--Advertisement--

इस एक्ट्रेस के प्यार में पागल थे गोविंदा, शादी के बाद भी भूल नहीं पाए थे

बॉलीवुड में कॉमेडी किंग के नाम से पहचाने जाने वाले गोविंदा 54 साल के हो चुके हैं।

Danik Bhaskar | Dec 21, 2017, 12:04 AM IST
गोविंदा के साथ नीलम। गोविंदा के साथ नीलम।

मुंबई। बॉलीवुड में कॉमेडी किंग के नाम से पहचाने जाने वाले गोविंदा 54 साल के हो चुके हैं। 21 दिसंबर, 1963 को जन्मे गोविंदा ने 1986 में आई फिल्म 'लव 86' से करियर शुरू किया था। कहा जाता है कि फिल्मों में साथ काम करते-करते गोविंदा को एक्ट्रेस नीलम से प्यार हो गया था। एक एंटरटेनमेंट पोर्टल में छपे आर्टिकल के मुताबिक, गोविंदा नीलम से शादी करना चाहते थे। हालांकि, गोविंदा की मां चाहती थी कि वे डायरेक्टर आनंद सिंह की साली यानी सुनीता (वर्तमान में गोविंदा की वाइफ हैं) से शादी करें। गोविंदा कभी मां की बात नहीं टालते थे, इसलिए उन्होंने नीलम को छोड़ सुनीता से शादी की। छुपाई थी शादी की बात...


गोविंदा ने मां के कहने पर मार्च 1987 में सुनीता से शादी की। उन्होंने अपनी शादी की बात सभी से छुपाकर रखी थी। ऐसा इसलिए ताकि उनका करियर प्रभावित न हो। गोविंदा की शादी की बात तब सामने आई थी, जब बेटी टीना (नर्मदा) का जन्म हुआ था। आर्टिकल के मुताबिक, गोविंदा ने 1990 में एक मैगजीन को दिए इंटरव्यू में कहा था कि अपनी शादी के बाद भी वे नीलम को भूले नहीं थे। उन्होंने नीलम के साथ कई फिल्में की। वे चाहते थे कि नीलम सिर्फ उनके साथ ही स्क्रीन शेयर करें।


आगे की स्लाइड्स पर, ऐसे हुई थी गोविंदा से नीलम की पहली मुलाकात...

गोविंदा और नीलम। गोविंदा और नीलम।

गोविंदा ने नीलम को पहली बार व्हाइट शॉर्ट्स में देखा...

- प्राणलाल मेहता के ऑफिस में गोविंदा ने नीलम को पहली बार देखा था। उन्होंने इंटरव्यू में बताया, ''उस वक्त नीलम ने व्हाइट कलर की शॉर्ट्स पहन रखी थीं। उनके लंबे बाल देखकर ऐसा लगा जैसे वो कोई परी हों। 
- जैसे ही नीलम ने हैलो कहा, मुझे जवाब देने में डर लग रहा था, क्योंकि मेरी अंग्रेजी अच्छी नहीं थी। उस वक्त मैं सोच में पड़ गया कि फिल्म के सेट पर मैं उनके साथ कैसे कम्युनिकेट कर पाऊंगा। लेकिन धीरे-धीरे हमारी दोस्ती हो गई। 
- मैं सेट पर उन्हें जोक्स सुनाकर खूब हंसाता था। हम मिलने लगे और धीरे-धीरे मैं नीलम को पसंद करने लगा। उनके प्रति मेरा झुकाव भी बढ़ने लगा। वो एक ऐसी लेडी थीं, जिन्हें प्यार किए बिना कोई नहीं रह सकता था। मैं भी उन्हें चाहने लगा था।"

 

शादी के वक्त सुनीता के साथ गोविंदा। शादी के वक्त सुनीता के साथ गोविंदा।

सुनीता से ऐसे शुरू हुई रिलेशनशिप...

- गोविंदा सुनीता के साथ कभी सीरियस रिलेशनशिप नहीं बनाना चाहते थे। वे अपनी फिल्मों की शूटिंग में बिजी रहते थे। इसी बीच एक दिन फिल्म के सेट पर उनके बड़े भाई कीर्ति आए। उस दौरान वे एक रोमांटिक सीन शूट कर रहे थे। लेकिन वे सीन को करने में असहज थे। 
- बाद में गोविंदा से कीर्ति ने कहा, "रोमांस का एक्सपीरियंस लेने के लिए तुम्हें किसी से अफेयर करना चाहिए, ताकि तुम समझ सको कि किसी लड़की को बांहों में कैसे लिया जाता है।" 
- भाई की बात को ध्यान में रखते हुए उन्होंने सुनीता से मुलाकात की। धीरे-धीरे सुनीता के साथ उनका इन्वॉल्वमेंट बढ़ता गया और उन्होंने खुद को सुनीता के प्रति समर्पित कर दिया।

 

गोविंदा और नीलम। गोविंदा और नीलम।

नीलम को लेकर जुनूनी थे गोविंदा...

- सुनीता के साथ रिलेशनशिप में होने के बावजूद गोविंदा नीलम को लेकर बहुत ज्यादा पजेसिव थे। गोविंदा फिल्मों की शूटिंग में बिजी रहने लगे और इसी बीच सुनीता के मन में इनसिक्युरिटी का भाव आने लगा। 
- छोटी-छोटी बातों को लेकर दोनों में झगड़े भी होने लगे। इसी बीच, सुनीता ने नीलम के बारे में कुछ ऐसा कह दिया कि गोविंदा अपना आपा खो बैठे और उन्होंने सुनीता से अपनी सगाई तक तोड़ दी थी। 
- पांच दिन तक दोनों में कोई बातचीत नहीं हुई और गोविंदा ने तय कर लिया कि वे नीलम से ही शादी करेंगे। वे मानते थे कि नीलम उनके लिए बेहतर लाइफ पार्टनर है।

 

भाई कीर्ति और मां निर्मला देवी के साथ गोविंदा। भाई कीर्ति और मां निर्मला देवी के साथ गोविंदा।

मां की बात नहीं टालते थे गोविंदा...

- गोविंदा मां (निर्मला देवी) की बात कभी नहीं टालते थे। उनकी मां चाहती थी कि वे सुनीता से शादी करें। 
- मां की बात मानते हुए गोविंदा ने मार्च 1987 में सुनीता में शादी की। लेकिन उन्होंने नीलम से अपनी शादी की बात छुपाकर रखी। ऐसा इसलिए कि वे नीलम के साथ फिल्मों में अपनी हिट जोड़ी तोड़ना नहीं चाहते थे। 
- हालांकि, अपनी इस हरकत पर उन्हें अफसोस भी हुआ था। उन्हें बाद में लगा कि नीलम से उन्हें खुद की शादी की बात नहीं छुपानी चाहिए थी।

 

गोविंदा और नीलम। गोविंदा और नीलम।

नीलम को चाहते थे गोविंदा, लेकिन उनकी तरफ से ऐसा कुछ नहीं...

गोविंदा नीलम से बेइंतहा प्यार करते थे, लेकिन नीलम की तरफ से ऐसा कुछ भी नहीं था। हालांकि, गोविंदा ने भी कभी नीलम के सामने अपने प्यार का इजहार नहीं किया था। बावजूद इसके वे उन्हें चाहते थे, उन्हें ही अपने लिए परफेक्ट मानते थे। साथ ही उन्हें ये भी लगता था कि नीलम के लिए शायद ही दुनिया में उनसे बेहतर कोई और है।

 

गोविंदा और नीलम। गोविंदा और नीलम।

नीलम की फिल्म कई बार देखी गोविंदा ने... 

बता दें कि फिल्म 'इल्जाम' (1986) गोविंद की पहली रिलीज फिल्म थी, जिसमें नीलम उनकी को-स्टार थी। जब गोविंदा पहली बार नीलम से मिले थे, तो उनकी सादगी पर इतने फिदा हो गए थे कि उन्होंने उनकी पहली फिल्म 'जवानी' (1984) कई बार देखी। 

 

जूही चावला और दिव्या भारती के साथ गोविंदा। जूही चावला और दिव्या भारती के साथ गोविंदा।

दिव्या और जूही को लेकर भी रहा सॉफ्ट कॉर्नर...

इतना ही नहीं, गोविंदा जूही चावला और दिव्या भारती के प्रति भी आकर्षित हुए थे। गोविंदा ने जूही के साथ 'स्वर्ग' (1990) 'कर्ज चुकाना है' (1991), 'भाभी' (1991) सहित अन्य फिल्मों में काम किया। वहीं, गोविंदा ने दिव्या भारती के साथ 'जान से प्यारा' (1992) और 'शोला और शबनम' (1992) फिल्म में काम किया।

 

गोविंदा और नीलम। गोविंदा और नीलम।

इन फिल्मों में साथ दिखे गोविंदा-नीलम...

बता दें कि गोविंदा और नीलम ने फिल्म 'लव 86' (1986), 'खुदगर्ज' (1987), 'सिंदूर' (1987), 'हत्या' (1988), 'घराना' (1989), 'दोस्त गरीबों का' (1989), 'दो कैदी' (1989), 'फर्ज की जंग' (1989), 'बिल्लू बादशाह' (1989), 'ताकतवर' (1989), 'जोरदार' (1996) में साथ काम किया।