Hindi News »Bihar »Siwan» नियम-कायदों को ताक पर रख खुले हैं निजी अस्पताल और होटल

नियम-कायदों को ताक पर रख खुले हैं निजी अस्पताल और होटल

शहर में होटल, प्राइवेट अस्पताल व क्लिनिकों को लेकर लोगों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। सिविल सर्जन ने...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 26, 2018, 04:35 PM IST

नियम-कायदों को ताक पर रख खुले हैं निजी अस्पताल और होटल
शहर में होटल, प्राइवेट अस्पताल व क्लिनिकों को लेकर लोगों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। सिविल सर्जन ने साफ तौर से कहा है कि क्लीनिकल इन्वेस्टिमेंट एक्ट की तहत प्राइवेट अस्पताल का रजिस्ट्रेशन कराना है। इतना ही नहीं प्रत्येक क्लीनिक व प्राइवेट अस्पताल को अपने अस्पताल परिसर में पार्किंग स्पेस, सर्कुलेशन स्पेस व मरीजों की सुविधाओं के लिए पर्याप्त जगह रखनी है, ताकि वह अस्पतालों में घूम सकें, लेकिन आश्चर्य इस बात का है कि सीवान जिला मुख्यालय में संचालित हो रहे अधिकांश प्राइवेट अस्पताल, क्लीनिक या होटल के संचालको के पास पार्किंग स्पेस नहीं है। जिला मुख्यालय में 20 से अधिक प्राइवेट अस्पताल,15 से अधिक होटल और 150 से अधिक क्लीनिक हैं लेकिन किसी के पास भी पार्किंग स्पेस नहीं है। शहर की सभी सड़कें हैँ अतिक्रमण की चपेट में

मालूम हो कि शहर की सभी सड़कें अतिक्रमण की चपेट में हैं। रही-सही कसर अवैध पार्किंग पूरी कर देता है। अवैध पार्किंग की समस्या के चलते सुबह और शाम को व्यस्तम पर सड़कों पर जाम की समस्या बनी रहती है। हर कोई बेबस है।

20 से अधिक निजी अस्पताल औरसे अधिक मॉल और होटलों का हुआ है निर्माण

सड़क पर अतिक्रमण, पार्किंग के लिए जगह नहीं।

सुबह से लेकर शाम तक इस रोड पर रहती है वाहनों की पार्किंग

खरीदारी के लिए बेहतर स्थान होने के कारण नाते सुबह से लेकर शाम तक इस रोड पर हजारों की संख्या में वाहनों की पार्किंग सड़कों पर देखी जा सकती है। इस रोड पर दोनों साइड सड़क की पटरियों (फुटपाथ) पर बाइकों और कारों की पार्किंग की जाती है। इसके कारण रोड पर हर दस मिनट के बाद जाम की समस्या से लोगों को जूझना पड़ता है। इसके बाद भी नगर पालिका, प्रशासन और यातायात पुलिस चुप्पी साधे बैठी है। अवैध पार्किंग की समस्या पर ध्यान न दिए जाने के कारण शहर वासियों को अक्सर समस्याओं से दो-चार होना पड़ रहा है। अवैध पार्किंग की समस्या को लेकर कई बार लोगों द्वारा आवाज भी उठाई जा चुकी है, लेकिन कुछ दिन तक अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चलता है, लेकिन बाद में मामला फिर जस का तस हो जाता है।

हर परिसर में रहनी है गाड़ी पार्किंग की जगह

क्लीनिकल इन्वेस्टिमेंट एक्ट की तहत प्राइवेट अस्पताल का रजिस्ट्रेशन कराना है। इतना ही नहीं प्रत्येक क्लीनिक व प्राइवेट अस्पताल को अपने अस्पताल में पार्किंग स्पेस, सर्कुलेशन स्पेस व मरीजों की सुविधाओं के लिए पर्याप्त जगह रखनी है, ताकि वह अस्प्तालों में घुम टहल सकें। यह जिम्मेदारी भवन का नक्शा पास करने वालों की बनती है, आखिर कैसे बिना पार्किंग स्पेस के भवन का नक्शा पास कर दिया गया। डा. शिवचन्द्र झा, सिविल सर्जन, सीवान

बिना पार्किंग के नहीं पास होगा नक्शा

ऐसे किसी को भी होटल बनाने का परमिशन या बिल्डिंग का नक्शा नहीं पास होना चाहिए, जबतक की उसके पास पार्किंग स्पेस नहीं हो। जो लोग पार्किग रोड पर लगा रहें हैं, निमयत: उन्हें उसका शुल्क जमा करना चाहिए। ऐसे लोगों के खिलाफ एक सर्वे शुरु कराएंगे और चिन्हित सभी को नोटिस करेंगे। पार्किंग ओपेन स्पेस में नहीं लगाना है, इसमें पुलिस को भी सख्त होना चाहिए। पार्किंग ओपेन स्पेस में लगानी ही नहीं है। सुशील कुमार, कार्यपालक पदाधिकारी, नगर परिषद सीवान

अस्पताल रोड और स्टेशन रोड हो गया है व्यस्ततम रोड

सीवान की सड़कों में अस्पताल रोड, थाना रोड व स्टेशन रोड व्यस्तम सड़कों में अब गिना जाने लगा है। थाना रोड पर सर्राफा, बर्तन और दैनिक उपयोग की वस्तुओं का बाजार सजा रहता हैं तो अस्पताल रोड में अस्पताल व क्लिनिकों की भरमार है। स्टेशन रोड व सीवान छपरा रोड में गाड़ियों व इलेक्ट्रॉनिक्स दुकानों के सामने वाहन पार्किंग ने सड़कों पर चलना दुभर हो गया है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Siwan

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×