• Home
  • Bihar News
  • Siwan
  • पर्यटन मंत्री ने कहा-विकसित किया जाएगा दाहा नदी का क्षेत्र, अतिक्रमण करने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई
--Advertisement--

पर्यटन मंत्री ने कहा-विकसित किया जाएगा दाहा नदी का क्षेत्र, अतिक्रमण करने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई

कलेक्ट्रेट के सभा कक्ष में शनिवार को पर्यटन मंत्री सह जिला प्रभारी मंत्री प्रमोद कुमार ने बाढ़ एवं आपदा प्रबंधन को...

Danik Bhaskar | Jul 29, 2018, 09:10 AM IST
कलेक्ट्रेट के सभा कक्ष में शनिवार को पर्यटन मंत्री सह जिला प्रभारी मंत्री प्रमोद कुमार ने बाढ़ एवं आपदा प्रबंधन को लेकर समीक्षा बैठक की। जिले में बाढ़ एवं सूखा प्रभावित क्षेत्रों में आने वाले आपदा को लेकर विभिन्न मुद्दों पर चर्चा के बाद बाढ़ एवं आपदा को लेकर की गई तैयारियों के बारे में भी जाना। प्रभारी मंत्री ने कहा कि बाढ़ पूर्व आपदा प्रबंधन की तैयारी में किसी भी प्रकार की चूक बर्दाश्त नहीं होगी। बैठक में उन्होंने कहा कि दाहा नदी क्षेत्र का अतिक्रमण लोगों द्वारा किया गया है। प्रभारी मंत्री ने सीवान में दाहा नदी क्षेत्र को अतिक्रमण मुक्त कराने को लेकर जिलाधिकारी एवं संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया। मंत्री ने कहा कि अतिक्रमण हटाने के लिए पहले नोटिस भेजा जाए और उसके बाद भी नहीं हटाए जाने की स्थिति में अतिक्रमणकारियों के खिलाफ सख्ती बरती जाए। बैठक में सीवान शहर में हो रहे जल जमाव का विशेष रूप से समाधान करने पर जोर दिया गया। जल जमाव को लेकर अधिकारियों को निर्देश दिया गया कि जिन अतिक्रणकारियों द्वारा जल निकासी रोकी गई है।

जिला प्रभारी मंत्री ने कहा-आपदा प्रबंधन की तैयारी में किसी तरह की चूक बर्दाश्त नहीं होगी

जल जमाव की समस्य दूर हो| जल जमाव की समस्या दूर हो। आगे भी अतिक्रमण न हो सके, इसके लिए नगर विकास, पीडब्लूडी व अधिकारियों को नजर रखने का निर्देश दिया जाए। बैठक में डीएम रंजीता, सांसद ओमप्रकाश यादव, विधान पार्षद वीरेंद्र यादव, विधायक व्यासदेव प्रसाद, सिविल सर्जन शिव चंद्र झा आदि थे।

कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में शनिवार को बाढ़ एवं आपदा प्रबंधन को लेकर समीक्षा बैठक में उस वक्त अफरातफरी मच गई, जब फोटोग्राफी के लिए डीएम के आदेश पर एक मिनट के लिए मीडियाकर्मियों के लिए द्वार खोला गया। अध्यक्षता जिला प्रभारी मंत्री प्रमोद कुमार कर रहे थे। मीडियाकर्मी सभाकक्ष के द्वार पर ही जमे रहे। करीब एक घंटे के इंतजार के बाद जब डीएम के निर्देश पर मीडियाकर्मियों के लिए सभाकक्ष का द्वार खुला तो कुछ पल के लिए अफरातफरी मच गई। बाढ़ एवं आपदा प्रबंधन को लेकर समीक्षा बैठक के कवरेज के लिए मीडियाकर्मियों को तो बुला लिया गया था।

फोटोग्राफी के लिए खुला एक मिनट के लिए द्वार