अस्पताल में अॉपरेशन के बाद नहीं नहीं मिल रहा बेड सफाई कर्मी रुपए लेकर महिलाओं को लगा रहे सूई

Supaul News - रेफरल अस्पताल राघोपुर में विभागीय उदासीनता से मरीजों को मुलभूत सुविधाएं नहीं मिल रही है। अस्पताल प्रबंधन एवं...

Feb 15, 2020, 09:35 AM IST
Raghopur News - bed cleaning workers are not getting needles after taking surgery in hospital

रेफरल अस्पताल राघोपुर में विभागीय उदासीनता से मरीजों को मुलभूत सुविधाएं नहीं मिल रही है। अस्पताल प्रबंधन एवं कर्मियों द्वारा मरीजों से आर्थिक दोहन का भी मामला सामने आया है। गुरुवार की रात्रि करीब 10 बजे रेफरल अस्पताल राघोपुर की पड़ताल करने पर अस्पताल प्रबंधन के दावों की हकीकत सामने आई।

सरकारी आदेशानुसार रेफरल अस्पताल में हर सोमवार एवं गुरुवार को परिवार नियोजन कैंप लगाया जाता है। जहां प्रखंड क्षेत्र सहित आस-पास के प्रखंड से दर्जनों महिला आॅपरेशन करवाने पहुंचती है। गुरुवार को भी परिवार नियोजन कैंप लगाया गया था। जिसमें कुल 45 महिलाओं का ऑपरेशन किया गया। मरीजोें ने ने कहा कि अस्पताल में सरकारी स्तर से परिवार नियोजन ऑपरेशन तो कर दिया गया है। लेकिन ऑपरेशन के बाद किसी भी मरीज को अस्पताल में बेड उपलब्ध नहीं कराया गया। जिस कारण मरीजों को अस्पताल की सीढी, बरामदे सहित अन्य स्थानों पर ठंड की रात फर्श पर ही गुजारनी पड़ी। इसके खिलाफ मरीजों एवं परिजनों द्वारा कई बार आवाज उठाई गई। लेकिन कोई सुधार नहीं हुआ।

गुरुवार की रात राघोपुर अस्पताल प्रबंधन के दावों की हकीकत आई सामने

मामले की जांच कर की जाएगी कार्रवाई


मरीज के परिजनों का किया जाता है आर्थिक दोहन

मरीज के परिजनों ने कहा कि राघोपुर रेफरल अस्पताल में कर्मियों की मनमानी का आलम यह है की अस्पताल पहुंचने वाले मरीजों को सरकारी सुविधा मिलना तो दूर कर्मियों द्वारा खुलेआम मरीजों का आर्थिक दोहन किया जाता है। जिसकी जानकारी अस्पताल के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी सहित सभी वरीय अधिकारी को रहने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की जाती है। धरहरा धत्ता निवासी फुलकुमारी देवी, रामविशनपुर निवासी पूजा कुमारी, सिमराही बाजार निवासी शालू कुमारी, नरपतपट्टी निवासी पूनम देवी, नरहा बेरदह निवासी बबिता देवी, रतनपुरा निवासी अनिता देवी सहित अन्य ने कहा कि हमलोग यह सोचकर आए थे कि यहां सरकारी सुविधा मिलेगी और रुपए खर्च नहींं करने पड़ेंगे। जबकि अस्पताल पहुंचने पर पहले ही बता दिया गया है दवाई बाहर से खरीदना पड़ेगा। अस्पताल में ऑपरेशन के बाद ऑपरेशन थियेटर से स्ट्रैचर से उठाकर बरामदे पर रखने का कर्मियों द्वारा प्रति मरीज 30 रुपए वसूल किया गया। इसके अलावा सूई लगाने का प्रति सुई 10 रुपए अलग से वसूला गया। इसके बाद भी महिलाओं को नर्स अथवा कंपाउंडर की बजाए पुरुष सफाई कर्मी ने सुई लगाई। मरीजों ने कहा कि रेफरल अस्पताल में आउट सोर्सिंग एजेंसी की ओर से न तो खाना और न ही नाश्ता दिया गया है। पड़ताल के दौरान रेफरल अस्पताल राघोपुर में ओपीडी बंद था। लेकिन कैमरे को देख अस्पताल के गार्ड ने तुरंत ओपीडी का दरवाजा खोल दिया। जहां कोई चिकित्सक मौजूद नहीं थे। जबकि सूचना पट्ट पर डॉ. राजेन्द्र गुप्ता की ड्यूटी थी।

राघोपुर रेफरल अस्पताल में हॉल में ऑपरेशन के बाद फर्श पर सोई महिलाएं व परिजन।

राघोपुर रेफरल अस्पताल में सीढ़ी के नीचे साेए मरीज व परिजन

राघोपुर रेफरल अस्पताल में खाली पड़ा डॉक्टर का चेंबर

Raghopur News - bed cleaning workers are not getting needles after taking surgery in hospital
Raghopur News - bed cleaning workers are not getting needles after taking surgery in hospital
X
Raghopur News - bed cleaning workers are not getting needles after taking surgery in hospital
Raghopur News - bed cleaning workers are not getting needles after taking surgery in hospital
Raghopur News - bed cleaning workers are not getting needles after taking surgery in hospital
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना