--Advertisement--

मां की मदद के लिए पार्टियों में नाची, प्रॉस्टिट्यूट बनी, फिर बॉलीवुड ने बदली Life

शगुफ्ता फिल्म इंडस्ट्री में पर्दे के पीछे का वो नाम, जिसे कम लोग जानते हैं। उनके स्ट्रगल की स्टोरी बहुत दर्द भरी है।

Danik Bhaskar | Mar 08, 2018, 11:46 AM IST
शगुफ्ता रफीक महेश भट्ट के साथ। शगुफ्ता रफीक महेश भट्ट के साथ।

मुंबई. शगुफ्ता रफीक फिल्म इंडस्ट्री में पर्दे के पीछे का वो नाम है, जिसे कम ही लोग जानते हैं। लेकिन उनके स्ट्रगल की स्टोरी बहुत ही दर्द भरी है। कम ही लोग जानते होंगे कि 'आशिकी 2' जैसी फिल्मों की ये राइटर 17 साल की उम्र में प्रॉस्टिट्यूट बन गई थी। यह खुलासा खुद शगुफ्ता ने एक इंटरव्यू के दौरान किया था। उन्होंने कहा था, "साढ़े सत्रह साल की उम्र में मैं प्रॉस्टिट्यूट बन गई थी। एक अजनबी के साथ वर्जिनिटी खोना बहुत दर्दनाक होता है। 27 साल की उम्र तक मैं एक आदमी से दूसरे आदमी के पास जाती रही। मेरी मां यह जानती कि मैं प्रॉस्टिट्यूशन कर रही हूं।" मां को लेकर रहा कन्फ्यूजन...

शगुफ्ता ने इस इंटरव्यू में खुलासा किया था कि वे अपनी बायलॉजिकल मां को नहीं जानती थीं। उनके मुताबिक, वे अनवरी बेगम (जिन्होंने उन्हें गोद लिया था) को अपनी मां के रूप में देखती थीं। वे कहती हैं, "उस वक्त मेरे जन्म को लेकर तीन तरह की बातें कही जाती थीं। एक कि मैं अपने जमाने की फेमस एक्ट्रेस और डायरेक्टर बृज सदाना की पत्नी (कमल सदाना की मां) सईदा खान की बेटी हूं। दूसरी कि मैं किसी ऐसी मां की बेटी हूं, जिसने किसी अमीर आदमी से संबंध बनाए और पैदा करके मुझे छोड़ दिया। तीसरी यह कि मेरे पेरेंट्स झोपड़पट्टी में रहते हैं और उन्होंने मुझे फेंक दिया था। मैं दो साल की थी, जब सईदा की शादी बृज साहब से हुई। अक्सर, जब लोग मुझे अनवरी बेगम के साथ देखते थे तो कहते थे, 'नानी के साथ जा रही हो।'

आगे की स्लाइड्स में पढ़िए शगुफ्ता के स्ट्रगल की बाकी स्टोरी...

शगुफ्ता रफीक। शगुफ्ता रफीक।

मेरे साथ जानवरों की तरह सलूक हुआ

 

शगुफ्ता की मानें तो बचपन में लोग उन्हें हरामी लड़की कहा करते थे। इस वजह से वे रोया करती थीं और अकेली रहा करती थीं। वे कहती हैं, "कई ऐसे सस्पेंस थे, जिनकी वजह से मैं क्रूर हो गई। मैंने स्कूल छोड़ दिया। मैं लोगों से लड़ती थी। इसलिए नहीं कि मैं उनसे नफरत करती थी। बल्कि इसलिए कि मुझे लगता था कि वे मुझसे नफरत कर रहे हैं। फिर मैं सोचती कि ऐसी महिला क्यों होनी चाहिए, जो अपने पति के डर से मुझे अपना भी नहीं सकती। बच्चा तो एक कुत्ता भी पैदा करता है। मैं एक जानवर की तरह थी, जिसे पैदा किया और फेंक दिया। मैंने यह मानने से इनकार कर दिया कि अनवरी बेगम मेरी मां है। हालांकि, एक वही थीं, जो हमेशा मेरे साथ रहीं। अनवरी के दूसरे पति का नाम मोहम्मद रफीक था। यही वजह है कि मैं शगुफ्ता रफीक बन गई।"

शगुफ्ता रफीक। शगुफ्ता रफीक।

बृज साहब करते थे नफरत


"बृज साहब मुझे नफरत करते थे। क्योंकि उन्हें नहीं पता था कि मैं कौन हूं। इसकी एक वजह यह भी थी कि हम (अनवरी बेगम और शगुफ्ता रफीक) उनपर फाइनेंशियली निर्भर थे। बृज साहब का गुस्सा जायज था। उन्हें लगता था कि जब अनवरी बेगम का एक बेटा है तो वे क्यों उनकी मदद करें। वे बहुत कन्फ्यूजन में थे। उनकी फ़िल्में फ्लॉप हो रही थीं और यही वजह है कि उन्होंने शराब के नशे में पत्नी सईदा, बेटी नम्रता और खुद को गोली मार ली। नौकरानी ने हमें आकर यह बताया। तब मैं 25 साल की थी, जब सईदा आपा की डेथ हो गई।"

शगुफ्ता रफीक और इमरान हाशमी। शगुफ्ता रफीक और इमरान हाशमी।

पैसों के लिए नाचना शुरू किया


शगुफ्ता आगे बताती हैं, "जब मैंने देखा कि मेरी मां अनवरी बेगम, जो कभी बहुत धनी हुआ करती थी, ने सरवाइव करने के लिए पहले अपनी चूड़ियां और बाद में बर्तन तक बेच डाले। तब मैंने कत्थक सीखा। जब मैं 12 साल की थी, तब मैंने प्राइवेट पार्टियों में नाचना शुरू कर दिया। इन पार्टियों में सम्मानित लोग मिस्ट्रेस और कॉल गर्ल्स के साथ आते थे। इनमें हाई रैंकिंग ऑफिसर्स, पुलिस, मंत्री, इनकम टैक्स ऑफिसर्स पैसा उड़ाते थे और मैं उसे झोली में समेट लिया करती थीं। 17 साल की उम्र तक मैंने यही सब किया।"

महेश भट्ट के साथ शगुफ्ता रफीक। महेश भट्ट के साथ शगुफ्ता रफीक।

27 साल की उम्र में दुबई चली गईं

 

शगुफ्ता के मुताबिक, 17 से 27 साल तक वे प्रॉस्टिट्यूशन में रहीं। इसके बाद किसी ने सलाह दी कि उन्हें दुबई जाना चाहिए। क्योंकि वहां वे बार डांसर बनकर 10 गुना ज्यादा पैसा कमा सकती हैं। शगुफ्ता ने ऐसा ही किया। वे दुबई गईं। लेकिन अरब लोगों के डर से वे वहां प्रॉस्टिट्यूशन से दूर रहीं। जब उनकी मां बीमार पड़ी तो उन्हें मुंबई लौटना पड़ा। इस दौरान वे मुंबई और बेंगलुरु में शोज करती रहीं। 1999 में शगुफ्ता की मां अनवरी बेगम की कैंसर के चलते डेथ हो गई।

शगुफ्ता रफीक, महेश भट्ट, बिपाशा बसु और विक्रम भट्ट। शगुफ्ता रफीक, महेश भट्ट, बिपाशा बसु और विक्रम भट्ट।

2006 में मिला लिखने का मौक़ा


शगुफ्ता के मुताबिक, 2002 में 36 साल की उम्र में एक मुलाकात के दौरान उन्होंने महेश भट्ट से कहा कि वे लिखना चाहती हैं। हालांकि, 2006 तक मौक़ा नहीं मिला। मोहित सूरी की फिल्म 'कलयुग' के दो सीन लिखने के बाद उन्हें 'वो लम्हे', 'आवारापन', 'राज 2', 'जिस्म 2', 'मर्डर 2', 'राज 3' और 'आशिकी 2' जैसी फिल्मों के लिए लिखने का मौक़ा मिला। शगुफ्ता महेश भट्ट को अपने जुड़वां भाई के रूप में देखती हैं। उनके मुताबिक, उनकी और महेश भट्ट की जन्मतिथि एक ही है।