Hindi News »Bihar »Siwan» सावन के पहले दिन मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु बम भोले व हर-हर महादेव से गूंजे शिवालय

सावन के पहले दिन मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु बम भोले व हर-हर महादेव से गूंजे शिवालय

शिवलिंग पर जल अर्पित करते भक्त। सोहगरा शिवधाम मेंे किया जलार्पण गुठनी | श्रावण मास के पहले दिन शिवभक्तों के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 29, 2018, 09:10 AM IST

  • सावन के पहले दिन मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु बम भोले व हर-हर महादेव से गूंजे शिवालय
    +2और स्लाइड देखें
    शिवलिंग पर जल अर्पित करते भक्त।

    सोहगरा शिवधाम मेंे किया जलार्पण

    गुठनी | श्रावण मास के पहले दिन शिवभक्तों के हर हर महादेव, जय शिव जय शिव, बोल बम इत्यादि नारों से क्षेत्र के सभी शिवालय गुंजायमान रहा। गुठनी के सोहगरा शिव धाम के पौराणिक मंदिर, सेलौर स्थित प्राचीन शिव मंदिर, ओदिखोर गांव स्थित शंकर मंदिर, ग्यासपुर के सरयू तट स्थित मंदिर, क्षेत्र के प्रसिद्ध चकरी योगाश्रम मंदिर सहित सभी शिवालयों में शिव भक्तों ने शनिवार अहले सुबह से जलार्पण करना शुरू कर दिया था। शनिवार अहले भोर में शिवभक्त बहुत कम दिखाई पड़े।

    फोटो सीवान 12 :

    दिनभर चला जलाभिषेक का दौर

    जीरादेई | प्रखण्ड क्षेत्र के आकोल्ही, ठेपहा, जामापुर, भरौली तितरा सन्थु-बन्थु आदि जगहों पर सावन के पहले दिन शनिवार को शिवालयों में भक्तों की भीड़ उमड़ी। सुबह से शुरू हुई देवों के देव महादेव की भक्ति शनिवार शाम तक जारी रही। जल चढ़ाने के लिए शिवभक्तों का जत्था दिनभर पर दिखा। शिवालयों में भक्त अधिक संख्या में विभिन्न प्रकार के अनुष्ठान करते रहे लगभग हर शिवालय के बाहर श्रद्धालुओं का जमावड़ा दिखा। सबसे ज्यादा जलाभिषेक करने आये शिवभक्तों की भीड़ अनंतनाथ धाम आकोल्ही में दिखी।

    जलाभिषेक को भक्तों का आगमन आज से

    सिसवन | सावन के पहले सोमवार को बाबा महेन्द्रनाथ के जलाभिषेक व दर्शन-पूजन के लिए शिवभक्तों का आगमन रविवार से शुरू हो जाएगा। उधर, श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए अभी तक मेले की प्रशासनिक तैयारियां आधी अधूरी ही हैं। ऐसे में व्यवस्था पर सवाल उठने लगे हैं। 30 जुलाई को इस सावन का पहला सोमवार है। लेकिन, स्थिति यह है कि मंदिर तक बैरिकेडिंग भी पूरी तरह तैयार नहीं है। पहले सोमवार को यहां करीब 60 हजार शिवभक्तों के आने की संभावना है।

    सावन में ना करें ये 9 काम

    श्रावण मास

    सावन के महीने में भगवान शिव और माता पार्वती से जो भी मांगा जाता है, वह अवश्य देते हैं। आचार्य पंडित उमाशंकर पाण्डेय के अनुसार आइए जानते हैं सावन में भगवान शिव की पूजा करते समय कौन से काम नहीं करने चाहिए...

    1. सावन में शिवजी की पूजा करते समय हल्दी नहीं चढ़ानी चाहिए। हल्दी को हमेशा जलधारी में ही चढ़ानी चाहिए

    2. सावन में व्रतधारी को कभी भी दूध का सेवन नहीं करना चाहिए।

    3.सावन में बैंगन का खाना भी वर्जित माना गया है। सावन के महीने में आने वाले बैंगन को शास्त्रों में अशुद्ध बताया गया है।

    4. शिवभक्तों में एक अलग उत्साह नजर आता है। इस समय अपने मन में कभी भी बुरे विचार अपने मन में नहीं लाने चाहिए।

    5. सावन में ही नहीं कभी भी बुजुर्ग व्यक्ति, माता-पिता, भाई-बहन, स्त्री, गरीबों और ज्ञानी लोगों का अपमान नहीं करना चाहिए।

    6. सावन का महीना आध्यात्म का महीना है, ईश्वर और भक्त के बीच की दूरी कम होती है। इसलिए इस महीने को सोने में व्यतीत नहीं करना चाहिए। सुबह जल्दी उठकर और शिवजी की पूजा करनी चाहिए।

    7. सावन के महीने का विशेष महत्व है। इस वजह से इस दिन ही नहीं अपितु कभी भी मांस और शराब के सेवन से भी बचना चाहिए।

    8. भगवान शिव और माता पार्वती को घर की सफाई बेहद पसंद है इसलिए अपने घर को हमेशा साफ रखें।

    9. सावन महीने में ग्रह दोषों के प्रभाव से भी आप राहत महसूस कर सकते हैं। इस दौरान किसी भी वृक्ष को नहीं काटना चाहिए, इससे आपके ग्रह दोषों पर प्रभाव पड़ता है।

    जलाभिषेक के लिए उमड़े शिवभक्त।

    रिमझिम फुहारों के बीच सावन की शुरुआत महेंद्रनाथ धाम में उमड़े शिवभक्त

    सिसवन, सीवान | सावन मास भगवान शंकर के विशेष पूजा-अर्चना का महीना होता है । लोग शिवालयों और भगवान शंकर के मंदिरों में जाकर विशेष पूजा अर्चना करके भोलेनाथ को प्रसन्न करते हैं। इस बार सावन के प्रथम पहले दिन सभी शिवालयों में सुबह से ही हर-हर महादेव एवं ओम नम: शिवाय के जाप से क्षेत्र में गूंज सुनाई देने लगी। प्रात: काल से ही भारी संख्या में उमड़े श्रद्धालु पवित्र स्नान कर देवादि देव महादेव का जलाभिषेक करना शुरू कर दिया। सिसवन के मेहंदार समेत गंगपुर सिसवन रामगढ़ बखरी सहित सभी छोटे बड़े शिवालयों पर भारी वर्षा के बावजूद भोर से ही भक्तों की भारी भीड़ रही। मेहंदार में कई श्रद्धालुओं ने बारिश से बचने के लिए छाता ओढ़ लाइन में लगे। लोगों ने श्रद्धा पूर्वक भगवान भोले शिव को दूध, दही, मधू, अक्षत, रोली, चन्दन, अबीर- गुलाल, भांग, धतूरा, बेलपत्र, पान- सुपारी, गुड, मेवा, पुष्प, फल आदि अर्पित कर धूप दीप करके विधि विधान पूर्वक अभिषेक किया। शिवालयों पर भक्तों की भीड़ देर शाम तक रही। हर-हर महादेव के जयघोष से वातावरण गुंजता रहा।

  • सावन के पहले दिन मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु बम भोले व हर-हर महादेव से गूंजे शिवालय
    +2और स्लाइड देखें
  • सावन के पहले दिन मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु बम भोले व हर-हर महादेव से गूंजे शिवालय
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Siwan

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×