--Advertisement--

SRK को पापा नहीं ये कहकर बुलाती है सुहाना, इन्होंने भी बताएं एक्सपीरियंस

चिल्ड्रन डे के अवसर पर dainikbhaskar.com ने बॉलीवुड के कलाकारों से कुछ पूछे सवाल।

Dainik Bhaskar

Nov 14, 2017, 01:29 PM IST
शाहरुख खान और सुहाना खान। शाहरुख खान और सुहाना खान।
पिता, एक ऐसा रिश्ता, जिसके बारे में कम ही बात की जाती है। एक इंसान, जो चुपचाप बस अपने बच्चों के होंठों पर मीठी मुस्कान देखने के लिए दिन-रात पसीना बहाता रहता है। उसकी आंखों में नजर आने वाला गुस्सा महज इस बात की गवाही और संतोष है कि बच्चे सही राह पर चलते रहें। यूं, कुछ फादर दोस्तों जैसे भी होते हैं, वे खूब खुलकर बच्चों से बात करते हैं। सवाल ये कि जब ये बच्चे खुद पिता बन जाते हैं तो किस तरह पिता के संग अपने रिश्ते को याद करते हैं और क्या बताते हैं - खुद के बच्चों के साथ उनका रिश्ता कैसा है... ये भी कि कितना अलग है ये संबंध...। चिल्ड्रन डे के अवसर पर फहीम रूहानी और ओंकार कुलकर्णी ने बॉलीवुड के कलाकारों से पूछे सवाल। शाहरुख खान को पापा नहीं ब्रो कहकर बुलाती है सुहाना...
सुहाना मुझे 'ब्रो' कहती है
शाहरुख खान ने बताया पिता और बच्चे, दोनों से मेरा रिश्ता बिल्कुल अलग नहीं है। दुर्भाग्यवश मेरे बच्चे, मेरे पेरेंट्स को नहीं देख सके हैं। मैं दोनों से अपने रिश्ते को एक जैसा ही पाता हूं। बहुत कम उम्र में मेरे पिता की मृत्यु हो गई थी, लेकिन हमारा रिश्ता बेहद दोस्ताना था। हम एक-दूसरे से कुछ भी कह सकते थे, जिस तरह से चाहें - बात कर सकते थे। मैं अपनी बेटी से भी 'कूल' लहजे में बातें करता हूं। ऑफकोर्स, बेटे से भी, क्योंकि ये तो ब्वॉय टू ब्वॉय वाली चीज हो जाती है। जिस तरह से मैं अपने बच्चों के साथ होता हूं, वो बहुत सामान्य और वयस्कों की तरह होने वाली बात है। सुहाना हमेशा चाहती है कि सेट पर आए और मेरे साथ थोड़ा वक्त बिताए। सेट पर मौजूद लोग ये देखकर अक्सर हैरत में पड़ जाते हैं कि बच्चे मेरे साथ दोस्ताना लहजे में बात करते हैं। सुहाना मुझे 'ब्रो' कहती है और आर्यन पापा बुलाते हैं।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें अन्य सेलेब्स ने क्या-क्या बताया...
मंसूर अली खां पटौदी और सेफ अली खान। मंसूर अली खां पटौदी और सेफ अली खान।
अब्बा मुझसे बेहतर इंसान थे
सैफ अली खान ने बताया, बेहद व्यक्तिगत सवाल है। इसके जवाब में मैं बहुत थोड़ा ही कहना चाहूंगा। एक अभिभावक के रूप में बच्चों के लिए जो कुछ आप करते हैं, वो उनके लिए प्रासंगिक होता है। इससे वे प्रभावित होंगे कि उन्हें कैसा बनना चाहिए, या फिर नहीं होना चाहिए। बहुत सी चीजें हैं, जो मैं अपने पिता की तुलना में एकदम अलग तरीके से करता हूं। मैं ये कहते हुए थोड़ा झिझकता हूं कि एक पुरुष, पति और बतौर पिता मेरे वालिद मुझसे ऊंचे दर्जे के इंसान थे। शायद, ऐसा होना भी चाहिए। उम्मीद करता हूं कि मेरा बेटा भी ऐसी ही बात कहेगा। 
फरहान अख्तर और जावेद अख्तर। फरहान अख्तर और जावेद अख्तर।
बच्चे चाहते हैं पर्सनल स्पेस 
फरहान अख्तर का कहना है, मैं जब छोटा था, तब मेरे पिता घर पर कम ही रह पाते थे, लेकिन मेरे बच्चे मुझे ज्यादा वक्त के लिए अपने पास मौजूद पाते हैं। (मुस्कुराते हैं) मुझे नहीं पता कि मेरी बेटियां "लकी' हैं या नहीं! हो सकता है कि वे अपना व्यक्तिगत स्पेस चाहती हों और मैं ज्यादा दखल दे रहा हूं। सच तो ये है कि जब मैं थोड़ा बड़ा हुआ तो पिता के साथ और वक्त बिताने लगा था। मुझे नहीं लगता कि जितना वक्त अकीरा मेरे साथ रहती है, मैं उतना समय डैड के संग रह पाया। शायद यही सबसे बड़ा अंतर है। 
 
X
शाहरुख खान और सुहाना खान।शाहरुख खान और सुहाना खान।
मंसूर अली खां पटौदी और सेफ अली खान।मंसूर अली खां पटौदी और सेफ अली खान।
फरहान अख्तर और जावेद अख्तर।फरहान अख्तर और जावेद अख्तर।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..