सीवान

  • Hindi News
  • Bihar News
  • Siwan
  • दो साल तक ठगी करती रही चिट फंड कंपनी 1.12 करोड़ लेकर भागी तब खुला फर्जीवाड़ा
--Advertisement--

दो साल तक ठगी करती रही चिट फंड कंपनी 1.12 करोड़ लेकर भागी तब खुला फर्जीवाड़ा

जीवी नगर थाना क्षेत्र के आसपास के कई गांवों में एक चिटफंड कंपनी बेहतर रिकवरी देने का झांसा देकर सैकड़ों लोगों से...

Dainik Bhaskar

Jul 23, 2018, 05:45 AM IST
दो साल तक ठगी करती रही चिट फंड कंपनी 1.12 करोड़ लेकर भागी तब खुला फर्जीवाड़ा
जीवी नगर थाना क्षेत्र के आसपास के कई गांवों में एक चिटफंड कंपनी बेहतर रिकवरी देने का झांसा देकर सैकड़ों लोगों से करोड़ों रुपए इन्वेस्टमेंट कराती रही। 2 साल में क्षेत्र के करीब 200 से अधिक लोगों से 1.12 करोड़ रुपए इन्वेस्ट भी करा लिया। पैसा निवेश पूरी करने की मियाद पूरी होने पर निवेशकों ने जब कंपनी द्वारा दिए गए चेक को भुनाने की कोशिश की तो एक के बाद एक कर बैंकाें ने उन चेकों को फर्जी करार दे दिया। इसके बाद निवेशकों का गुस्सा फूट पड़ा।अधिक मुनाफे का लोभ दिखाते हुए फर्जी बॉण्ड और फर्जी चेक कंपनी के नाम से निर्गत कर एक करोड़ बारह लाख रुपए की ठगी कर ली है। हम लोगों का उस समय पैरों तले जमीन खिसक गई जब मैच्योरिटी का समय पूरा होने पर जब उक्त निर्गत की गई चेक तथा बाॅन्ड को लेकर बैंक पंहुचे तो बैंकर द्वारा चेक फर्जी बताया गया।

चीटफंड कंपनी के खिलाफ प्रदर्शन करतीं महिलाएं।

फतेहपुर बाईपास पर खोला था कार्यालय

उसके हमलोगों ने अपने जमा किए गए रुपए के लिए जब जमाल अहमद के पास पहुंचे तो उन्होंने बताया कि यह कंपनी फरार हो गई है। मैंने कंपनी के ऊपर पांच लाख तीस हजार रुपए का दावा किया है। जबकि उपभोक्ताओं का कहना है कि एक करोड़ बारह लाख रुपये जमा करवाई गई है। वहीं इस घटना के बाद ठगी में शामिल चौकी हसन गांव के पारस कुशवाहा का पुत्र रानू कुशवाहा फरार बताया जा रहा है। ठगी करने से पहले जमाल अहमद तथा रानू कुशवाहा ने मिलकर सीवान स्तिथ फतेहपुर बाईपास में कंपनी का कार्यालय खोल था।

जमकर हंगामा किया

चौकी हसन गांव में रविवार के दिन चिटफंड कंपनी के खिलाफ निवेशकों ने पूर्व मुखिया अब्दुल हामिद उर्फ़ चुनु बाबू के साथ मिलकर जमकर हंगामा किया। हंगामा कर रहे उपभोक्ताओं में आफताब आलम, रेयाज कुरैशी, महमूद आलम, जुलेखा खातून समीना खातून, बच्ची देवी, बैजनाथ साह, आफरीन बेगम, हुस्नआरा खातून, आशिमा खातून, रूबी यास्मीन तथा तब्बसुम खातून समेत सैकड़ों उपभोक्ताओं का आरोप था कि चौकी हसन साहब के टोला गांव निवासी एजाज अहमद के पुत्र जमाल अहमद चिटफंड कंपनी उम्मीद कारपोरेशन प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड दिल्ली, मैक्स मल्टीपर्पस कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड दिल्ली सोनीपत तथा आरडीपीएल लैंड मार्क एंड इंफ्रा स्ट्रैक्टर्स दिल्ली, सोनीपत हरियाणा का सीनियर मैनेजर बन कर अपने सहयोगी चौकी हसन कुशवाहा टोला गांव निवासी पारस कुशवाहा के पुत्र रानू कुशवाहा के साथ मिलीभगत कर 200 से ज्यादा लोगों को अपने झांसे में लिया।

X
दो साल तक ठगी करती रही चिट फंड कंपनी 1.12 करोड़ लेकर भागी तब खुला फर्जीवाड़ा
Click to listen..