की 15 तारीख की रात में चोरी हुई करोड़ों के अष्टधातु की मूर्तियों का अब तक...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 25, 2018, 05:40 AM IST

गोरेयाकोठी के आज्ञा गांव से इस साल जनवरी माह की 15 तारीख की रात में चोरी हुई करोड़ों के अष्टधातु की मूर्तियों का अब तक पुलिस कोई भी सुराग नहीं लगा सकी है। हालांकि पुलिस के अनुसार इस मामले में तीन अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है।

मूर्तियों की बरामदगी नहीं होने से ग्रामीणों की धार्मिक भावनाएं आहत हो रही हैं व इसे लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है। वहीं पुलिस की कार्यशैली पर प्रश्नचिह्न उठ रहा है। उनका कहना है कि अगर पुलिस जल्द ही मूर्तियों को बरामद नहीं करती तो ग्रामीण प्रशासन को सूचना देकर सड़क पर उतरेंगे। मूर्ति चोरी की घटना के अगले दिन जब लोगों को पता चला तो लोग सड़क पर उतर आए थे। लोगों ने स्टेट हाईवे-73 को घंटों जाम कर दिया था। तब पुलिस ने 24 घंटे में मूर्तियों की बरामदगी का आश्वासन देकर लोगों को शांत कराया था।

मिलकर बनाएंगे स्वच्छ बिहार कार्यक्रम के अंतर्गत कार्यशाला का आयोजन

सीवान | जिला समाहरणालय के सभा कक्ष में मिलकर बनाएंगे स्वच्छ बिहार कार्यक्रम के अंतर्गत कार्यशाला का आयोजन किया गया। लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान अंतर्गत बिहार राज्य को मार्च 2019 तक खुले में शौच से मुक्त कराने का लक्ष्य रखा गया है। मार्च 2019 तक ओडीएफ बनाने के लिए टोला, वार्ड, समुदाय, ग्राम पंचायत स्तर पर समुदाय आधारित संपूर्ण स्वच्छता कार्यक्रम का सूचना, शिक्षा और संचार की गतिविधियां पर जोर दिया गया।

छह माह बाद भी पुलिस के हाथ खाली

लोगों का कहना है कि घटना के कई माह बीत गए। बावजूद पुलिस मूर्तियों का सुराग तक नहीं लगा सकी। मंदिर से चार मूर्तियों की चोरी होने व सीता जी के मूर्ति के सुरक्षित रहने की बात लोगों के चर्चा के केन्द्र में है। कुछ लोगों का तर्क है कि जल्दबाजी में चोरों ने मूर्ति को छोड़ दिया था। वहीं कई लोगों का कहना है कि चोरों को कहीं रात में लगा होगा कि सीता जी की मूर्ति किसी बहुमूल्य धातु की नहीं है।

मूर्ति चोरी मामले में तीन अपराधी गिरफ्तार कर जेल भेजे जा चुके हैं। हालांकि मूर्तियों का अब तक कोई सुराग नहीं मिला है। शीघ्र मूर्तियों की बरामदगी की जाएगी। थानाध्यक्ष, गोरेयाकोठी

सिटी रिपोर्टर|बसंतपुर

गोरेयाकोठी के आज्ञा गांव से इस साल जनवरी माह की 15 तारीख की रात में चोरी हुई करोड़ों के अष्टधातु की मूर्तियों का अब तक पुलिस कोई भी सुराग नहीं लगा सकी है। हालांकि पुलिस के अनुसार इस मामले में तीन अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है।

मूर्तियों की बरामदगी नहीं होने से ग्रामीणों की धार्मिक भावनाएं आहत हो रही हैं व इसे लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है। वहीं पुलिस की कार्यशैली पर प्रश्नचिह्न उठ रहा है। उनका कहना है कि अगर पुलिस जल्द ही मूर्तियों को बरामद नहीं करती तो ग्रामीण प्रशासन को सूचना देकर सड़क पर उतरेंगे। मूर्ति चोरी की घटना के अगले दिन जब लोगों को पता चला तो लोग सड़क पर उतर आए थे। लोगों ने स्टेट हाईवे-73 को घंटों जाम कर दिया था। तब पुलिस ने 24 घंटे में मूर्तियों की बरामदगी का आश्वासन देकर लोगों को शांत कराया था।

200 वर्ष पुरानी थीं मूर्तियां

ग्रामीणों के अनुसार तीन पीढ़ी ऐसे ही मूर्तियों को देख रही है। पहले मंदिर जर्जर था। बावजूद मूर्तियां सुरक्षित थीं। दो साल पहले मंदिर का जीर्णोद्धार कराया गया। मूर्तियों को तीन स्तर की सुरक्षा में रखा गया था। मूर्तियों का चोरी होना ग्रामीणों के लिए आश्चर्य की बात है, इससे उनकी धार्मिक आस्था को भी ठेस पहुंची है। लोगों में चर्चा है कि अगर प्रशासन मूर्तियों को बरामद नहीं करता तो उग्र हाेकर आंदोलन चलाया जाएगा।

सोशल साइट्स पर भी ग्रामीण सक्रिय

गांव के बाहर रहने वाले लोग भी आक्रामक हैं। वे सोशल साइट्स का सहारा ले रहे हैं। वे घटना की निंदा करने के साथ ही पुलिस पर मूर्तियों की शीघ्र बरामदगी का दबाव बनाने की बात लिख रहे हैं। बाहर के राज्य में रहने वाले लोगों का कहना है कि घटना ग्रामीणों की धार्मिक आस्था के साथ खिलवाड़ है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Siwan

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×