सीवान

  • Hindi News
  • Bihar News
  • Siwan
  • गुरु को सेवा से प्रसन्न कर आत्मपथ पर चला जा सकता है : विदुशा बाई
--Advertisement--

गुरु को सेवा से प्रसन्न कर आत्मपथ पर चला जा सकता है : विदुशा बाई

मुख्यालय के अस्पताल रोड स्थित मानव उत्थान सेवा समिति शाखा श्री हंस ज्योति आश्रम में रविवार को सदगुरुदेव श्री...

Dainik Bhaskar

Jul 23, 2018, 05:45 AM IST
गुरु को सेवा से प्रसन्न कर आत्मपथ पर चला जा सकता है : विदुशा बाई
मुख्यालय के अस्पताल रोड स्थित मानव उत्थान सेवा समिति शाखा श्री हंस ज्योति आश्रम में रविवार को सदगुरुदेव श्री सतपाल जी महाराज के शिष्यों द्वारा गुरुपूजा का पावन पर्व पूजा-अर्चना कर मनाया गया। वहीं इस आश्रम के महात्मा साध्वी विदुशा बाई जी व केशर बाई जी के नेतृत्व में उपस्थित सैकड़ों गुरुभक्तों को अपने प्रवचन द्वारा जीवन में गुरु की महिमा को बताया गया। इस दौरान विदुशा बाई जी ने कहा कि “गुरु बिन भव निधि तरे न कोई जो विरंचि शंकर सम होई” तो जीवन के हर क्षेत्र में गुरु होते है। कोई अक्षरी विद्या का, कोई कला का तो कोई व्यवसाय का। परन्तु इससे मानव जीवन का कल्याण सम्भव नहीं होगा। इसलिए हमें ईश्वरी विद्या के लिए सद्गुरु की जरूरत होती है। ऐसे बोधमय नित्य गुरु तो समय के तत्वदर्शी महापुरुष होते हैं। गुरु द्वारा ही जीव इस माया मोह के बंधन को काट सकता है। इसलिए हमें भी अपने जीवन में गुरु को धारण कर उनसे ज्ञान पाकर उनकी सेवा कर उनको प्रसन्न कर ही हम अपने आत्मपथ पर चल सकते हैं।

साध्वी केशर बाई जी ने भी जीवन मे गुरु की महिमा को बताते हुए कहा कि एक गुरु भक्त आज गुरुपूजा के दिन ही उनके चरणों में अनुनय-विनय कर जीवन में अपनी गलतियों के लिए क्षमा मांगता है और कहता है कि हे गुरु महाराज मुझे इस कांटा रूपी जीवन से भक्ति का वर देकर मुक्त कर दीजिए। इसलिए जीवन मे गुरु महाराज के चरणों मे प्रेम लगाकर उनसे केवल एक भक्ति का ही वरदान मांगनी चाहिए। कार्यक्रम के अंत मे गुरु आरती पूजन के द्वारा कार्यक्रम की समाप्ति की गई। इस अवसर पर भंडारे का आयोजन कर भक्तों को प्रसाद वितरण किया गया। मौके पर आश्रम प्रधान वीरेंद्र भाई, जितेंद्र भाई, झूलन, अशोक सोनी, मालती देवी, कुंती देवी, सोना देवी, सुमन देवी, अनिता देवी, कल्पना देवी सहित सैकड़ों प्रेमी भक्त उपस्थित थे।

गुरुपूजा कार्यक्रम में शामिल भक्त।

X
गुरु को सेवा से प्रसन्न कर आत्मपथ पर चला जा सकता है : विदुशा बाई
Click to listen..