• Hindi News
  • National
  • Supaul News Child Welfare Police Officer Is Not Transferred At Short Intervals If He Also Gets The Post

बाल कल्याण पुलिस पदाधिकारी का छोटे अंतराल पर न हो तबादला, हो तो पद भी मिले

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
किशोर न्याय परिषद की समन्वय बैठक शनिवार को परिषद कार्यालय में प्रधान मजिस्ट्रेट विवेक कुमार मिश्र व सदस्य अफसरी इल्ताफ की अध्यक्षता में हुई।

बैठक के दौरान बताया गया कि समाज कल्याण विभाग के बाल संरक्षण समिति निदेशक द्वारा जारी निर्देश के आलोक में किशोर न्याय परिषद के सदस्यों की समन्वय बैठक न्यायालय के अनुसार प्रत्येक माह के अंतिम कार्य दिवस में होना है। जिला समन्वय समिति में पुलिस उपाधीक्षक मुख्यालय, जिला बाल कल्याण पुलिस पदाधिकारी व जिला बाल संरक्षण इकाई के सहायक निदेशक शामिल किए गए हैं। शनिवार की बैठक में प्रधान मजिस्ट्रेट ने नोडल पदाधिकारी सह मुख्यालय डीएसपी विनोद कुमार को निर्देश दिया कि बाल कल्याण पुलिस पदाधिकारी का छोटे अंतराल पर थानों में स्थानांतरण नहीं होना चाहिए। स्थानांतरण की स्थिति में भी संबंधित अधिकारी को बाल कल्याण पुलिस पदाधिकारी का ही प्रभार मिलना चाहिए। इससे किशोरों के मामलों में जांच में कोई परेशानी नहीं होगी।

मुख्यालय डीएसपी को किशोरों के सीडी, सीएस व एसबीआर रिपोर्ट ससमय परिषद के समक्ष प्रस्तुत करने का सख्त निर्देश दिया गया। प्रधान मजिस्ट्रेट ने कहा कि इससे किशोरों से संबंधित मुकदमों में भी त्वरित कार्रवाई सुनिश्चित हो सकेगी। उन्होंने एनबीडब्लू की परीक्षा में भी तत्परता लाने का निर्देश दिया। वहीं अनुमंडल अभियोजन पदाधिकारी अरविंद पांडेय को डीएनए रिपोर्ट मंगवाने के निर्देश दिए। परिषद की सदस्य अफसरी इल्ताफ ने परिवीक्षा अधिकारी को विधि विवादित बच्चों का सामाजिक जांच रिपोर्ट की स्थिति समीक्षा करते हुए बच्चों का एसआईआर जल्द से जल्द परिषद में जमा करने का निर्देश दिया। जेजेबी सदस्य ने कहा कि जिन बच्चों का आईसीपी बनाया गया है, उसे जल्द से जल्द क्रियान्वित करने की आवश्यकता है। ताकि इन बच्चों को समाज के मुख्य धारा से जोड़ा जा सके।

हर थाने में फ्लैक्स बोर्ड लगवाने के दिए निर्देश : परिषद ने जिला बाल संरक्षण इकाई को जल्द से जल्द प्रत्येक थाने में फ्लैक्स लगाने का निर्देश दिया। जिसमें प्रधान मजिस्ट्रेट व जेजेबी सदस्य का नाम व मोबाइल नंबर के साथ बाल कल्याण पुलिस पदाधिकारी व पारा विधिक स्वयंसेवक का नाम व मोबाइल नंबर तथा चाइल्डलाइन का नंबर 1098 अंकित हो। साथ ही जिला बाल संरक्षण इकाई को सभी बाल कल्याण पुलिस पदाधिकारी के प्रशिक्षण हेतु कार्यशाला आयोजन का भी निर्देश दिया गया। बैठक में वशिष्ठ मुनी राय, इंद्रजीत सिंह, सुदामा सिंह, किस्कु कुमार सहित प्रवीण राही आदि थे।

सुपौल में आयोजित बैठक में उपस्थित किशोर न्याय परिषद के सदस्य।

खबरें और भी हैं...