• Hindi News
  • Bihar
  • Supaul
  • Supaul News you came here i remember the moon turned out in the street as soon as the song started the listeners in the pandal also started singing together
--Advertisement--

तुम अाए तो आया मुझे याद, गली में आज चांद निकला... गाना शुरू होते ही पंडाल में श्रोता भी साथ-साथ गाने लगे

Supaul News - शक्तिपीठ मां वन देवी दुर्गा स्थान परिसर में पर्यटन विभाग द्वारा आयोजित वीर लोरिक महोत्सव के मुख्य मंच से...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 05:21 AM IST
Supaul News - you came here i remember the moon turned out in the street as soon as the song started the listeners in the pandal also started singing together
शक्तिपीठ मां वन देवी दुर्गा स्थान परिसर में पर्यटन विभाग द्वारा आयोजित वीर लोरिक महोत्सव के मुख्य मंच से शुक्रवार की शाम सांस्कृतिक संध्या में भोजपुरी पार्श्व गायिका अमृता दीक्षित ने अपने सुरों के जादू से दर्शकों का मन मोह लिया। जिला प्रशासन की ओर से आयोजित इस सांस्कृतिक संध्या में पार्श्व गायिका अमृता दीक्षित का कार्यक्रम देख एवं सुन कर मंत्रमुग्ध हुए। मौके पर अमृता दीक्षित ने कहा कि शक्तिपीठ हरदी दुर्गा स्थान एवं वीर लोरिक की धरती पर अपने कार्यक्रम की प्रस्तुति को लेकर वे काफी रोमांचित एवं हर्षित हैं। ऐसा विश्वास है कि आप सभी दर्शकों को मेरा कार्यक्रम पसंद आएगा। पार्श्व गायिका अमृता ने अपने कार्यक्रम की शुरूआत भोजपुरी भक्ति गीत निमिया के डाल मैया, लागली झुलबा कि झुली न...। अमृता के इस गीत पर दर्शकों की तालियां गीत के साथ बजती रही। अमृता ने जब तुम पर की मैं भरोसा छोड़ा साथी रे...की प्रस्तुति दी तो पूरा पंडाल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। सैयां मिले लड़कैयां मैं का करू...गीत पर दर्शकों से खचाखच भरा पंडाल में मौजूद दर्शकों का उत्साह देखते ही बन रहा था। सोच-सोच जिया हमरो... गीत पर भी दर्शकों ने खूब तालियां बटोरी। अमृता एवं सुंदर ने सारे शिकवे गिले भुला के कहो...गीत दर्शकों को थिरकने पर मजबूर कर दिया।

शक्तिपीठ मां वन देवी दुर्गा स्थान परिसर में पर्यटन विभाग द्वारा आयोजित वीर लोरिक महोत्सव पर पहले दिन कलाकारों ने दी प्रस्तुति

हरदी के लोरिक महोत्सव में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान पंडाल में उपस्थित दर्शक।

गायक सुंदर एवं चरनजीव ने भी दर्शकों को झूमने पर किया मजबूर

गायक सुंदर एवं चरनजीव ने खाली दिल नयो जानवी ए मंगदा...हिंदी गीत पर युवा दर्शकों को झुमने पर मजबूर कर दिया। मो. अजीज के गीत ऐ मेरे दोस्त लौट के आ जा, बिन तेरे जिंदगी अधूरी है...गीत गाकर गायक सुंदर ने उपस्थित सभी दर्शकों को अजीज के याद दिला दिए। वहीं गायिका कोयल वागी ने तुम अाये तो आया मुझे याद, गली में आज चांद निकला गाया लोग साथ गाने लगे। सैंया ले गई जिया तेरी पहली नजर... गाकर दर्शकों का दिल जीत लिया। इसके अलावा गायिका ने सैयां ले गई जिया तेरी पहली नजर...। तेरे-मेरे बीच में कैसा है ये बंधन अंजना...। और इस दिल में क्या रखा है तेरा ही प्यार छुपा रखा है...आदि गीत प्रस्तुत कर दर्शकों का मन मोह लिया। साथ ही अपूर्व एवं साथी ने एक से बढ़कर एक डांस प्रस्तुत किया। सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान महोत्सव स्थल दर्शकों से भरा हुआ था। हाल ये हुआ कि भीड़ को कंट्रोल करना प्रशासन के लिए मुश्किल हो गया।

पांच दिवसीय लोरिक महोत्सव का समापन 11 दिसम्बर को

महोत्सव के दूसरे दिन शनिवार को मुख्य मंच पर लोकगाथा, लोरिक चयन प्रतियोगिता, कुश्ती एवं स्थानीय कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। वहीं 9 दिसम्बर को भाषण प्रतियोगिता, सुगम संगीत, समूह नृत्य, कुश्ती एवं संध्या में स्थानीय कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। 10 दिसम्बर को संध्या तीन बजे से लोकगीत, एकांकी नाटक, समूह नृत्य एवं स्थानीय कलाकारों के द्वारा रात 10 बजे तक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन होगा। महोत्सव के समापन एवं अंतिम दिन 11 दिसम्बर को सुगम संगीत, लोकगीत, कार्यक्रम के सफल आयोजन में सहयोग करने वाले तमाम सहभागियों को प्रशस्ति पत्र, स्थानीय कलाकारों के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं रात में राज्य के मशहुर गायक एवं गायिका द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति देंगे।

X
Supaul News - you came here i remember the moon turned out in the street as soon as the song started the listeners in the pandal also started singing together
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..