रमजान के दूसरे जुमे की नमाज अदा कर अल्लाह से मांगी गुनाहों की माफी

Supaul News - मस्जिद में नमाज अदा करते रोजेदार। सिटी रिपोर्टर | सुपौल रमजान के मुबारक महीने के दूसरे जुमे की नमाज शुक्रवार...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 09:36 AM IST
Supaul News - the prayers of the second zamya of ramzan and the forgiveness of the sins sought by allah
मस्जिद में नमाज अदा करते रोजेदार।

सिटी रिपोर्टर | सुपौल

रमजान के मुबारक महीने के दूसरे जुमे की नमाज शुक्रवार को शहर समेत सदर प्रखंड के विभिन्न मस्जिदों में श्रद्धा पूर्वक अदा की गई। मौके पर हजारों की संख्या में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने मस्जिदों में एकत्रित होकर दूसरे जुमे की नमाज अदा कर सुख, शांति व समृद्धि की कामना की।

मौके पर शहर के जामा मस्जिद, गोदाम चौक मस्जिद, नूरानी मस्जिद समेत सदर प्रखंड के नुनुपट्‌टी स्थित जामा मस्जिद, सुखपुर स्थित मोती मस्जिद समेत अन्य मस्जिदों में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने एक साथ नमाज अदा की। मौलाना अयूब ने बताया कि इस्लामिक ग्रंथों के अनुसार रमजान का महीना तीन हिस्सों में बांटा गया है। जिसे आसरा कहा जाता है। सभी आसरे का अपना अलग महत्व है। जिसमें पहला आसरा रहमत का दूसरा आसरा मगफिरत एवं तीसरा आसरा जहन्नुम से आजादी का है।

दूसरे आसरे का है अपना महत्व : मौलाना अयूब बताते हैं कि यूं तो रमजान का पूरा महीना ही रहमतों और बरकत वाला होता है। बताया कि रमजान का पहला अासरा रहमत का गुजरा और दूसरा आसरा मगफिरत का चल रहा है। बताया कि दूसरे आसरे में अल्लाह इस आसरे के अंदर गुनहगार बन्दों की नेकियों को देखकर जैसे नमाज रोजा देख कर उसकी गुनाहों से मगफिरत फरमाते हैं। उसके गुनाहों को माफ कर देते हैं। इसलिए रोजेदारों को चाहिए कि ज्यादा से ज्यादा कुरान मजीद की तिलावत करें और अपने अफ्तरी और शहरी में गरीबों को भी शिरकत किया करें। पैगंबर इस्लाम ने फरमाया है कि जो किसी भी रोजेदार को अफतार करवाएगा तो अल्लाह उसको कयामत के दिन होजे कोसर का पानी पिलाएंगे। जिसकी बरकत यह होगी कि जन्नत में दाखिल होने तक उसको कभी प्यास नहीं लगेगी।

कम खाएं, ज्यादा पानी पीएं

गर्मी में रोजा करने पर ज्यादातर लोगों को गैस की बीमारी की शिकायत ज्यादा होने लगती है। जिससे बचने की जरूरत है। चिकित्सक डॉ. इनायत कासमी बताते हैं कि पानी की कमी से बचने के लिए रोजेदारों को रोजा तोड़ने के बाद खाना कम अौर पानी का सेवन ज्यादा करनी चाहिए। साथ ही केला, शरबत, दूध, लस्सी, दही व नारियल पानी पर्याप्त मात्रा में लेनी चाहिए। नमक का सेवन कम करना चाहिए।

X
Supaul News - the prayers of the second zamya of ramzan and the forgiveness of the sins sought by allah
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना