--Advertisement--

बुखार होते हुए भी कई घंटे पानी में रही थीं श्रीदेवी, कुछ ऐसा था उनका डेडिकेशन

श्रीदेवी के निधन को 13 दिन बीत चुके हैं। लेकिन अब भी यह यकीन कर पाना मुश्किल हो रहा है कि वे अब हमारे बीच नहीं हैं।

Danik Bhaskar | Mar 09, 2018, 05:31 PM IST
श्रीदेवी 'गुमराह' के एक सीन में। श्रीदेवी 'गुमराह' के एक सीन में।
मुंबई. 54 साल की श्रीदेवी के निधन को 13 दिन बीत चुके हैं। लेकिन अब भी यह यकीन कर पाना मुश्किल हो रहा है कि वे अब हमारे बीच नहीं हैं। डायरेक्टर-प्रोड्यूसर महेश भट्ट ने अब उनका एक किस्सा शेयर किया है, जो उनकी फिल्म 'गुमराह' की शूटिंग के दौरान हैं। 24 फरवरी 2018 को जिस श्रीदेवी की मौत महज डेढ़ फीट गहरे बाथटब में डूबने से हो गई। वही श्रीदेवी 1993 में आई फिल्म 'गुमराह' की शूटिंग के वक्त बुखार होते हुए भी कई घंटे तक पानी के अंदर रही थीं। यह है महेश भट्ट का पूरा स्टेटमेंट...

-एक अंग्रेजी वेबसाइट से बातचीत में महेश ने कहा, "फिल्म 'गुमराह' की शूटिंग के वक्त श्रीदेवी के साथ एक वाटर सीक्वेंस की डिमांड थी। मुझे पता चला कि उन्हें बुखार है तो हमने शूटिंग को पोस्टपोन करने का विचार किया।"
- "मैंने श्रीदेवी से उनके कमरे में जाकर रिक्वेस्ट की कि उनकी हालत बेहद खराब हैं। इसलिए हम शूटिंग तक शुरू करेंगे, जब वे एकदम ठीक हो जाएंगी। लेकिन जब श्रीदेवी ने मेरा प्रस्ताव अस्वीकार कर दिया तो मैं सरप्राइज रह गया।"
- महेश भट्ट ने आगे कहा, "श्रीदेवी को बुखार था, लेकिन वे शूट के लिए कई घंटों तक पानी में रहीं। वे इतनी प्रोफेशनल थीं कि उन्होंने एक शब्द भी उस वक्त नहीं कहा। मैं उनके स्प्रिट को सलाम करता हूं।"
बुखार में 'चालबाज' का गाना भी किया था शूट, पढ़ें आगे की स्लाइड्स...

बुखार में 'चालबाज' का गाना किया था शूट


- श्रीदेवी पूरी तरह प्रोफेशनल थीं और उन्होंने कभी भी अपनी वजह से शूट कैंसिल नहीं होने दिया। 
- इसका उदाहरण 1989 की फिल्म 'चालबाज' के सेट पर भी देखने को मिला था। 
- इस फिल्म के सॉन्ग 'न जाने कहां से आई है' की शूटिंग के दौरान श्रीदेवी को 104 डिग्री बुखार था।  लेकिन उन्होंने बिना किसी शिकायत के शूट पूरा किया था। 


पिता की मौत के बाद भी जारी रखी थी शूटिंग, पढ़ें आगे की स्लाइड्स...

पिता की मौत के बाद भी जारी रखी थी शूटिंग

 

- 1991 में श्रीदेवी ने यश चोपड़ा की फिल्म 'लम्हे' की शूटिंग के दौरान अपने पिता को खो दिया। वो अंतिम संस्कार के लिए भारत आईं और फिर से लंदन जाकर अनुपम खेर और वहीदा रहमान के साथ फिल्म की शूटिंग शुरू कर दी थी।
- एक इंटरव्यू के दौरान श्रीदेवी ने कहा था, "जब फिल्म में एक भाई, पिता या भाई की मौत होती थी, तब मैं इतना रोती थी कि मेरी आंखों में दर्द होने लगता था। लेकिन जब मेरे पिता (अयप्पन अय्यर) का निधन हुआ तो यह कोई ड्रामा या हिस्टीरिया नहीं था। फिल्म में आप ऑडियंस को कन्विंस करना होता है कि आप दुखी हैं। आप सिर्फ आर्ट फिल्मों में डेथ सीन के लिए रो सकते हैं। लेकिन मैंने कभी आर्ट फिल्म नहीं की।"