• Hindi News
  • Bihar News
  • Siwan
  • मानव जीवन के कष्टों का निवारण गीता में निहित: स्वामी प्रज्ञानंद
--Advertisement--

मानव जीवन के कष्टों का निवारण गीता में निहित: स्वामी प्रज्ञानंद

शहर के जेपी चौक के पास मारवाड़ी धर्मशाला में चल रहे गुरु पूर्णिमा सह श्रीमद भागवत गीता ज्ञान सत्संग का समापन...

Dainik Bhaskar

Jul 29, 2018, 09:10 AM IST
मानव जीवन के कष्टों का निवारण गीता में निहित: स्वामी प्रज्ञानंद
शहर के जेपी चौक के पास मारवाड़ी धर्मशाला में चल रहे गुरु पूर्णिमा सह श्रीमद भागवत गीता ज्ञान सत्संग का समापन शुक्रवार की देर शाम में हो गया। इस मौके पर वृंदावन मथुरा से आए स्वामी प्रज्ञानंद जी महाराज ने गुरु पूर्णिमा के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण अर्जुन से कहा कि हे! अर्जुन तू हर पल, हर क्षण मेरे नाम का स्मरण करते रहो तथा मेरा भक्त बनकर मेरे में अपना मन लगा कर तुम अपना काम करो तुम्हारा कल्याण होगा। उन्होंने कहा कि मानव जीवन के संपूर्ण कष्टों का निवारण गीता में निहित है। हमें हर समय, हर पल श्रीकृष्ण का स्मरण करते रहना चाहिए। मनुष्य भगवान को अच्छे समय में भूल जाता है और जीवन कष्टमय होते ही भगवान को याद करने लगता है यह उचित नहीं है। अगर सुख में भगवान का स्मरण करेंगे तो हमारे जीवन मे कभी दुःख नहीं होगा। श्री महाराज जी ने कहा कि गीता ज्ञान का जन-जन में प्रचार-प्रसार तथा पठन-पाठन पर जोर देना ही मेरा उद्देश्य है। इसके लिए संपूर्ण विश्व गीता के प्रवचन के माध्यम से पूरे विश्व मे भ्रमण कर रहा हूं।

महोत्सव में प्रवचन सुनती महिलाएं।

यूपी से भी शामिल होने आए थे श्रद्वालु

कार्यक्रम के समापन के अवसर पर श्रद्धालु राजीव कुमार सिंह और कुणाल कुमार सिंह ने महाराज जी को मुकुट पहनाया। सत्संग में गोरखपुर, देवरिया बलिया, सारण समेत कई जिलों से श्रद्धालु हज़ारों की संख्या में पधारे थे। इसमें में विशाल भंडारा का आयोजन किया गया था। इस अवसर पर राम एकबाल गुप्ता, रोहित मिश्रा, उपेंद्र यादव, श्याम नागालिया, कृष्णा गुप्ता, प्रभाकर शुक्ला,नवीन गुप्ता, सुमन गुप्ता, सीमा अग्रवाल, साधू जी, मंजू देवी, सुशील गुप्ता, सुषमा पांडेय, कलावती देवी, मोनिका सिंह, अंजू देवी, निक्की सिंह समेत हजारों श्रद्धालु उपस्थित थे।

सिटी रिपोर्टर| सीवान

शहर के जेपी चौक के पास मारवाड़ी धर्मशाला में चल रहे गुरु पूर्णिमा सह श्रीमद भागवत गीता ज्ञान सत्संग का समापन शुक्रवार की देर शाम में हो गया। इस मौके पर वृंदावन मथुरा से आए स्वामी प्रज्ञानंद जी महाराज ने गुरु पूर्णिमा के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण अर्जुन से कहा कि हे! अर्जुन तू हर पल, हर क्षण मेरे नाम का स्मरण करते रहो तथा मेरा भक्त बनकर मेरे में अपना मन लगा कर तुम अपना काम करो तुम्हारा कल्याण होगा। उन्होंने कहा कि मानव जीवन के संपूर्ण कष्टों का निवारण गीता में निहित है। हमें हर समय, हर पल श्रीकृष्ण का स्मरण करते रहना चाहिए। मनुष्य भगवान को अच्छे समय में भूल जाता है और जीवन कष्टमय होते ही भगवान को याद करने लगता है यह उचित नहीं है। अगर सुख में भगवान का स्मरण करेंगे तो हमारे जीवन मे कभी दुःख नहीं होगा। श्री महाराज जी ने कहा कि गीता ज्ञान का जन-जन में प्रचार-प्रसार तथा पठन-पाठन पर जोर देना ही मेरा उद्देश्य है। इसके लिए संपूर्ण विश्व गीता के प्रवचन के माध्यम से पूरे विश्व मे भ्रमण कर रहा हूं।

X
मानव जीवन के कष्टों का निवारण गीता में निहित: स्वामी प्रज्ञानंद
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..