रिव्यूज़

--Advertisement--

मूवी रिव्यू: 'तेरे नाल लव हो गया'

'तेरे नाल लव हो गया' कहानी है मिनी (जेनेलिया डिसूजा) की जिससे शहर का हर लड़का शादी करना चाहता है।

Dainik Bhaskar

Feb 25, 2012, 12:13 PM IST

कहानी:फिल्म 'तेरे नाल लव हो गया' कहानी है मिनी (जेनेलिया डिसूजा) की जिससे शहर का हर लड़का शादी करना चाहता है। इसकी केवल यह वजह नहीं है कि मिनी खूबसूरत है, बल्कि उसके पास कनाडा का पासपोर्ट है और अपने अमीर पिता भट्टी (टीनू आनंद) की करोड़ों की जायदाद की वह वारिस भी है।

भट्टी साहब को अपनी बेटी की शादी की बहुत जल्दी है और वे तेजी से लड़का ढूंढ रहे हैं। मिनी अभी शादी नहीं करना चाहती और किसी भी तरह से वह इससे बच निकलना चाहती है।

मिनी की मुलाकात होती है वीरेन (रितेश देशमुख) से जो मिनी के डैडी की कंपनी में ही नौकरी करता है और उसका कैरेक्टर अच्छा नहीं है।अपनी शादी को बचाने के लिए वीरेन से मिलकर मिनी अपना किडनैपिंग का प्लान बनाती है और गायब हो जाती है। दोनों के बीच रोमांस हो जाता है। फिर देखने को मिलता है एक ड्रामे से भरपूर क्लाइमेक्स।

स्टोरी ट्रीटमेंट:रोमांस को देसी अंदाज में पेश करने में रितेश-जेनेलिया काफी हद तक सफल हुए हैं। फिल्म के जरिए उनकी कमाल की कॉमिक टाइमिंग उभर कर सामने आई है। फिल्म के काफी दृश्य आपको हंसने पर मजबूर कर देते हैं। मगर बेवजह खींची गई स्टोरी फिल्म को उबाऊ बना देती है और क्ला इ मेक्स तक पहुंचते-पहुंचते फिल्म दम तोड़ देती है।

स्टार कास्ट:फिल्म का सारा दारोमदार जेनेलिया के कन्धों पर टिका हुआ नजर आता है। फिल्म में उन्होंने अभी तक की सबसे बढ़िया परफ़ॉर्मेंस दी है। रितेश ने भी बढ़िया एक्टिंग की है और किरदार को नेचुरल तरीके से निभाया है। ओम पूरी, टीनू आनंद और स्मिता जयकार ने अपने किरदारों के साथ न्याय किया है। आईटम गर्ल के रूप में वीना मलिक बहुत ही असहज नज़र आई हैं।



निर्देशन:निर्देशक ने क्यूट कपल रितेश-जेनेलिया की रियल लाइफ केमिस्ट्री को ऑन स्क्रीन भी जमकर भुनाने का प्रयास किया है| जैसे जैसे कहानी रफ़्तार पकड़ती है यह दोनों एक दूसरे के प्रति लगाव को महसूस करने लग जाते हैं| मगर कहीं कहीं ओवर मेलोड्रामे की वजह से फिल्म उबाऊ लगने लगती है|


म्यूज़िक/डायलॉग्स/सिनेमटोग्राफी:म्यूज़िक कमजोर है। सचिन-जिगर अपने संगीत से छाप छोड़ने में नाकामयाब साबित हुए हैं। डायलॉग्स कहानी को थोड़ा रोचक बनाने में सहायक साबित होते है| एडिटिंग और सिनेमटोग्राफी पक्ष भी कमजोर है।

क्यों देखें:रितेश-जेनेलिया की शानदार केमिस्ट्री और डायलॉग्स फिल्म की खासियत है। वीकेंड में कुछ करने लायक न हो तो एक बार देख सकते हैं।






X
Click to listen..