--Advertisement--

54 की उम्र में श्रीदेवी का निधन, क्या आप जानते हैं उनकी जिंदगी की ये 56 बातें

बॉलीवुड एक्ट्रेस श्रीदेवी को हार्ट अटैक से निधन हो गया है। फिल्म इंडस्ट्री में श्रीदेवी का 50 साल लंबा करियर रहा है।

Danik Bhaskar | Feb 25, 2018, 05:16 AM IST
बचपन में पेरेंट्स के साथ श्रीदेवी। बचपन में पेरेंट्स के साथ श्रीदेवी।

मुंबई. बॉलीवुड एक्ट्रेस श्रीदेवी का हार्टअटैक से निधन हो गया है। फिल्म इंडस्ट्री में श्रीदेवी का 50 साल लंबा करियर रहा है। श्रीदेवी के बड़े फैन संदीप मालानी ने DainikBhaskar.com के लिए कुछ समय पहले आरजे आलोक से एक्सक्लूसिव बात की थी और एक्ट्रेस की लाइफ से जुड़ी कई अनसुनी बातें शेयर की थीं। डालते हैं उनपर एक नजर...

  1. तीन दशकों तक एक साथ तीन-तीन फिल्म इंडस्ट्री में नंबर वन। ये हैं श्रीदेवी। 70 , 80 और 90 के दशक तक श्रीदेवी ने तमिल, तेलुगु और हिंदी इंडस्ट्री में नंबर वन की पोजीशन बरकरार रखी। मलयालम फिल्म इंडस्ट्री में 1977 में श्रीदेवी नंबर 1 पर थीं। उसके बाद एक लंबे ब्रेक के बाद जब श्रीदेवी ने 'इंग्लिश-विंग्लिश' से वापसी की तो भी उन्होंने शानदार काम किया। उनकी आखिरी रिलीज फिल्म 'मॉम' थी।
  2. श्रीदेवी अपने जमाने की इकलौती एक्ट्रेस थीं, जिन्होंने फिल्म की फीस 1 करोड़ से भी ज्यादा ली।
  3. श्रीदेवी की तीन ऐसी फिल्में हैं जो कि अभी तक रिलीज नहीं हुई हैं। उनमें विनोद खन्ना और ऋषि कपूर के साथ 'गर्जना' तो बनकर तैयार है। जबकि विनोद खन्ना, संजय दत्त, रजनीकांत और माधुरी दीक्षित के साथ 'जमीन' फिल्म आधी कम्प्लीट हुई थी। अमिताभ बच्चन, कमल हासन और जया प्रदा के साथ 'खबरदार' ठन्डे बस्ते में चली गई।

  4. श्रीदेवी ने 'सदमा' (1983), 'चांदनी' (1989), 'गर्जना' (1991), 'क्षणा क्षणम' (तेलुगु 1991) फिल्मों में गाने भी गाए थे।
  5. कई लोगों को लगता है कि श्रीदेवी की पहली हिंदी फिल्म 'जूली' थी, जिसमें उन्होंने लक्ष्मी की छोटी बहन का रोल निभाया था। जबकि सच ये है कि उन्होंने जूली से पहले भी एक हिंदी फिल्म की थी, जिसका नाम 'रानी मेरा नाम' था। इस फिल्म में श्रीदेवी ने हीरोइन के बचपन का रोल किया था।

आगे की स्लाइड्स में जानिए ऐसी ही और 20 बातें....

  1. श्रीदेवी की मातृभाषा तेलुगु थी, जबकि उनके पिता तमिल थे। श्रीदेवी का जन्म 11 अगस्त, 1963 को शिवकाशी में जो पटाखों के लिए भी मशहूर है। नाम रखा गया 'बेबी श्री अम्मा अयंगर अय्यपन' 
  2. श्रीदेवी की पहली फिल्म 1967 में 'टुनाईवान' थी।  उस वक्त उनकी उम्र 4 साल थी। 
  3.  हॉलीवुड के फिल्ममेकर स्टीवेन स्पीलबर्ग ने श्रीदेवी को अपनी फिल्म 'जुरासिक पार्क' में भी कास्ट करने की बात की थी, लेकिन डेट्स ना होने के कारण श्रीदेवी वो फिल्म नहीं कर पाईं।  
  4. कम ही लोगों को पता है कि 80 के दशक में श्रीदेवी की वजह से ही साउथ की फिल्मों को हिंदी में डब करके रिलीज करने की प्रक्रिया शुरू हुई।  इससे रजनीकांत, कमल हासन को भी काफी फायदा हुआ।  आज बड़े से लेकर छोटे परदे तक साउथ की हिंदी डब फिल्मों की भीड़ है।  
  5. साल 1991 में श्रीदेवी ने यश चोपड़ा की फिल्म 'लम्हे' की शूटिंग के दौरान अपने पिता को खो दिया। वो अंतिम संस्कार के लिए भारत आईं और फिर से लंदन जाकर अनुपम खेर और वहीदा रहमान के साथ फिल्म की शूटिंग शुरू कर दी। 
  1. श्रीदेवी ने सिर्फ 13 साल की उम्र में तमिल फिल्म 'मूंडरू मुदिछु' में रजनीकांत की सौतेली माँ का किरदार निभाया था, जो कि हीरोइन के तौर पर उनकी पहली फिल्म थी।  यही वो फिल्म थी, जिसमें पहली बार श्रीदेवी, कमल हासन और रजनीकांत ने एक साथ काम किया था।  
  2. तेलुगु फिल्मों में श्रीदेवी ने यंग सोभन बाबू का किरदार निभाया। बाद में सोभन बाबू के अपोजिट भी काम किया जब श्रीदेवी , सोभन बाबू की हीरोइन के रूप में दिखाई दी। ऐसा ही एनटीआर , एएनआर, एमजीआर , कृष्णा , शिवजी  गणेसन के साथ भी हुआ। सबके साथ श्रीदेवी ने चाइल्ड आर्टिस्ट के रूप में काम किया और बड़े होने पर उनकी हीरोइन का रोल भी निभाया।  
  3. श्रीदेवी हमेशा से ही एक शर्मीली लड़की के रूप में जानी जाती थीं। वो सेट पर भी किसी से ज्यादा बात नहीं करती थीं,  लेकिन कैमरा ऑन होते ही किरदार में घुसकर बेहतरीन परफ़ॉर्मेंस दिया करती थीं। वो ज्यादातर अपनी मां और छोटी बहन के साथ वक्त बिताती थीं। यहां तक की लोगों के साथ श्रीदेवी बस हेलो, हाय, नमस्ते इत्यादि कहकर मिल लेती थीं।  
  4. श्रीदेवी के करियर की सबसे महंगी फिल्म 'रूप की रानी चोरों का राजा' थी , जिसने बनने में 6 साल ले लिए। हालांकि फिल्म बॉक्स ऑफिस पर नहीं चली। 
  5. 'लाडला' ही एक ऐसी इकलौती फिल्म थी, जिसमें श्रीदेवी ने किसी और का रोल स्वीकार किया।  दरअसल वो रोल पहले दिव्या भारती कर रही थीं, लेकिन उनके देहांत के बाद श्रीदेवी ने वो रोल करने के लिए हां कहा और पूरी तरह से उस नेगेटिव किरदार को निभाया और फिल्म ब्लॉकबस्टर भी हुई। 
  1. श्रीदेवी ने ही फिल्मों में आधी साड़ी पहनने के ट्रेंड स्टार्ट किया। साउथ के बाद हिंदी फिल्मों में भी ये होने लगा।  80 के दशक में ज्यादातर हिंदी फिल्मों में राजेश खन्ना और जीतेन्द्र के अपोजिट  श्रीदेवी ने हाफ साड़ी पहनी थी।
  2.  श्रीदेवी ने ही 'अप्सरा लुक' कपड़ों की शुरुआत की, जो उन्होंने 'हिम्मतवाला' फिल्म में पहने थे। बाद में उस तरह के कपड़ों को जया प्रदा, मीनाक्षी शेषाद्रि , पद्मिनी कोल्हापुरे, मंदाकिनी और विद्या बालन ने भी पहना। यहां तक की साउथ में फिल्म एक्ट्रेसेस को 'श्रीदेवी लुक ' के कपड़े पहनने को दिए जाते थे। साउथ की लड़कियों को श्रीदेवी का उदाहरण दिया जाता था और वो उन सबके लिए आइकॉन थीं। 
  3. जब श्रीदेवी हिंदी फिल्मों में आईं तो वो हिंदी में कम्फर्टेबल नहीं थी, उनकी डबिंग 'नाज' किया की करती थीं। फिल्म 'आखिरी रास्ता' के लिए रेखा ने श्रीदेवी की डबिंग की और बाद में 'चांदनी' फिल्म से श्रीदेवी ने अपनी फिल्मों की डबिंग शुरू कर दी.
  4. श्रीदेवी को यश चोपड़ा 'A switch on and a switch off actress' कहा करते थे। कैमरा ऑन होते ही श्रीदेवी जैसे बदल जाती थीं... श्रीदेवी को कभी भी दुःख के सीन में आंसू बहाने के लिए ग्लिसरीन की जरूरत नहीं पड़ती थी 
  5. राजकुमार संतोषी की फिल्म 'हल्ला बोल' में पहली बार श्रीदेवी और बोनी कपूर एक साथ नजर आए थे। 
  1. श्रीदेवी को 'चांद का टुकड़ा', 'चांदनी', 'चंद्रमुखी', 'हवा हवाई' जैसे नामों से पुकारा जाता था , जो कि उनकी फिल्म के या गानों के टाइटल होते थे।  
  2. बचपन से लेकर बड़े होने तक श्रीदेवी ने कई फिल्मों में सांप के साथ काम किया। कई फिल्मों में बिना डरे श्रीदेवी ने सांप को हाथ में उठाया।  'नगीना', 'निगाहें'  और 'मकसद' उन फिल्मों में से हैं।  श्रीदेवी की ही इकलौती सांप वाली फिल्म 'नगीना' है,  जो थिएटर में एक साल से भी ज्यादा समय तक चली।  चित्रहार में काफी समय तक उसके गाने आते रहे और फिल्म गोल्डन जुबिली भी कहलाई। 
  3. श्रीदेवी इकलौती ऐसी अदाकारा थीं, जिन्होंने पिता पुत्र के साथ सबसे ज्यादा काम किया।  जैसे एएनआर-नागार्जुन, शिवाजी गणेसन -शिवाजी प्रभु , धर्मेंद्र-सनी देओल, विनोद खन्ना-अक्षय खन्ना।
  4. श्रीदेवी ने एक गाने में 15  अलग-अलग एक्ट्रेसेस के गेट अप्स लिए थे, जिनमें रेखा, हेमा मालिनी , वहीदा रहमान , माला  सिन्हा , नरगिस , मुमताज़  जैसी अभिनेत्रियों के गेट अप शामिल थे। 'नाकाबंदी' फिल्म में श्रीदेवी ने गब्बर सिंह का गेटअप भी लिया। 
  5. श्रीदेवी की तेलुगु फिल्मों के गीत 80  के दशक में हिंदी फिल्मों में पीटी यानी कसरत के रूप में प्रयोग में लाए जाते थे। कहा जाता था कि वो कसरत करने के लिए सबसे सही गाने हैं।