नेताजी की देशभक्ति व बहादुरी ने अंग्रेजों को भारत से भागने पर किया था मजबूर : सतीश

Supaul News - यूथ क्लब के सदस्य एवं स्थानीय व्यवसायियों ने वंदे मातरम व जय हिंद, वीर सुभाष चंद्र बोस अमर रहे के नारे...

Jan 24, 2020, 09:35 AM IST
Saraigarh News - netaji39s patriotism and bravery forced the british to flee india satish

{यूथ क्लब के सदस्य एवं स्थानीय व्यवसायियों ने वंदे मातरम व जय हिंद, वीर सुभाष चंद्र बोस अमर रहे के नारे लगाए

{सुभाष चंद्र बोस ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अंग्रेजों के खिलाफ आजाद हिंद फौज का किया था गठन

नगर के सुभाष चौक पर नेताजी यूथ क्लब के तत्वाधान में गुरुवार को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 123 वीं जयंती मनाई गई। जयंती समरोह में सर्वप्रथम नेताजी यूथ क्लब के संयोजक शमीम अख्तर, लौकहा के पूर्व विधायक सतीश साह आदि ने नेताजी के स्मारक पर फूल माला पहनाकर उन्हें याद किया। इस दौरान यूथ क्लब के सदस्य एवं स्थानीय व्यवसायियों ने वंदे मातरम व जय हिंद, वीर सुभाष चंद्र बोस अमर रहे के नारे लगाए। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पूर्व विधायक श्री साह ने कहा कि नेताजी जैसे भारत के वीर सपूत को हम कभी नहीं भूल पाएंगे। नेताजी की देश भक्ति व बहादुरी ने अंग्रेजों को भागने पर मजबूर कर दिया और हमें आजादी प्राप्त हुई। आज हमें नेताजी के पदचिन्हों पर चलने की आवश्यकता है। वहीं, संयोजक ने कहा कि आज हम आजादी की जो सुखद अनुभूति ले रहे हैं, वह सब नेता जी जैसे वीर क्रांतिकारियों की देन है। हम सभी उनको बार-बार नमन करते हैं। देश की आजादी के लिये नेताजी के द्वारा दिये गए योगदान को हमारी पीढ़ियां भी हमेशा याद रखेगी। मौके पर उप मुख्य पार्षद रंजीत नायक, बिनोद कुमार साह, हिमांशु शेखर, देवेश सिंह, बिनोद भगत, राजू शर्मा, जावेद अनवर, हिमांशु शेखर, अनिल साह, किशोर साह, गोपाल साह, प्रणव राय, बबलू पंसारी, पिंकू पंसारी, मनोज शर्मा, संजय मंडल, निशान्त रंजन, पुतुल गुप्ता, तारिक अनवर, विवेकानंद, मो.भट्टू, ओम प्रकाश सिंह, अशोक मंडल सहित अन्य उपस्थित थे।

अभाविप ने नेताजी की जयंती पर संगोष्ठी का किया आयोजन

सरायगढ़-भपटियाही| अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद इकाई द्वारा बिहारी गुरूमैता उच्च माध्यमिक विद्यालय भपटियाही परिसर में गुरुवार को नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती समारोह पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी को संबोधित करते हुए इकाई के संयोजक शिवजी कुमार ने कहा कि सुभाष चंद्र बोस ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अंग्रेजों के खिलाफ लड़ने वाले जापान के सहयोग से आजाद हिंद फौज का गठन किया था। मौके पर विद्यालय के प्रधानाध्यापक सुधीर कुमार यादव ने भी सुभाष चंद्र बोस जयंती समारोह पर अपना विचार व्यक्त किए। मौके पर मुकेश कुमार मुन्ना, अमन कुमार, जितेंद्र कुमार, चंदन कुमार, राहुल कुमार, संदीप कुमार, संजू कुमारी, शैलेंद्र कुमार, अनुभव कुमार सहित दर्जनों छात्र-छात्राएं मौजूद थे।

जयंती पर नेताजी को किया याद

पिपरा|नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 123वीं जयंती गुरुवार को प्रखंड में मनाई गई। इस अवसर पर पिपरा बाजार के सुभाष चौक स्थित नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा पर अनुमंडल पदाधिकारी मो. कयूम अंसारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी अरविंद कुमार, अंचल अधिकारी राजीव कुमार द्वारा माल्यार्पण किया तथा नेताजी के देश के प्रति किए गए त्याग एवं बलिदान से उपस्थित लोगों को अवगत कराया गया। मौके पर मुखिया संगीता देवी, प्रदीप गुप्ता, शिव चंद्र नायक, पवन नायक, अशोक डे, शिव शंकर गुप्ता, प्रमोद खान, नटवर कुमार, श्याम सुंदर मंडल, विष्णुदेव राम आदि उपस्थित थे।

महान सेनापति, वीर सैनिक और राजनीति की अद्भुत मिसाल थे नेताजी सुभाष चंद्र बोस : प्राचार्य

सिटी रिपोर्टर | सुपौल

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के तत्वावधान में गुरुवार को बीएसएस कॉलेज परिसर में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती मनाई गई। इस मौके पर कार्यकर्ता भारत माता की जय, जय हिंद, वंदे मातरम के नारे भी लगा रहे थे। कार्यकर्ताओं ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया। प्राचार्य डॉ. संजीव कुमार ने कहा कि महान सेनापति, वीर सैनिक, राजनीति की अद्भुत मिसाल थे नेताजी सुभाष चंद बोस। उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता के लिए सुभाष चंद्र बोस ने करीब-करीब पूरे यूरोप में अलख जगाया। बोस प्रकृति से साधु, ईश्वर भक्त तथा तन एवं मन से देश भक्त थे। उन्होंने छात्रों से उनके जीवन व देश प्रेम से प्रेरणा लेने की अपील की। छात्र नेता सुमन कुमार ने कहा कि जालियां वाला बाग हत्याकांड ने सुभाष चंद्र बोस को इस कदर विचलित कर दिया कि वे भारत की आजादी की लड़ाई में कूद पड़े। लेकिन कुछ राजनीतिक पार्टियों के नेताओं ने उनके मृत्यु पर पर्दा डालकर जो कार्य किया उसे देश कभी माफ नहीं कर सकता है। जिला संयोजक राहुल कुमार ने कहा कि नेताजी का नारा था तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा। इसी नारे को स्वीकार कर आज के युवाओं को क्रांतिकारी बनने की जरूरत है। अध्यक्षता अभिनंदन कुमार ने किया। मौके पर शिवजी कुमार, यदुवंश कुमार, राजेश कुमार, कर्ण कुमार, शंकर कुमार, कमलेश कुमार, श्रवण कुमार, सुनील कुमार, कर्ण यादव, रंजीत कुमार, अनिल कुमार आदि मौजूद थे।

1921 में नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने महात्मा गांधी को दिया था राष्ट्रपिता का दर्जा : शशांक राज

सुपौल| शहर के गांधी मैदान रोड स्थित विकल्प द सॉल्यूशन सभागार में गुरूवार को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती धूमधाम से मनाई गई। मौके पर विकल्प द सॉल्यूशन के सचिव शशांक राज ने बताया कि आजाद हिंद फौज की स्थापना करने वाले नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को उड़ीसा के कटक में हुआ था। बचपन से ही इनमें अंग्रेजों के खिलाफ गुस्सा भरा था। यही कारण है कि पिता के कहने पर सुभाष चंद्र बोस ने आईएएस की परीक्षा पास की, लेकिन स्वतंत्रता संघर्ष को देखते हुए पद से इस्तीफा दिया और आंदोलन में कूद पड़े। वर्ष 1921 में उनकी मुलाकात अंग्रेजों भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान महात्मा गांधी से हुई। वहीं उन्होंने बापू को राष्ट्रपिता का दर्जा दिया। पाटलिपुत्र एजुकेशन सेंटर के निदेशक राजन कुमार ने कहा कि नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने नारा दिया था तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा। चित्रांश वेलफेयर ट्रस्ट के सचिव रूद्र प्रताप लाल ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जीवन पर विस्तार से प्रकाश डाला। वहीं शिक्षक प्रवीण कुमार ने प्रतिस्पर्धा और प्रतिद्वेष के रहस्यों को बताया और लोगो से प्रतिस्पर्धा की भावना को जगाए रखने की अपील की।

जिला शतरंज संघ के सचिव रघुवंश कुमार ने मौजूद सभी लोगों से नेताजी के राह पर चलने की अपील की। नवोदय एलुमिनी एसोसिएशन के मुकेश कुमार ने बताया कि हम सभी के अंदर नेताजी विद्यमान है। जरूरत है तो उन गुणों को पहचान कर उसे जागृत करने की। वहीं दीपशिखा सागर ने बताया कि सुभाष चंद्र बोस का जीवन देश सेवा के लिए काफी प्रेरित करता है। मौके पर कृष्णा, रितेश, राजन, अभिमन्यु, अंजनी, तनिष्का, जूली, नंदनी आदि मौजूद थे।

बीएसएस कॉलेज परिसर में नेताजी की जयंती पर संकल्प लेते अभाविप कार्यकर्ता।

सुपौल में नेताजी की जयंती मनाते संगठन के सदस्य व अन्य।

पिपरा में कार्यक्रम के दौरान उपस्थित अधिकारी व अन्य।

सरायगढ़-भपटियाही में नेताजी को श्रद्धा सुमन अर्पित करते अभाविप कार्यकर्ता व अन्य।

निर्मली नगर के सुभाष चौक पर जयंती समारोह में पूर्व विधायक व अन्य।

Saraigarh News - netaji39s patriotism and bravery forced the british to flee india satish
Saraigarh News - netaji39s patriotism and bravery forced the british to flee india satish
Saraigarh News - netaji39s patriotism and bravery forced the british to flee india satish
Saraigarh News - netaji39s patriotism and bravery forced the british to flee india satish
X
Saraigarh News - netaji39s patriotism and bravery forced the british to flee india satish
Saraigarh News - netaji39s patriotism and bravery forced the british to flee india satish
Saraigarh News - netaji39s patriotism and bravery forced the british to flee india satish
Saraigarh News - netaji39s patriotism and bravery forced the british to flee india satish
Saraigarh News - netaji39s patriotism and bravery forced the british to flee india satish
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना