सितारों के जन्मदिन

--Advertisement--

कैंटीन चलाते-चलाते ऐसे यूसुफ खान से दिलीप कुमार बने ट्रेजडी किंग

दिलीप कुमार 95 साल के हो गए हैं। उनका जन्म 11 दिसंबर, 1922 को पेशावर पाकिस्तान में हुआ था।

Danik Bhaskar

Dec 11, 2017, 02:02 PM IST
दिलीप कुमार और सायरा बानो। दिलीप कुमार और सायरा बानो।

दिलीप कुमार 95 साल के हो गए हैं। उनका जन्म 11 दिसंबर, 1922 को पेशावर पाकिस्तान में हुआ था। कई सुपरहिट फिल्मों में काम करने वाले दिलीप की जिंदगी में एक वक्त ऐसा भी था जब कैंटीन में काम करते थे और बाद में खुद की एक कैंटीन खोल ली थी। फिल्मों में डेब्यू करने से पहले उन्होंने देविका रानी के कहने पर अपना नाम बदलकर दिलीप कुमार रखा था। दिलीप कुमार ने 1944 में फिल्म 'ज्वार भाटा' से अपना एक्टिंग करियर शुरू किया था। हालांकि, उनकी ये फिल्म असफल रही थी। उनकी पहली हिट फिल्म 'जुगनू' (1947) थी। बर्थडे के मौके पर आपको दिलीप कुमार से जुड़ी कुछ बातें बताने जा रहे हैं। फलों का बिजनेस करते थे दिलीप कुमार के पिता...

दिलीप कुमार के पिता लाला गुलाम सरवर पेशावर में फलों का बिजनेस करते थे। आगे चलकर दिलीप कुमार के पिता ड्राइ फ्रूट्स का बिजनेस करने लगे और मुंबई आ गए। कुछ वक्त बाद उन्होंने अपनी पूरी फैमिली को पेशावर से मुंबई बुलवा लिया। दिलीप कुमार ने मुंबई में ही अपनी पढ़ाई पूरी की। आपको बताते चले कि पेशावार में दिलीप कुमार और राज कपूर पड़ोसी हुआ करते थे।


आगे की स्लाइड्स में पढ़ें दिलीप कुमार की जिंदगी से जुड़ी कुछ और दिलचस्प बातें...

फिल्म 'नया दौर' में वैजयंतीमाला और दिलीप कुमार। फिल्म 'नया दौर' में वैजयंतीमाला और दिलीप कुमार।

घरवालों से हुई अनबन
दिलीप कुमार की घरवालों के साथ किसी बात को लेकर अनबन हो गई और वे मुंबई छोड़कर पुणे चले गए। पुणे में वे एक कैंटीन में काम करने लगे। कैंटीन में काम करते-करते कुछ समय बाद उन्होंने खुद का कैंटीन खोल लिया। उन्हें बिजनेस में सफलता मिलने लगी और घरवालों से भी रिेलेशन बेहतर होने लगे। इसी बीच उन्होंने मुंबई वापस जाने का फैसला किया। घर आकर उन्होंने बिजनेस में कमाए सारे पैसे मां को दे दिए और मुंबई में काम ढूंढने लगे। 

फिल्म 'आन' में नादिरा और दिलीप कुमार। फिल्म 'आन' में नादिरा और दिलीप कुमार।

और मिली बॉम्बे टॉकीज में नौकरी
दिलीप कुमार नौकरी पाने के लिए यहां-वहां भटक रहे थे तो एक दिन एक परिचित से मुलाकत हो गई। उन्होंने बताया कि वे नौकरी की तलाश में है। इस पर उनका परिचित उन्हें बॉम्बे टॉकीज की मालकिन देविका रानी के पास ले गया। यहां देविका रानी ने उन्हें 1250 रुपए महीना सैलेरी पर काम पर रख लिया। दिलीप कुमार को यकीन नहीं हो रहा था कि उन्हें इतनी सैलेरी मिलेगी क्योंकि उस जमाने में ये बहुत बड़ी रकम मानी जाती थी। 

फिल्म 'आजाद' में दिलीप कुमार और मीना कुमारी। फिल्म 'आजाद' में दिलीप कुमार और मीना कुमारी।

देविका रानी को पसंद आया दिलीप कुमार का लुक
दिलीप कुमार की आदत थी वे हमेशा अप-टू-डेट रहते थे। उनका लुक देविका रानी को पसंद आया था। उन्होंने दिलीप कुमार से कहा कि वे नई फिल्म बना रही हैं, जिसमें वे हीरो होंगे। और इस तरह दिलीप साहब का एक्टिंग सफर शुरू हुआ। लेकिन देविका को उनका नाम पसंद नहीं था। उन्होंने दिलीप साहब को कुछ नाम सुझाए और उन्होंने अपना नाम दिलीप कुमार रख लिया। इस तरह यूसुफ खान, दिलीप कुमार बन गए।

फिल्म 'शक्ति' में दिलीप कुमार और अमिताभ बच्चन। फिल्म 'शक्ति' में दिलीप कुमार और अमिताभ बच्चन।

कई स्टार्स के साथ किया काम
दिलीप कुमार ने अपने करियर में बॉलीवुड के कई स्टार्स के साथ काम किया है। इन्हीं में से एक है अमिताभ बच्चन। दोनों एकमात्र फिल्म 'शक्ति' में साथ काम किया था। इस फिल्म के लिए दिलीप कुमार को बेस्ट एक्टर का फिल्म फेयर अवॉर्ड मिला था। एक वक्त ऐसा भी था जब अमिताभ बच्चन, दिलीप साहब का ऑटोग्राफ लेने के लिए रेस्टोरेंट के बाहर आधा घंटा तक खड़े रहे थे। 

Click to listen..