विज्ञापन

MOVIE REVIEW: चोर चोर सुपर चोर

Dainik Bhaskar

Aug 02, 2013, 12:00 AM IST

इस तीक्ष्ण व्यंग्य में निर्देशक ने मध्यमवर्गीय को हाईलाइट किया है।

chor chor super chor movie review
  • comment
दिल्ली में बढ़ रहे छोटे-मोटे अपराधों और तेजी से गिरती नैतिकता को 'चोर चोर सुपर चोर' में बतौर व्यंग्य प्रस्तुत किया गया है। यहां तक कि फिल्म का कैप्शन 'सीजन 1' देने के पीछे एक दिलचस्प कारण है।
'चोर चोर सुपर चोर' की कहानी रियलटी शो में बढ़ रहे शालीनता के अपमान पर आधारित है। निर्देशक के. राजेश, अनिल थॉमस और वी. राधाकृष्णन ने इस स्क्रिप्ट के जरिए मेट्रो सिटी में बढ़ रहे अपराधों को कॉमिक लहजे में पर्दे पर दिखाया है। फिल्म में बेहद खूबसूरत से यह दिखाया गया है कि कैसे एक मिडल क्लास अच्छी ज़िंदगी के लिए तरसता है।
इस तीक्ष्ण व्यंग्य में निर्देशक ने मध्यमवर्गीय को हाईलाइट किया है। फिल्म की स्टोरी दर्शकों को बांधे रखने में कामयाब होती है। किरदारों को आम ज़िंदगी के बेहद करीब रखा गया है। ऐसे लोग दिल्ली के मॉल्स, हाईवे और अंधेरी गलियों में आसानी से मिल जाते हैं।
दीपक डोबरियाल के अलावा जितने भी किरदार फिल्म में हैं, वे सभी थिएटर आर्टिस्ट द्वारा निभाए गए हैं। ये एक्टर्स शायद ही कभी फिल्मी पर्दे पर देखे गए हैं।
इससे कहानी की विश्वसनीयता प्राकृतिक रूप से बढ़ जाती है। फिल्म को दो हिस्सों में बांटा गया है। पहले हिस्से में फिल्म के किरदार छोटे-मोटे अपराधियों के रूप में नज़र आते हैं। दूसरे हिस्से में दूसरा हिस्सा काफी शानदार है, जिसमें इन किरदारों की ज़िंदगी में रियलटी टीवी शो एंट्री लेता है। यहां पर डायरेक्टर ने बेहद खूबसूरती से नौकरीपेशा लोगों के सामने आने वाली चुनौतियों को दिखाया है।
फिल्म की कहानी ओरिजनल और दमदार है। इसे बहुत ही समझदारी से फिल्माया गया है। क्लाइमेक्स में पहुंचकर फिल्म थोड़ी सी भटक जाती है। इसका दोष उसके गानों को दिया जा सकता है क्योंकि गानों को ऐसी जगह इस्तेमाल किया गया है, जहां उनकी कोई गुंजाइश नहीं थी।
'चोर चोर सुपर चोर' न्यू एज सिनेमा का शानदार उदाहरण है। फिल्म के प्लॉट को विजुअल्स और इमोशन्स में खूबसूरती से बुना गया है। डोबरियाल व अन्य एक्टर्स की परफॉर्मेंस दर्शकों के लिए किसी तोहफे से कम नहीं रहेगी। यह एटंरटेनिंग फिल्म एक बहुत बड़ा सरप्राइज पैकेज है, जिसे एक बार ज़रूर देखना चाहिए।

X
chor chor super chor movie review
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें