• Hindi News
  • Bihar News
  • Siwan
  • चार दिनों से बारिश की रफ्तार हो गई कम, अब फिर बारिश का इंतजार करने लगे किसान, 88 हजार हेक्टेयर में धान की रोपनी पूरी
--Advertisement--

चार दिनों से बारिश की रफ्तार हो गई कम, अब फिर बारिश का इंतजार करने लगे किसान, 88 हजार हेक्टेयर में धान की रोपनी पूरी

चार दिनों से बारिश की रफ्तार कम हो गई है। इस वजह से किसान एक बार फिर चिंतित हो गए हैं। अभी धान की रोपनी का काम चल रहा...

Dainik Bhaskar

Aug 12, 2018, 05:45 AM IST
चार दिनों से बारिश की रफ्तार हो गई कम, अब फिर बारिश का इंतजार करने लगे किसान, 88 हजार हेक्टेयर में धान की रोपनी पूरी
चार दिनों से बारिश की रफ्तार कम हो गई है। इस वजह से किसान एक बार फिर चिंतित हो गए हैं। अभी धान की रोपनी का काम चल रहा है। इसलिए खेतों में लबालब पानी की जरूरत है। लेकिन जिले में कही पर भी खेत में लबालब पानी नहीं है। इससे किसान तेज बारिश का इंतजार करने लगे है। इधर धान की रोपनी जिले में 90 फीसदी हो गई है। अब महज 10 फीसदी ही धान की राेपनी बाकी है। जिले में 98 हजार हेक्टेयर में धान की रोपनी का लक्ष्य विभाग ने रखा है। इस तरह 88 हजार 200 हेक्टेयर में धान की रोपनी की गई है। अगस्त माह में 254 एमएम बारिश की जरूरत है। अभी तक जिले में 122 एमएम बारिश हुई है। पिछले 24 घंटे में महज .5 एमएम बारिश हुई है। इस माह जो बारिश हुई है। वह बारिश प्रथम सप्ताह में हुई। दूसरे सप्ताह में तो बारिश की रफ्तार ही थम गई है। जबकि धान की रोपनी अंतिम चरण है। इस हालत में पानी की ज्यादा जरुरत है। किसानों का कहना है कि अगर बारिश की रफ्तार बढ़ जाती तो धान की रोपनी एक सप्ताह में पूरी हो जाती है।

अगस्त में 254 एमएम बारिश की जरूरत है, अभी तक जिले में 122 एमएम ही बारिश हुई

सिसवन प्रखंड के बखरी गांव में धान की रोपनी करतीं महिलाएं।

जुलाई माह में भी बारिश हुई थी कम

जिले में जुलाई माह में भी बारिश अपेक्षा से कम हुई थी। वैसे 21 जुलाई से तेज बारिश हुई। लेकिन इसके पहले तक तो 20 दिनों में महज 33 एमएम ही बारिश हुई थी। इस तरह निराश लाेग धान की रोपनी करना ही बंद कर दिए थे। जब बारिश होने लगी तो धान की रोपनी ने रफ्तार पकड़ी। इधर जुलाई माह में 211.1 एमएम बारिश हुई। जबकि लक्ष्य से 40 फीसदी कम बारिश हुई थी।

90 फीसदी खेतों में धान की रोपनी पूरी


X
चार दिनों से बारिश की रफ्तार हो गई कम, अब फिर बारिश का इंतजार करने लगे किसान, 88 हजार हेक्टेयर में धान की रोपनी पूरी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..