--Advertisement--

पद्मावत: जिस सीन को लेकर मचा बवाल, उस पर दीपिका ने किया ये खुलासा

डायरेक्टर संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावत' का करणी सेना ने जमकर विरोध किया।

Danik Bhaskar | Jan 30, 2018, 12:40 PM IST
दीपिका पादुकोण। दीपिका पादुकोण।

मुंबई. फिल्म 'पद्मावत' की रिलीज के बाद दीपिका पादुकोण ने इससे जुड़ी कुछ बातें शेयर की। DainikBhaskar.com से खास बातचीत में दीपिका ने कहा कि शूटिंग के दौरान गर्मी ज्यादा पड़ रही थी। इसके अलावा, किरदार की डिमांड के चलते उन्हें हैवी गहने और पहनने पड़ते थे। इस वजह से वे बेहद परेशान हो जाया करती थीं। उनकी मानें तो जब किसी शॉट में रीटेक होते थे तो वे पहले अपनी वैनिटी वैन में जाकर नहाती थीं और वापस आने के बाद फिर से सीन को शूट करती थीं। एक टेक में शूट किया था यह डायलॉग..

- दीपिका ने बताया, "फिल्म के अंत में जौहर सीन से पहले डायलॉग है, वो मैंने एक टेक में पूरा किया। इसके लिए संजय सर ने मेरी तारीफ भी की।"
- बता दें कि वह डायलॉग,'चित्तौड़ के आंगन में एक और लड़ाई होगी जो न किसी ने देखी होगी न सुनी होगी...और वो लड़ाई हम क्षत्राणियां लड़ेंगी...और यही अलाउद्दीन के जीवन की सबसे बड़ी हार होगी...' था।

...और फिल्म का हिस्सा बन गई थीं दीपिका

- दीपिका पादुकोण के मुताबिक, 'बाजीराव मस्तानी' की शूटिंग के दौरान संजय लीला भंसाली ने उनसे 'पद्मावत' के बारे में बात की थी। इसके कुछ समय बाद ही उन्हें फिल्म के लिए कास्ट कर लिया गया।

ड्रीम सीक्वेंस विवाद पर दीपिका ने क्या कहा, पढ़िए दीपिका के इंटरव्यू की ऐसी ही बातें आगे की स्लाइड्स में...

अलाउद्दीन खिलजी के रोल में रणवीर सिंह और पद्मावती के किरदार में दीपिका पादुकोण। अलाउद्दीन खिलजी के रोल में रणवीर सिंह और पद्मावती के किरदार में दीपिका पादुकोण।

ड्रीम सीक्वेंस विवाद पर दीपिका ने ये कहा

 

- ड्रीम सीक्वेंस विवाद पर DainikBhaskar.com से बातचीत में दीपिका ने कहा, "मेरा और रणवीर का साथ में कोई भी सीन नहीं था। इस वजह से हमने कभी भी साथ शूटिंग नहीं की।"
- दीपिका ने इस दौरान रणवीर और शाहिद के युद्ध सीन की तारीफ की। उन्होंने कहा कि उन्हें ये सीन गजब का लगा।

जावेद अख्तर ने दी मदर इंडिया की उपाधि 

 

- दीपिका कहती हैं, "मैं, जावेद अख्तर साहब और संजय (भंसाली) सर  थिएटर में खड़े थे। जावेद साहब ने फिल्म देखने के बाद कहा कि यह मेरी 'मदर इंडिया' है । इससे बड़ा कॉम्प्लीमेंट और क्या हो सकता है। मेरे लिए वह बहुत ही इमोशनल मोमेंट था। फिल्म देखने के बाद हम सभी की आंखों में आंसू थे।"

पूरे परिवार ने बेंगलुरु में देखी फिल्म

 

- बकौल दीपिका, "हम लोग फैमिली हॉलिडे पर बाहर गए थे। तभी मेरे जन्मदिन पर ( 5 जनवरी ) फिल्म के सेंसर सर्टिफ़िकेट की ख़बर आई, जिसे सुनकर मैं बेहद खुश हुई।"
- "मेरे पूरे परिवार ने फिल्म बेंगलुरु में देखी। मैनें उनके साथ फेसटाइम पर बातचीत की, उन्हें बहुत गर्व हुआ कि उनकी बेटी ने ऐसा रोल निभाया। उन्हें भरोसा नहीं था कि उनकी बेटी कुछ ऐसा कर जाएगी।"
- "मैं घरवालों को फिल्म की कहानी और शूटिंग से दूर रखती हूं। कभी नहीं बताती की कहानी क्या है। मैं हमेशा चाहती हूं कि वो उसे महसूस करें। मैं घर से दूर रहती हूं, लेकिन घरवालों को पता है कि मैं अपना ख्याल खुद रख सकती हूं।"

कोई और एतिहासिक रोल निभाने पर

 

 

- दीपिका कहती हैं, "फिलहाल मुझे नहीं लगता कि मैं कोई ऐसा एतिहासिक या बायोपिक का किरदार कर पाऊंगी।  क्योंकि रानी पद्मावती का किरदार काफी समय तक मेरे दिल के करीब रहने वाला है। रानी के किरदार से मैंने उनका साहस और पावर लिया है, जो मेरे साथ ताउम्र रहेगा। उस किरदार को क्रॉस कर पाना आसान नहीं होगा।"