विज्ञापन

मूवी रिव्यूः चौराहें

dainikbhaskar.com

Mar 16, 2012, 07:11 PM IST

'चौराहें' मुंबई, कोच्ची और कोलकाता जैसे शहरों में रह रहे लोगों की कहानी है।

chaurahen movie review
  • comment

'चौराहें' मुंबई, कोच्ची और कोलकाता जैसे शहरों में रह रहे लोगों की कहानी है। इसमें फारू(अंकुर खन्ना) और इरा(सोहा अली खान) मुंबई में रहते हैं। डॉक्टर सिद्धार्थ(विक्टर बनर्जी) और उसकी पत्नी राधा(रूपा गांगुली) कोलकाता में रहते हैं। नंदी(कार्तिक कुमार) और उसका नायर परिवार कोच्चि में रहते हैं।









स्टोरी ट्रीटमेंटःचौराहें में तीनों शहरों में तीन कहानियां अलग-अलग चलती रहती हैं और उनमें आपस में कोई संबद्धता नहीं है। वह सब कहानियां एक दूसरे के समांतर चलती हैं और पर्दे पर इसको कहने की शैली बहुत कमजोर है। यह दर्शकों को बांधकर नहीं रख पाती। तीन अलग शहरों की कहानी होने के कारण फिल्म दर्शकों को खुद से जोड़ पाने में असफल रहती है। यथार्थपरक और कलात्मक दृश्यों में भी यह दर्शकों में भावुकता नहीं जगा पाती।





स्टार कास्टःसोहा अली खान ने ऐसी भूमिका चुनी है, जिसमें सादगी है। नायिकाओं के पास परफॉर्म करने के लिए कोई स्कोप नहीं है। अंकुर खन्ना अपने मां-बाप की यादों से अवसादग्रस्त होने वाले दृश्य में प्रभावी असर छोड़ते हैं। विक्टर बनर्जी और रूपा गांगुली ने अपनी भूमिकाएं ठीक से निभाए हैं। लेकिन कीरा चैप्लिन अपनी भूमिका में दर्शकों पर कोई असर नहीं छोड़ पाती। कार्तिक कुमार भी संवेदनशील भावनाओं को व्यक्त करने के लिए मशक्कत करते नहीं दिखते। जीनत अमान ने तो बिल्कुल ही निष्प्रभावी एक्टिंग की हैं।






निर्देशनःराजश्री ओझा 'चौराहें' के निर्देशन में बॉक्स ऑफिस पर कोई प्रभाव छोड़ने में असफल हैं। निर्देशक ने कोशिश की है कि सिनेमा को कुछ अलग तरीके से निर्देशित किया जाय लेकिन सबकुछ गलत दिशा में जाता दिखता है।






डायलॉग्स/सिनेमेटोग्राफी/म्यूजिक:इस फिल्म में अधिकांश संवाद अंग्रेजी में है। हिंदी में कम संवाद हैं। कुछ संवाद प्रभावी हैं लेकिन वह भी भावनाओं को सही ढ़ंग से व्यक्त करने में सक्षम नहीं हैं। 87 मिनट के इस सिनेमा में कोई गाना नहीं है।






क्यूं देखें:फिल्म का हिंग्लिश में होना बड़े दर्शक वर्ग से जुड़ने में बाधक है। कोई अच्छी कहानी नहीं होने के कारण लोगों के टिकट खिड़की से दूर ही रहने की संभावना है। सोहा और जीनत असर डालने में असफल रहे हैं। प्रशंसक जो स्क्रीन पर किसी भी हाल में उनको देखना पसंद करेंगे, वही बस टिकट खरीद सकते हैं।



X
chaurahen movie review
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन