Hindi News »Bihar »Siwan» बाढ़ और सुखाड़ के लिए किसानों को बैंक देगी मदद

बाढ़ और सुखाड़ के लिए किसानों को बैंक देगी मदद

शहर के कचहरी कैम्पस स्थित दी सीवान सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक की शनिवार को बैठक की गई। बैठक में प्रबंध निदेशक...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 29, 2018, 09:10 AM IST

शहर के कचहरी कैम्पस स्थित दी सीवान सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक की शनिवार को बैठक की गई। बैठक में प्रबंध निदेशक सत्येन्द्र कुमार प्रसाद ने शाखा प्रबंधकों की समीक्षा बैठक में कई योजनाओं की जानकारी दी। प्रबंध निदेशक ने बैठक में बताया कि बाढ़ और सुखाड़ से प्रभावित जिले के किसानों को मदद देने के लिए नई योजना की शुरूआत की गई है। यह अब तक की किसानों के लिए सबसे अधिक राहत देने वाली बेहतर योजना है। योजना के तहत किसानों का निशुल्क निबंधन किया जाएगा। शाखा प्रबंधकों को अधिक से अधिक किसानों को लाभान्वित करने का निर्देश दिया। प्रबंध निदेशक ने कहा कि ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन सहकारिता विभाग के वेबसाइट करना है। इसके प्रचार-प्रसार के लिए बैंक की शाखाओं में बैनर-पोस्टर लगाएं जाएंगे। केसीसी धारक किसानों को एसएमएस से योजना की सूचना भेजी जा रही हैं। पैक्स अध्यक्ष व प्रबंधकों को प्रेरित करने का कार्य भी किया जा रहा हैं। किसान साइबर कैफे व बीसीओ के माध्यम से इस योजना हेतु रजिस्ट्रेशन करा सकते है। को-ऑपरेटिव बैंक के अध्यक्ष रामायण चौधरी ने बताया कि यह योजना 31 जुलाई तक है। बड़े पैमाने पर किसानों को योजना से जोड़ा जाए। मुख्य प्रबंधक आलोक कुमार वर्मा ने बताया कि किसानों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के समय पासपोर्ट साइज फोटो, आधार कार्ड, भूमि स्वामित्व प्रमाणपत्र, बैंक खाता की फोटो कॉपी देना होगा। बटाईदार किसान को भी इन्हीं कागजात को साथ लाना होगा। बैठक में प्रशासी पदाधिकारी राजकुमार ठाकुर, मुख्य प्रबंधक आलोक कुमार वर्मा, लोन पदाधिकारी रणजीत कुमार सहित पंद्रह बैंकों के शाखा प्रबंधक शामिल थे।

ऐसे मिलेगा किसानों को इस योजना का लाभ

बिहार राज्य फसल सहायता योजना के तहत रजिस्ट्रेशन कराने पर मात्र 20 फीसदी क्षति होने पर प्रति हेक्टेयर सात हजार पांच सौ तथा अधिक क्षति होने पर दस हजार रुपए सहायता राशि मिलेगी। इसके लिए किसान को किसी तरह का प्रीमियम नहीं देना होगा। एक किसान अधिकतम दो हेक्टेयर का लाभ ले सकता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Siwan

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×