--Advertisement--

ऑस्कर 2019 / फॉरेन लैंग्वेज केटेगरी में बांग्लादेश ने भेजी इरफान खान की फिल्म डूब-नो बेड फॉर रोजेस

द एकेडमी अवार्ड्स सेरेमनी (द ऑस्कर) 24 फरवरी 2019 को होगी।

Bangladesh send Irrfan khan starer doob no bed for roses to 91st Oscar
X
Bangladesh send Irrfan khan starer doob no bed for roses to 91st Oscar
  • फिल्म डूब-नो बेड फॉर रोजेस इरफान खान की अदाकारी वाली 10वीं अंतरराष्ट्रीय फिल्म है। 
  • फिल्म की कुल अवधि 105 मिनट है, लेकिन इंटरनेशनल कट के बाद यह 85 मिनट रह गई। 

Dainik Bhaskar

Sep 24, 2018, 05:01 PM IST

हॉलीवुड डेस्क.  बांग्लादेश ने एक्टर इरफान खान की फिल्म डूब को 2019 में होने वाले एकेडमी अवार्ड्स ऑस्कर्स में भेजने का निर्णय लिया है। फिल्म का निर्माण भारत और बांग्लादेश ने संयुक्त रूप से किया था। डूब, 91वें ऑस्कर अवार्ड्स के दौरान फॉरेन लैंगवेज केटेगरी में भारत की ओर से भेजी गई रीमा दास की फिल्म विलेज रॉकस्टार्स से कम्पीट करेगी।

 

इरफान खान डूब

 

15 फेस्टिवल्स में हुई शामिल : डूब का वर्ल्ड प्रीमियर 25 जून 2017 को शंघाई इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में हुआ था। इसके अलावा इस फिल्म को तकरीबन 15 फिल्म फेस्टिवल्स में प्रदर्शित हो चुकी है। फिल्म का निर्देशन बांग्लादेशी डायरेक्टर मुस्तफा सरवर फारुखी ने किया है। 

 

इरफान खान

 

विवाद में भी फंसी थी फिल्म : 16 फरवरी 2017 को फिल्म का नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट सूचना मंत्रालय ने रोक दिया था। दरअसल राइटर हुमायूं अहमद की वाइफ एक्टर और सिंगर मेहर अफरोज ने सरकार को यह बात बताई थी कि फिल्म का कुछ हिस्सा उनके स्वर्गवासी पति के जीवन से मिलता-जुलता है। 

 

इरफान खान डूब नो बेड फॉर रोजेस

 

क्लीयरेंस के इंतजार में हुई देर : फिल्म को क्लीयरेंस सर्टिफिकेट का लम्बा इंतजार करना पड़ा। जून में हुए शंघाई फिल्म फेस्टिवल के 5 महीने बाद अक्टूबर 2017 में फिल्म भारत और बांग्लादेश में रिलीज हो पाई थी। फिल्म के मुख्य किरदारों में इरफान खान, नुसरत इमरोज तिशा, पर्णो मित्रा, रोकेया प्राच्य शामिल हैं। 

 

इरफान खान कैंसर

 

कहानी मिलती-जुलती है : डूब की कहानी एक फिल्ममेकर की है जो अपने जीवन के उस दौर में हैं जहां वह अकेलेपन को दूर करने की कोशिश में खुद विवादों में फंस जाता है। उस व्यक्ति का, उसकी ही बेटी की बचपन की फ्रैंड से रिश्ता हंगामा मचा देता है। यह फिल्म कुछ-कुछ लेखक हुमायूं अहमद के जीवन से प्रेरित लगती है। 

--Advertisement--
Bhaskar Whatsapp
Click to listen..