--Advertisement--

46 साल की तब्बू बोलीं- शादी से जुड़े सवाल पर होती है चिढ़, कभी हो गई थीं परेशान

'माचिस' और 'चांदनी बार' के लिए नेशनल अवॉर्ड जीत चुकीं तब्बू 24 साल से इंडस्ट्री में हैं।

Danik Bhaskar | Jan 28, 2018, 09:24 AM IST

मुंबई. 'माचिस' और 'चांदनी बार' के लिए नेशनल अवॉर्ड जीत चुकीं तब्बू 24 साल से इंडस्ट्री में हैं। एक तरफ उनकी रील लाइफ जितनी चमकदमक से भरी रही दूसरी तरफ उनकी रियल लाइफ उतनी ही गुमनाम। वे अब तक सिंगल हैं और जब भी कोई उनसे उनके सिंगल होने का कारण पूछता है तो उन्हें चिढ़ होती है। लोग पूछते थे- आप इतने दिनों से कहां गायब थीं?

तब्बू(46) ने कहा... 'एक समय मैं बहुत परेशान हो गई थी। जो भी मुझसे बात करता बस यही सवाल करता था। आप इतने दिनों से कहां गायब थीं? आप कम फिल्में क्यों करती हैं? आप सिंगल क्यों हैं? यकीन मानिए मुझे इन सवालों से बेहद चिढ़ होती है। चूंकि अब उम्र हो चुकी है तब जाकर सिंगल वाला सवाल थोड़ा कम पूछा जाता है। या तो लोगों ने मुझे सिंगल स्वीकार कर लिया है या फिर वे बार-बार एक ही सवाल पूछ कर थक गए हैं।'

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें, तब्बू ने और क्या कहा...

फिल्मों के सिलेक्शन को लेकर तब्बू ने ये कहा

 

फिल्मों के चुनाव को  लेकर अपनी सोच बताते हुए तब्बू कहती हैं, 'मैं किसी फिल्म के लिए तब हां करती हूं, जब उस फिल्म की कहानी या किरदार मुझे अपीलिंग लगे। जब तक मैं अंदर से कन्विंस नहीं होती, मैं हां नहीं कहती और एक बार अगर मैंने हां कह दी तो फिर मैं कभी असफल नहीं होती। कभी-कभी जब कहानी पढ़ते ही ऐसा फील होता है कि यह किरदार मुझपर बहुत सूट करेगा, तब बिना किसी सवाल के तुरंत फिल्म साइन कर लेती हूं।' 

अपने मुश्किल किरदार के बारे में भी बताया

 

अपने सबसे मुश्किल किरदार के बारे में बात करते हुए तब्बू ने कहा, 'आज के समय के जो भी रोल मिलते हैं उनमें 'दृश्यम' का किरदार सबसे मुश्किल था। इस किरदार का मिलना मेरे लिए बहुत बड़ी बात थी। मुझे उस रोल को निभाने में बहुत कठिनाई हुई थी क्योंकि इमोशनली वह किरदार कठिन था। इसमें एक ही किरदार में तीन किरदार थे। एक औरत, एक मां और एक आईजी ऑफिसर। बस, ऐसे किरदार जब मुझे मिल जाते हैं मैं तुरंत कर लेती हूं।'