Hindi News »Bihar »Siwan» उसरी से आंदर जाने वाली सड़क बारिश से बन गई झील, 10 किमी दूरी तय करने में लगते हैं दो घंटे

उसरी से आंदर जाने वाली सड़क बारिश से बन गई झील, 10 किमी दूरी तय करने में लगते हैं दो घंटे

अगर आपको हसपुरा प्रखंड के उसरी बाजार से आंदर प्रखंड मुख्यालय की दूरी तय करनी हो तो इस दौरान दो घंटे से ज्यादा का समय...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 01, 2018, 05:50 AM IST

  • उसरी से आंदर जाने वाली सड़क बारिश से बन गई झील, 10 किमी दूरी तय करने में लगते हैं दो घंटे
    +3और स्लाइड देखें
    अगर आपको हसपुरा प्रखंड के उसरी बाजार से आंदर प्रखंड मुख्यालय की दूरी तय करनी हो तो इस दौरान दो घंटे से ज्यादा का समय लगेगा। जबकि सड़क की दूरी महज 10 किमी ही है। यह सड़क पूरी तरह जर्जर है। गांव से बाहर जाने पर पता ही नहीं चलता है कि सड़क पर चल रहे हैं या किसी जलजमाव वाले चंवरी क्षेत्र या खेत में। आलम यह है कि इस सड़क में कई छोटे-बड़े गड्‌ढे बन गए हैं। जहां पर बारिश होने से जलजमाव की स्थिति उत्पन्न हो गई है। सड़क झील में तब्दील हो गई है। हालांकि किसी तरह लोग इस सड़क से यात्रा कर रहे हैं। लेकिन सबसे ज्यादा परेशानी साइकिल व बाइक सवार लोगों को हो रही है। इस सड़क पर पांच के स्पीड से ही पार करना पड़ रहा है। अगर इससे ज्यादा स्पीड से बाइक चलाने की कोशिश की गई ताे बाइक सवार गिरकर घायल हो जाते हैं। उसरी बाजार से यह सड़क शुरू हो रही है। इसके बाद से सड़क टूटी-फूटी दिख रही है। बाजार से भी निकलना मुश्किल हो गया है। अगर किसी तरह लोग बाजार से बाहर निकलते हैं तो परेशानी खत्म नहीं होती है। उसी टूटी व क्षतिग्रस्त सड़क से वे पारकर रहे हैं। माइराम मठिया तक जाने में ही लोगों की हालत खराब हो जा रही है। गायघाट गांव में सड़क की तो हालत और खराब है। इस गांव में मुखिया समेत अन्य प्रतिनिधियों की उदासीनता की वजह से पूरा गांव ही टापू की तरह हो गया है। पानी निकासी का इंतजाम नहीं होने से सड़क पर ही पानी लगा हुआ है। यहां पर पानी इतना ज्यादा है कि आने-जाने वाले लोगों को समझ में ही नहीं आ पाता है कि वे किस रास्ते से अागे बढ़ें। लेकिन दूसरा रास्ता नहीं होने से उसी पानी को पार कर लोग गुजरते हैं।

    आंदर बाजार में नाली के अभाव में जल-जमाव

    आंदर बाजार के लोग नाली निर्माण करने के लिए पांच साल से कभी मुखिया, कभी बीडीसी, कभी प्रमुख तो कभी वार्ड सदस्य से गुहार लगाते हैं। कई बार प्रशासनिक अफसरों से भी गुहार लगा चुके हैं। लेकिन भंवराजपुर जाने वाली सड़क में नाली का निर्माण नहीं कराया जा रहा है। इस वजह से वहां पानी निकासी के लिए रास्ता नहीं है। इस सड़क पर गिरने वाली पानी सड़क पर ही जमा हो रहा है। इससे वहां पहले से ही जलजमाव था। अब बरसात में तो इस सड़क पर इस तरह पानी लगा हुआ है कि यहां पर नाव चल सकती है। इस तरह इस रास्ते से आने व जाने वाले लोगों को काफी परेशानी हो रही है। एक दर्जन से ज्यादा गांवों के लोगों को बाजार आना भी मुश्किल हो गया है।

    गायघाट गांव में सड़क की तो हालत और खराब

    हसनपुरा के उसरी-आदंर सड़क पर जलजमाव।

    आंदर बाजार के भंवराजपुर रोड़ में जलजमाव।

    सड़क का हो गया है टेंडर

    उसरी में सड़क निर्माण के लिए टेंडर हो गया है। इसमें जल्द ही काम लगने वाला है। माइराम मठिया व गायघाट होते हुए घेराई अांदर तक जाने वाली सड़क के निर्माण के लिए बीस सूत्री की बैठक में पर्यटन मंत्री के सामने ही आवाज उठाया हूं। हरिशंकर यादव, विधायक, रघुनाथपुर विधान सभा क्षेत्र

    गायघाट गांव टापू में बदला

    इस सड़क का निर्माण 15 साल पहले हुअा था। 10 साल पहले यह सड़क टूटने लगी। लेकिन इसकी मरम्मत पर ध्यान नहीं दिया गया। इससे सड़क और टूटती चली गई। पांच साल से तो सड़क आने-जाने लायक भी नहीं है। फिर भी सड़क मरम्मत कराने या नए ढंग से निर्माण कराने के प्रति जनप्रतिनिधि से लेकर प्रशासनिक अफसर तक उदासीन बने हुए हैं। इस सड़क से बड़ी गाड़ियां भी गुजरती हैं। उन गाड़ियों के ड्राइवर भी रिस्क लेकर ही गाड़ी चलाते हैं।

    गायघाट में सड़क पर लगा गंदा पानी। टापू में बदला घर।

    आंदर-तियर मुख्य मार्ग-जयजोर,बरवां,असांव गांव में कई जगहों पर गड्ढे में तब्दील।

    2014-15 में सड़क की हुई थी मरम्मत

    जिले का आंदर तियर मुख्य मार्ग जयजोर,बरवां,असांव गांव में कई जगहों पर गड्ढे में तब्दील हो गई है। 12.6 किलोमीटर की लंबाई वाली इस सड़क से कई गांवों का संपर्क है, जहां हजारों ग्रामीण इस सड़क से आते-जाते हैं। ग्रामीण पथ अनुरक्षण नीति के तहत 2013 में इस सड़क की मरम्मत की योजना बनी थी, लेकिन विभागीय लापरवाहियों से 2014-15 में इस सड़क के मरम्मत का कार्य पूरा हुआ था। अरुण सिंह, वेंकटेश्वर पाठक, राधेश्याम सिंह, भोला भगत, सुनील राम, हीरा मांझी, शशि पाठक (सभी वार्ड सदस्यों) ने विभाग से मरम्मत की मांग की हैं। इनका कहना है कि सड़क पर पानी लगने से हमेशा डर बना रहता है कि कहीं कोई अनहोनी न हो जाए, क्योंकि सड़क पर पानी लगने से गड्ढा दिखाई नहीं देता है।

  • उसरी से आंदर जाने वाली सड़क बारिश से बन गई झील, 10 किमी दूरी तय करने में लगते हैं दो घंटे
    +3और स्लाइड देखें
  • उसरी से आंदर जाने वाली सड़क बारिश से बन गई झील, 10 किमी दूरी तय करने में लगते हैं दो घंटे
    +3और स्लाइड देखें
  • उसरी से आंदर जाने वाली सड़क बारिश से बन गई झील, 10 किमी दूरी तय करने में लगते हैं दो घंटे
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Siwan

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×