रजिस्टर्ड किसान उत्पादक संगठन को आत्मा देगा 50 हजार का अनुदान

Supaul News - जिला परिषद कार्यालय सभागार में शुक्रवार को नाबार्ड द्वारा किसान उत्पादक संगठन के 4 कंपनियों के निदेशक मंडल...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 09:40 AM IST
Supaul News - spirit will give 50 thousand rupees to the registered farmers39 productive organization
जिला परिषद कार्यालय सभागार में शुक्रवार को नाबार्ड द्वारा किसान उत्पादक संगठन के 4 कंपनियों के निदेशक मंडल सदस्याें की प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित हुई। कार्यशाला का शुभारंभ नाबार्ड के जिला विकास प्रबंधक पंकज कुमार, आत्मा परियोजना निदेशक राजन बालन, राष्ट्रपति से पुरस्कृत हाजीपुर के किसान संजीव कुमार, जिला केंद्रीय सहकारी बैंक के अध्यक्ष कुशेश्वर प्रसाद यादव आदि ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। मौके पर आत्मा परियोजना निदेशक ने कहा कि एफपीओ एफआईजी का ही वृहत रूप है, जिसका काम कृषकों के विकास के लिए कार्य करना है। किसानों के इस संगठन में सभी किसान मिल कर ही कंपनी का निर्माण करते हैं।

उन्होंने बताया कि सोसाइटी और कंपनी एक्ट के तहत एफपीओ का रजिस्ट्रेशन हो सकता है। सहकारिता विभाग के सोसाइटी एक्ट में तथा सीओ की मदद से लगभग 40 हजार में एफपीओ का रजिस्ट्रेशन होता है। उन्होंने रजिस्टर्ड एफपीओ के निदेशक से रजिस्ट्रेशन नंबर सहित अन्य विवरण उनके कार्यालय को उपलब्ध कराने का अनुरोध किया। कहा कि सरकार ने एफपीओ के सहयोग के लिए 50 हजार रुपए का प्रावधान किया है, जो आवंटन मिलते ही भुगतान कर दिया जाएगा। विभाग ने प्रत्येक प्रखंड में कम से कम एक एफपीओ के गठन का लक्ष्य तय किया है। उन्होंने एफपीओ के सफल संचालन के लिए निदेशक बोर्ड में ईमानदारी और विश्वास कायम रखने की सलाह दी। कहा कि यह सोना देने वाली मुर्गी है, लेकिन मुर्गी को जिंदा रखना भी जरूरी है। अन्यथा एक-एक कर सदस्य संगठन को छोड़ देंगे। उन्होंने विभाग की ओर से हरसंभव सहयोग का भरोसा दिलाया।

आपसी समन्वय से सभी एफपीओ होंगे लाभान्वित : मधेपुरा के उदाकिशनगंज से आए किसान चंदन कुमार झा व गम्हरिया से आए धर्मेंद्र कुमार ने भी अपने अनुभव साझा किए। कहा कि सामान्य किसानी के अलावा वे औषधीय फसलों की भी खेती कर रहे हैं। उनका एफपीओ आज कई कीमती औषधी का व्यापार कर रहा है। उन्होंने कोसी के दियारा इलाके में भी कुछ औषधीय फसलों की खेती की सलाह दी। कहा कि इसके लिए तकनीक और संसाधनों की उपलब्धता वे उपलब्ध कराएंगे। जबकि उनका एफपीओ इलाके में कांट्रैक्ट फार्मिंग पर भी विचार कर रहा है।

सुपौल मंे कार्यशाला को संबोधित करते अधिकारी।

हर सदस्य को करना होगा निजी प्रयास, तभी मिलेगी सफलता

राष्ट्रपति से पुरस्कृत किसान संजीव कुमार ने संगठ न के हर सदस्य को एक कंपनी मालिक के रूप में निजी जिम्मेवारी लेने की सलाह दी। उन्होंने अपना अनुभव साझा करते हुए कहा कि आज वे अपने संगठन के माध्यम से बीज का कारोबार भी कर रहे हैं। विश्वास और ईमानदारी के बिना संगठन को मजबूती नहीं मिलेगी और उद्देश्य प्राप्ति में सफलता भी नहीं मिलेगी। वहीं कुशेश्वर प्रसाद यादव ने पंजियों के संधारण से जुड़ी तकनीकी जानकारी दी। कहा कि लेखा पंजी में आय-व्यय की मासिक प्रवृष्टि के साथ ही सालाना बैलेंस सीट तैयार करने से लाभ-हानि का अंदाजा लगेगा।

X
Supaul News - spirit will give 50 thousand rupees to the registered farmers39 productive organization
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना