--Advertisement--

MOVIE REVIEW: चेन्नई एक्सप्रेस

'चेन्नई एक्सप्रेस' बॉक्स ऑफिस पर दौड़ गई है तो जरा इसकी कहानी पर आप गौर फरमाइए।

Dainik Bhaskar

Aug 09, 2013, 12:05 AM IST
Movie review of Chennai Express

अगर आप शाहरुख़ ख़ान की चेन्नई एक्सप्रेस को इस साल की बिगेस्ट रिलीज़ मान रहे हैं तो गलत हो सकते हैं। बिगेस्ट तो नहीं, लेकिन यह फिल्म ऐसी है कि अगर आप इसे देखेंगे तो गारंटी बोर नहीं होंगे और अगर ना देखी तो भी चलेगा। यानी कहानी कुछ ऐसी नहीं है जो आपने पहले कभी न सुनी हो। लेकिन हां, कॉमेडी एंटरटेनिंग है।

40 साल का सिंगल मर्द अपनी मर्ज़ी से ज़िंदगी जीना चाहता है। पहले दादा जी राहुल से अधिक प्यार करने के चलते उसे शादी करने नहीं देते। फिर उनकी मौत के बाद जब राहुल गोवा जाने वाला होता है, तब दादी जी राहुल को दादा जी की आखिरी इच्छा पूरी करने के लिए रामेश्वरम भेजना चाहती है। दादी को बेवकूफ बनाकर गोवा जाने के चक्कर में उसे चेन्नई एक्सप्रेस पकड़नी पड़ती है। बस उसी ट्रेन में हीरो यानी शाहरुख़ हीरोइन यानी दीपिका को उसके गुंडे भाइयों से बचाने की कोशिश करता है और यहीं से दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे के स्टाइल में चल पड़ती है लव एक्सप्रेस।

चेन्नई में कोम्बन गांव के डॉन की बेटी होती है मीणा, जो अपने अप्पा की पसंद के लड़के से शादी नहीं करना चाहती और भाग रही होती है। इसी चक्कर में डॉन राहुल की ज़िंदगी का भी दुश्मन बन जाता है। फिर कैसे राहुल हिम्मत जुटाता है और अपने से कई ज़्यादा तगड़े गुंडों और डॉन दुर्गेशवर से भिड़ता है और अंत मे दिमाग नहीं दिल से सभी को जीतता है। यही है चेन्नई एक्सप्रेस की कहानी।

रोहित शेट्टी की इस कॉमेडी-एक्शन फिल्म में एक्शन तो है, लेकिन एकदम आम। इसलिए फिल्म में सिंघम, दबंग और खिलाड़ी के एक्शन की उम्मीद न करें। जहां तक बात कॉमेडी की है तो थिएटर में कई लोग आपको हंसते नज़र आएंगे। इसकी 3 वजहें हैं-

1- आमतौर पर भी जब कोई आपके सामने जानबूझकर किसी ऐसी भाषा का इस्तेमाल करता है जो आप समझते नहीं हैं तो आपको हंसी आती है। बिल्कुल ऐसे ही फिल्म में कॉमेडी की अहम वजह है तमिल भाषा, जो दीपिका यानी चेन्नई की मीनाम्मा उर्फ मीना लोचनी तो ठीक से जानती है, लेकिन मुंबई के रहने वाले शाहरुख़ नहीं समझते और तमिल भाषा के हर शब्द का अलग ही मतलब निकाल लेते हैं। गलत उच्चारण भी करते हैं। इसी वजह से लोगों को हंसी आ जाती है।

हालांकि, ये ख़बरें भी थीं कि साउथ इंडियन कम्युनिटी ने इस पर एतराज़ भी जताया है। लेकिन तब दीपिका ने यह सफाई दी थी कि रोहित शेट्टी और वो खुद भी साउथ इंडियन ही हैं, इसलिए ऐसा नहीं करेंगे।

जैसे - दीपिका के पिता का किरदार निभा रहे सत्यराज जब शाहरुख़ से तमिल भाषा में बात करते हैं और कहते हैं कि तमिल तेरी मां?

तब तमिल भाषा नहीं जानने वालों को हंसी आती है।

इसके जवाब में शाहरुख़ कहते हैं- यह मेरी मां के बारे में क्या बोल रहे हैं?

दिलचस्प बात है कि कहानी में कॉमेडी के लिए शाहरुख़ ने अपनी ख़ास फिल्मों की लाइनें ही चुनी हैं।

जैसे- आई एम राहुल एंड आई एम नॉट अ टेरेरिस्ट।

इस बात में कोई दो राय नहीं है कि शाहरुख़ को रोमांटिक और डॉन वाले किरदार ज़्यादा सूट करते हैं। शाहरुख़ ने इस फिल्म के साथ पहली बार फुल कॉमेडी में हाथ आज़माया है। कहीं-कहीं पर आपको शाहरुख़ के एक्स्ट्रा एफर्ट्स ज़रूर नज़र आएंगे। फिर भी शाहरुख़ ने कॉमेडी इसिलए खींच ली, क्योंकि साजिद और फरहाद ने कॉमेडी डायलॉग्स अच्छे लिखे हैं।

रोहित शेट्टी की फिल्म और गाड़ियों के साथ स्टंट्स ना हो, ऐसा हो नहीं सकता। लेकिन ख़ास बात यह है कि फिल्म में डबल मीनिंग कॉमेडी नहीं है यानी पूरा परिवार इस फिल्म को साथ बैठकर देख सकता है।

इसके अलावा फिल्म देखने की 5 वजह हैं-

1- सुपरस्टार शाहरुख़ ख़ान जो करोड़ों दिलों की धड़कन का बादशाह है। इस बार सलमान नहीं, बल्कि शाहरुख़ ने ईद पर फिल्म रिलीज़ की है। ऐसे में खान की ब्रांड वैल्यू और भी बढ़ जाती है। फिर शाहरुख़ की पॉपुलरिटी तो सात समंदर पार भी है। अब तो सलमान और शाहरुख़ दोस्त भी बन गए हैं। यानी सलमान के फैंस शाहरुख़ के। ऐसे में टिकट खिड़की पर लाइन लगनी तो तय है।

2- फिल्म में कोई भी इंटीमेट सीन नहीं है। ऐसे में आप पूरे परिवार के साथ यह फिल्म देखने जा सकते हैं।

3- साल 2007 में दीपिका ने शाहरुख़ के अपोज़िट फिल्म ओम शांति ओम में अपना डेब्यू किया था। ऐसे में दर्शक यह ज़रूर जानना चाहेंगे कि इस बार दोनों की जोड़ी क्या कमाल दिखाती है।

4- शाहरुख़ को दीपिका से जब कोई सीक्रेट बात कहनी होती है तब वो गाना गाकर अपनी बात कहते हैं और दीपिका भी हिंदी में गाना गाकर जवाब देती है, ताकि उनका कोई तमिलभाषी रिश्तेदार समझ न जाए। यह फिल्म का बेस्ट पार्ट है।

साउथ की स्टार प्रियमणी का आइटम नंबर आपका दिल लुभाएगा और आपको डांस फ्लोर पर जाने के लिए मदद करेगा।

5- डायरेक्शन में रोहित शेट्टी की अपनी छाप है। आप यह भी कह सकते हैं कि यह फिल्म शाहरुख़ नहीं, रोहित शेट्टी की है। इससे पहले भी रोहित गोलमाल सीरीज़ की फिल्मों से कॉमेडी में अपनी स्टैंप लगा चुके हैं। रोहित की कॉमेडी फिल्म बोल बच्चन और एक्शन फिल्म सिंघम ने भी बॉक्स ऑफिस पर अच्छा किया था। कॉमेडी में रोहित की महारत देख ही शाहरुख़ ने इस फिल्म के लिए पहली बार में हामी भर दी थी।

खुद साउथ इंडियन होने का रोहित और दीपिका ने पूरा फायदा उठाया। फिल्म के तमिल कैरेक्टर्स वाले एक्टर्स के चुनाव में कोई कमी नहीं थी। फिल्म में दिखाया गया साउथ का सेट-अप आपको यही याद दिलाता रहेगा कि आप चेन्नई में हैं। दीपिका का एक्सेंट और कहानी में दिखाई गई साउथ की खूबसूरती आपको पसंद आएगी।

गोवा, हैदराबाद और मुंबई के अलावा फिल्म की शूटिंग केरल में भी हुई। Devikulam झील, Meesapulimala, Wagavara और Kannimala में भी कई सीन्स शूट किए गए हैं।

लेकिन फिल्म की इन 3 वजहों के चलते आपको मायूसी भी हो सकती है-

1- फिल्म के अंत में सुपरस्टार रजनीकांत को ट्रिब्यूट दिया गया है। गाने का नाम है लुंगी डांस। यह वो गाना है जिसमें लोग सबसे ज़्यादा एन्जॉय कर सकते हैं। लेकिन हनी सिंह की इस पेशकश को एंड में रखा गया है, जब जनता थिएटर छोड़कर जाने लगती है। वहीं, फिल्म के बाकी गाने जिनका म्यूज़िक विशाल शेखर ने दिया है, वो ठीक-ठाक हैं। लेकिन गाने इतने भी अच्छे नहीं हैं कि आप बार-बार सुनना चाहें।

2- फिल्म में शाहरुख़ 40 के दिखाए गए हैं। शायद रोहित ने भी पहचान लिया कि अब बादशाह के चेहरे से उनकी उम्र का पता चलने लग गया है और आप तो जानते ही हैं कि दीपिका को दर्शक रणबीर जो उनकी उम्र के ही हैं, के साथ ज़्यादा पसंद करती है। वैसे तो दीपिका फिल्म में बेहद खूबसूरत लग रही हैं, लेकिन कहीं-कहीं पर आपको दोनों की जोड़ी बेमेल लगेगी।

3- कहीं-कहीं पर आपको यह भी लगेगा कि शाहरुख़ कॉमेडी में पास होने के लिए एक्स्ट्रा एफर्ट्स लगा रहे हैं। अगर आप शाहरुख़ के फैन हैं तो उनकी ओवरएक्टिंग भी पसंद कर लेंगे। वरना यह मेहनत साफ नज़र आएगी।

हमारी तरफ से इस फिल्म के लिए साढ़े तीन स्टार्स।

X
Movie review of Chennai Express
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..