--Advertisement--

भंसाली को थप्पड़ मारने से अब तक, ऐसी है पद्मावत की A to Z कॉन्ट्रोवर्सी

सुप्रीम कोर्ट ने साफ कह दिया है कि फिल्म 'पद्मावत' सभी राज्यों में रिलीज होगी।

Danik Bhaskar | Jan 23, 2018, 12:45 PM IST
फिल्म 'पद्मावत' में रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण। फिल्म 'पद्मावत' में रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण।

मुंबई। सुप्रीम कोर्ट ने साफ कह दिया है कि फिल्म 'पद्मावत' सभी राज्यों में रिलीज होगी। फिल्म की रिलीज पर रोक हटाने के खिलाफ दायर की गईं मध्य प्रदेश और राजस्थान सरकार की पिटीशंस पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा- फिल्म की रिलीज का ऑर्डर हम पहले ही दे चुके हैं। गुरुवार को कोर्ट ने गुजरात, मध्य प्रदेश, राजस्थान और हरियाणा में फिल्म की रिलीज न किए जाने के नोटिफिकेशन पर रोक लगा दी थी। उधर, करणी सेना इस फिल्म को देखने को तैयार हो गई है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट और सेंसर बोर्ड से हरी झंडी मिलने के बाद पद्मावत 25 जनवरी को रिलीज होगी। कालवी बोले- हम फिल्म देखने को तैयार...


- करणी सेना के अध्यक्ष लोकेंद्र सिंह कालवी ने कहा कि हमें फिल्म के 40 प्वाइंट्स पर आपत्ति है। उन्होंने कहा- अगर भंसाली फिल्म दिखाना चाहते हैं तो इसके लिए तैयार हैं।
- वहीं फिल्म रिलीज न होने पर होने वाले नुकसान के सवाल पर कालवी ने कहा, "200 करोड़ की फ़िल्म है तो हम चंदा करके उन्हें दे देंगे।


फिल्म को लेकर विवाद क्या है?
- राजस्थान में करणी सेना, बीजेपी लीडर्स और हिंदूवादी संगठनों ने इतिहास से छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। राजपूत करणी सेना का मानना है कि ​इस फिल्म में पद्मिनी और खिलजी के बीच सीन फिल्माए जाने से उनकी भावनाओं को ठेस पहुंची है।
- फिल्म में रानी पद्मावती को भी घूमर डांस करते दिखाया गया है। जबकि राजपूत राजघरानों में रानियां घूमर नहीं करती थीं। हालांकि, भंसाली साफ कर चुके हैं कि ये ड्रीम सीक्वेंस फिल्म में है ही नहीं।


भंसाली को थप्पड़ मारने से महिलाओं के जौहर की धमकी तक, ऐसी है पद्मावत की कॉन्ट्रोवर्सी...

कैसे शुरू हुआ पद्मावती फिल्म पर विवाद...

- 27 जनवरी को जयपुर के जयगढ़ किले में पद्मावती की शूटिंग चल रही थी। शूटिंग के बीच में ही करणी सेना के लोग पहुंच गए। धक्का-मुक्की से शुरू झगड़ा डायरेक्टर भंसाली को थप्पड़ मारने, बाल नोंचने तक पहुंच गया।
- संजय लीला भंसाली ने फिल्म की शूटिंग जयपुर से कोल्हापुर शिफ्ट कर ली। पर विवाद बरकरार रहा। 14 मार्च की रात 40-50 लोगों की भीड़ ने पेट्रोल बम से हमला कर फिल्म का सेट जला दिया।

 

विरोध न करने के बदले मांगे पैसे...

26 सितंबर को सामने आए एक न्यूज चैनल के स्टिंग से मामला और गरमा गया। इसमें श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी और मुंबई संयोजक उम्मेद सिंह को दिखाया। दावा था कि दोनों ने अलाउद्दीन खिलजी और राजपूत महिला पर बनने वाली फिल्म का विरोध न करने की एवज में डेढ़ करोड़ रुपए मांगे थे।

 

फिल्म की रिलीज पर वसुंधरा राजे ने लिखी चिट्ठी... 

- सीएम वसुंधरा राजे ने सूचना प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी को लेटर में लिखा, "पद्मावती फिल्म को सर्टिफिकेट देने से पहले सेंसर बोर्ड सभी संभावित नतीजों पर विचार कर ले।"
- "इतिहासकारों, फिल्म एक्सपर्ट और राजपूत कम्युनिटी के मेंबर्स की कमेटी बनाई जानी चाहिए, ताकि फिल्म के सब्जेक्ट को देखा जा सके और जरूरी बदलाव किए जा सकें ताकि किसी भी समुदाय की भावनाएं आहत ना हों।"

 

दीपिका की नाक काटने की धमकी...

- करणी सेना के महिपाल मकराना ने कहा, "राजपूत कभी महिलाओं पर हाथ नहीं उठाते, लेकिन जरूरत पड़ी तो हम दीपिका पादुकोण का वही हाल करेंगे, जो लक्ष्मण ने शूर्पणखा का किया था।"
- संभल में प्रोटेस्टर्स ने पोस्टर लगाए गए। इनमें लिखा था कि संजय लीला भंसाली का सिर काटने वाले को 50 लाख इनाम।

 

जिनकी स्त्रियां रोज शौहर बदलती हैं वे जौहर क्या जानें...

- उज्जैन से बीजेपी के सांसद प्रो. चिन्तामणि मालवीय ने पद्मावती फिल्म के विरोध में एक फेसबुक पोस्ट लिखी।
- इसमें उन्होंने लिखा था, "मैं फिल्म पद्मावती का विरोध और बहिष्कार करता हूं। अपने शुभचिंतकों से अनुरोध करता हूं कि वे इस फिल्म को बिल्कुल न देखें। जिनकी स्त्रियां रोज शौहर बदलती हैं वे जौहर क्या जानें।

 

नाहरगढ़ किले पर लटकी मिली लाश...

नाहरगढ़ फोर्ट पर 29 नवंबर की सुबह एक शख्स की लाश लटकी मिली। पास में ही पत्थरों पर लिखा मिला कि पद्मावती का विरोध करने वालों हम सिर्फ पुतले नहीं जलाते हैं। मृतक का नाम चेतन सैनी (40) था, जो शास्त्री नगर इलाके का रहने वाला था। लड़के के पास से मुंबई का एक टिकट भी मिला था।

 

राजस्थान के राजघराने भी फिल्म के विरोध में आए...

- राजस्थान की राजपूत करणी सेना के अलावा राजघराने भी फिल्म के खिलाफ हैं। इनकी मांग है कि इसे रिलीज करने के पहले उन्हें दिखाई जाए। 
- जोधपुर के पूर्व राजघराने के गज सिंह के मुताबिक, "ऐतिहासिक फिल्मों के निर्माण का सार्थक प्रयास आज तक नहीं हुआ है। ऐसी फिल्मों का उद्देश्य सिर्फ मनोरंजन होता है, न कि इतिहास का सही प्रस्तुतिकरण। फिल्मकारों को ऐतिहासिक नामों के दुरुपयोग से दूर रहना होगा।"

 

पद्मावती की प्राइवेट स्क्रीनिंग पर सेंसर बोर्ड खफा...

- सेंसर बोर्ड के चेयरमैन प्रसून जोशी ने न्यूज एजेंसी से कहा, "सेंसर बोर्ड ने अभी तक न तो फिल्म देखी और न ही इसे सर्टिफिकेट दिया। लेकिन इसके मेकर्स की ओर से प्राइवेट स्क्रीनिंग करना और नेशनल चैनल्स पर फिल्म का रिव्यू करना बेहद अफसोसजनक है।"
- उन्होंने कहा, "एक तरफ फिल्म रिलीज की प्रॉसेस में तेजी लाने के लिए सेंसर बोर्ड पर दबाव डाला जा रहा है, दूसरी तरफ बोर्ड की प्रॉसेस को ही खत्म करने की कोशिश की जा रही है।"

 

फिल्म का नाम बदलने के साथ सेंसर ने किए ये बदलाव...

- 31 दिसंबर को सेंसर बोर्ड ने फिल्म 'पद्मावती' का नाम पद्मावत करने समेत 5 बदलाव करने के सुझाव दिए। साथ ही फिल्म को U/A सर्टिफिकेट देने का फैसला किया है। 
- इन बदलावों में किरदारों की गरिमा के मुताबिक घूमर डांस में सुधार, डिस्क्लेमर देना होगा कि यह सती प्रथा को महिमामंडित नहीं करती, फिल्म काल्पनिक होने का डिस्क्लेमर देना होगा। इसके अलावा ऐतिहासिक जगहों के गलत या भ्रामक संदर्भों को बदलना होगा। 

 

प्रसून जोशी को करणी सेना की धमकी के बाद मिली सिक्युरिटी...

सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी को करणी सेना ने धमकी दी कि उन्हें जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में घुसने नहीं दिया जाएगा। इसके बाद राजस्थान सरकार ने उन्हें सिक्युरिटी मुहैया कराने का आश्वासन दिया। राजस्थान के गृह मंत्री गुलाबचंद कटारिया के मुताबिक, जोशी को जेड प्लस सिक्युरिटी दी जाएगी। 

 

राजपूत महिलाओं ने दी जौहर की धमकी...

राजपूत समाज की कई महिलाओं ने धमकी दी कि अगर फिल्म रिलीज होती है तो वो सामूहिक रूप से जौहर कर लेंगी। 

 

कौन थीं रानी पद्मावती?

पद्मावती चित्तौड़ की महारानी थीं। उन्हें पद्मिनी भी कहा जाता है। वे राजा रतन सिंह की पत्नी थीं। उन्होंने जौहर किया था। उनकी कहानी पर ही संजय लीला भंसाली ने फिल्म बनाई है।