Hindi News »Bihar »Siwan» साइंस किट मद का 1.90 लाख जमा करें हेडमास्टर अन्यथा की जाएगी कार्रवाई

साइंस किट मद का 1.90 लाख जमा करें हेडमास्टर अन्यथा की जाएगी कार्रवाई

विभागीय आदेश के बाद भी साइंस कीट मद की राशि को वापस नहीं करने वाले हेडमास्टरों को राशि जल्द वापस करनी हाेगी। राशि...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 25, 2018, 05:45 AM IST

साइंस किट मद का 1.90 लाख जमा करें हेडमास्टर अन्यथा की जाएगी कार्रवाई
विभागीय आदेश के बाद भी साइंस कीट मद की राशि को वापस नहीं करने वाले हेडमास्टरों को राशि जल्द वापस करनी हाेगी। राशि वापस नहीं करने पर ऐसे हेडमास्टरों पर कार्रवाई हाेगी। मंगलवार को कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में डीएम रंजीता ने शिक्षा विभाग के कार्यों की समीक्षा की। इस दौरान सर्व शिक्षा अभियान के डीपीओ समरबहादुर सिंह ने डीएम को बताया कि वित्तीय वर्ष 2010-11 व वित्तीय वर्ष 2011-12 में साइंस व मैथ कीट की खरीदारी करने के लिए विद्यालय शिक्षा समिति काे राशि दी गई थी।

शिक्षा विभाग के कार्यों की समीक्षा करती डीएम व विभाग के अफसर।

हेडमास्टरों को पत्र लिखा गया | उस राशि को वापस करने के लिए डीईओ द्वारा हेडमास्टरों को पत्र लिखा गया। लेकिन हेडमास्टर इसके खिलाफ हाइकोर्ट चले गए। डीएम ने कहा कि कोर्ट से राशि वसूली नहीं करने का आदेश अभी तक नहीं आया है। इसलिए राशि की वसूली की जाए। एक माह के अंदर राशि नहीं जमा करने पर नीलामवाद की कार्रवाई करें।

भवन निर्माण एक माह के अंदर पूरा करने पूरा करने का निर्देश

भवन निर्माण कार्य एक माह के अंदर पूरा करने पूरा करने का निर्देश डीएम ने दिया। अगर कोई हेडमास्टर कोताही बरतते हैं ताे उन पर एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया। सभी बच्चों का बैंक खाता खोलने व उसे आधार से जोड़ने का निर्देश दिया। यदि बैंक खाता नहीं खाेलता है तो बैंक वार समस्या लिखकर भेजने का निर्देश दिया। अगली बैठक में एसएसए के डीपीओ से बैंक की समस्या से संबंधित प्रतिवेदन की मांग की। इधर लक्ष्य से कम स्कूलों के निरीक्षण करने पर डीएम ने आपत्ति जताई। साथ ही बीईओ को निर्देश दिया कि एक सप्ताह में वे कम से कम 10 स्कूलों का निरीक्षण करें। साथ ही प्रत्येक शनिवार को जांच की समीक्षा करें।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Siwan

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×