--Advertisement--

16 साल की बेटी के करियर पर जूही ने यह कहा, दी पार्टियों से दूर रहने की सलाह

बतौर मां और प्रोड्यूसर जूही बेहद जिम्मेदार इंसान के रूप में सामने आई हैं।

Danik Bhaskar | Jan 02, 2018, 05:37 PM IST
बेटी जाह्नवी और हसबैंड जय मेहता के साथ जूही चावला। बेटी जाह्नवी और हसबैंड जय मेहता के साथ जूही चावला।

मुंबई. खिली-खिली हंसी, शाहरुख से दोस्ती और ज्यादातर प्रेम-प्रधान फिल्में करने के लिए मशहूर जूही चावला बॉलीवुड से कभी भी पूरी तरह बाहर नहीं हुईं। बीच-बीच में उनकी ऑफबीट फिल्में भी आती रही हैं। बतौर मां और प्रोड्यूसर जूही बेहद जिम्मेदार इंसान के रूप में सामने आई हैं। फिलहाल, जूही टीवी सीरीज `शरणम्' में बतौर सूत्रधार नजर आ रही हैं। इन दिनों वे नए साल की छुट्टियां मनाने के लिए अफ्रीका में हैं। विदेश जाने से पहले जूही से हमने पूछा :

बेटी के करियर को लेकर जूही बोलीं जूही, जो भी चाहे, पूरा साथ दूंगी!

जूही ने अपनी 16 साल की बेटी जाह्नवी को लेकर कहा, "बच्चे स्कूल में हैं। मेरी बेटी पढ़ाई में काफी अच्छी है। मुझे लगता है कि वो राइटर बनेगी। स्कूल में उसने टॉप किया है। इतिहास में रुचि है। जहां तक फिल्मों में आने की बात है, बॉलीवुड पहले से काफी बदल चुका है, इसके बावजूद वो एक्टिंग की फील्ड में आना चाहेगी तो मुझसे ज्यादा खुश और कोई नहीं होगा। हां, उसे फिजूल की बातों, गॉसिप्स और पार्टी से दूर-रहकर, काम पर फोकस करने की सलाह दूंगी।"

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें, आखिर अपने उन चार साल को कभी याद नहीं करना चाहतीं जूही...

जूही चावला। जूही चावला।

सवाल : आप बेहद पॉज़िटिव हैं। क्या कभी ज़िंदगी में कोई ऐसा लम्हा आया, जब पूरी तरह निराश हो गई थीं?

 

जवाब : हां, एक समय था, जब मुझे लगा कि पूरी तरह खत्म हो गई हूं। मेरा करिअर एकदम उड़ान भर रहा था, तभी मां का एक्सिडेंट हो गया था। एक पल में, वो इंसान चला गया, जिससे मैं सबसे ज्यादा प्यार करती थी। कुछ ही अरसे बाद पिता जी, फिर मां के जैसे ही जिन्हें चाहती थी - मासी - उन्हें कैंसर हुआ। दो-तीन महीने में वो खत्म। भाई का ब्रेन हैमरेज हुआ, वो कोमा में चले गए। चार साल मैंने जो दिन देखे हैं,  उन्हें याद भी नहीं करना चाहती।

 

जूही बोलीं- मैंने शाहरुख जैसे लड़कों को सुपरस्टार बना दिया, पढ़ें आगे की स्लाइड्स...

शाहरुख खान और जूही चावला। शाहरुख खान और जूही चावला।

सवाल : आपके को-स्टार्स तो अब तक मेन लीड कर रहे हैं, लेकिन आप पहले की तरह परदे पर नहीं हैं। इस बारे में क्या कहना है?

 

जवाब : वाह-वाह ! थैंक्यू भी। (हंसती हैं) भई, पहले तो मेरी दाद दीजिए कि मैंने शाहरुख जैसे लड़कों को किस तरह की ट्रेनिंग दी है कि जिनके साथ काम किया और सुपरस्टार्स बनाया। जहां तक औरतों की बात है, शादी-बच्चे होने के बाद, हमारा ध्यान भी उस तरफ थोड़ा बंट सा जाता , जो सही भी है। ज़िंदगी आगे बढ़ती है तो आप पहले जैसे फेज पर काम नहीं कर सकते। एक और बात जो ज्यादा नहीं बदली है, सबसे ज्यादा पॉपुलर फिल्में रोमांस बेस्ड हैं। आगे बढ़कर मैं अपनी ज़िंदगी में पहले जैसा नाचना-गाना तो नहीं कर सकती और न ही करना चाहती हूं।

 

सवाल : मतलब एक्ट्रेसेज, पुरुष एक्टर्स की तुलना में परिवार के प्रति ज्यादा ज़िम्मेदार हैं?


जवाब : ऐसे ही समझदार भी हैं। श्रीमान जी, स्त्रियां न हों तो पुरुष आएंगे कैसे और जिएंगे किस तरह?

 

अनिल कपूर के साथ कर रही हैं फिल्म। इसे लेकर जूही ने क्या कहा, पढ़ें आगे की स्लाइड्स...

जूही चावला और अनिल कपूर। जूही चावला और अनिल कपूर।

सवाल : अनिल कपूर के साथ आप `एक लड़की को देखा...' कर रही हैं। उस बारे में कुछ बताएं!


जवाब : नए साल की छुट्टियां बिताकर जब भारत लौटूंगी तो इसकी शूटिंग शुरू करूंगी। फिलहाल, इसके सिवा और कुछ नहीं बता सकती कि ये फिल्म बेहद इंट्रेस्टिंग साबित होने वाली है।

 

शाहरुख के साथ दोस्ती पर यह कहा, पढ़ें आगे की स्लाइड्स...

शाहरुख खान और जूही चावला। शाहरुख खान और जूही चावला।

सवाल : आपकी प्रोडक्शन कंपनी ने कई अच्छी फिल्में दी हैं। फिलहाल, नई फिल्में नहीं बना रही हैं?


जवाब : अभी प्रोडक्शन बंद कर रखा है। `आईएम' को-प्रोड्यूस की थी। उसे नेशनल अवार्ड भी मिल गया तो अच्छी बात हो गई। पैसे डूब गए थे, लेकिन पुरस्कार मिलने की खुशी है। `रेड चिलीज' पूरी तरह सेपरेट है। वो सिर्फ शाहरुख की कंपनी है।

 

सवाल : हां, पर आप दोनों की दोस्ती तो पहले जैसी है!

 

जवाब : वो तो वैसी ही है। खुशनसीबी है कि हम आईपीएल से भी जुड़ गए तो मिलना-जुलना जारी है। कोलकाता नाइट राइडर की वजह से भी कामकाज चलता रहता है।

 

अपने शो को लेकर जूही ने क्या कहा, पढ़ें आगे की स्लाइड्स...

जूही चावला। जूही चावला।

सवाल : एक और बात... जूही! प्यार सिर्फ यंग एज का मोहताज नहीं होता, तो क्या कुछ मेच्योर लव स्टोरीज़ में आपको हम देख सकेंगे?


जवाब : 'एक लड़की को देखा...' मार्च तक पूरी हो जाएगी। इसके बाद ही आगे के प्रोजेक्ट्स के बारे में सोच पाऊंगी। कोई कमाल की स्क्रिप्ट मिली तो हर तरह के किरदार करने के लिए तैयार हूं।

 

सवाल : `शरणम्'  में ऐसा क्या खास था कि आपने टीवी पर आने का फैसला कर लिया!


जवाब : श्रद्धा और आस्था! मैं एक आस्तिक महिला हूं। ईश्वर पर मुझे पूरा विश्वास है। ऐसे में, जब ऐसा काम करने का प्रस्ताव मिला,  जो मेरे हृदय से दोनों तरीके से जुड़ा है, अभिनय और भक्ति - तो मना करने का प्रश्न ही नहीं था। मैं कुल 20 एपिसोड कर रही हूं, जिसमें निजामुद्दीन दरगाह, स्वर्ण मंदिर, वेलंकानी चर्च, सारनाथ, कामाख्या मंदिर, अजमेर शरीफ जैसे श्रद्धास्थलों की यात्रा शामिल है।